पेट्रोल-डीजल की आसमान छूती किमतों से राहत का कोई संकेत नहीं

जेटली ने कांग्रेस शासनकाल के दौरान पेट्रोल-डीजल की बढ़ी कीमतों की सुषमा स्वराज और उनके खुद के द्वारा की गयी आलोचना का बचाव करते हुए कहा कि उस समय मुद्रास्फीति दहाई अंकों में थी.

भाषा
Updated: September 5, 2018, 11:25 PM IST
पेट्रोल-डीजल की आसमान छूती किमतों से राहत का कोई संकेत नहीं
वित्त मंत्री अरुण जेटली.
भाषा
Updated: September 5, 2018, 11:25 PM IST
केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बुधवार को भी पेट्रोल-डीजल की आसमान छूती कीमतों में राहत देने के लिए उत्पाद शुल्क में कटौती के कोई संकेत नहीं दिये. उन्होंने कहा कि कच्चे तेल की अंतरराष्ट्रीय कीमतों में उतार-चढ़ाव हो रहा है और इनमें कोई तय बदलाव नहीं दिख रहा है. (पेट्रोल-डीजल की कीमतें रिकॉर्ड स्तर पर, अब क्या करेगी सरकार?)

जेटली ने कांग्रेस शासनकाल के दौरान पेट्रोल-डीजल की बढ़ी कीमतों की सुषमा स्वराज और उनके खुद के द्वारा की गयी आलोचना का बचाव करते हुए कहा कि उस समय मुद्रास्फीति दहाई अंकों में थी. यदि हम उस समय आलोचना नहीं करते तो यह कर्तव्यों से विमुख होना होता. उन्होंने कहा कि भारत कच्चे तेल का शुद्ध खरीदार है और जब इसकी कीमतें अल्पकालिक तौर पर भी ऊपर जाती हैं, भारत पर गहरा प्रतिकूल असर होता है. उन्होंने इन्हें बाह्य कारक करार दिया.

जेटली ने कहा, ‘‘कच्चे तेल की वैश्विक कीमतों में कोई स्पष्ट नियमित बदलाव नहीं होता है. ये ऊपर जाती हैं और गिर जाती हैं. अप्रैल और मई में काफी दबाव रहा था. जुलाई में ये नीचे आईं और अगस्त में ये पुन: चढ़ गईं. पिछले दो दिनों में इनमें सुधार देखा गया है.’’ उनसे पेट्रोल-डीजल की सर्वकालिक ऊंची कीमतों तथा इनमें कटौती की विपक्ष की मांग के बारे में पूछा गया था.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 5, 2018, 11:25 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...