जलियांवाला बाग राष्ट्रीय स्मारक से कांग्रेस अध्यक्ष का नाम हटाना चाहती है सरकार: कांग्रेस

जलियांवाला बाग राष्ट्रीय स्मारक (संशोधन) विधेयक, 2019 पर लोकसभा में चर्चा की शुरूआत करते हुए कांग्रेस के गुरजीत सिंह औजला ने सरकार पर इतिहास को खत्म करने का भी आरोप लगाया.

भाषा
Updated: August 2, 2019, 4:37 PM IST
जलियांवाला बाग राष्ट्रीय स्मारक से कांग्रेस अध्यक्ष का नाम हटाना चाहती है सरकार: कांग्रेस
जलियांवाला बाग राष्ट्रीय स्मारक संशोधन बिल पर लोकसभा में कांग्रेस का हंगामा (फाइल फोटो)
भाषा
Updated: August 2, 2019, 4:37 PM IST
जलियांवाला बाग राष्ट्रीय स्मारक के न्यासियों में से कांग्रेस अध्यक्ष का नाम हटाने के प्रावधान वाले विधेयक को स्मारक से कांग्रेस का नाम हटाने की साजिश करार देते हुए कांग्रेस ने शुक्रवार को इसे वापस लेने की मांग की.

जलियांवाला बाग राष्ट्रीय स्मारक (संशोधन) विधेयक, 2019 पर लोकसभा में चर्चा की शुरूआत करते हुए कांग्रेस के गुरजीत सिंह औजला ने सरकार पर इतिहास को खत्म करने का भी आरोप लगाया.

औजला ने विधेयक का विरोध किया और कहा कि जलियांवाला बाग कांड के बाद स्मारक बनाने के लिए जमीन कांग्रेस पार्टी ने दी थी और स्मारक बनाने का फैसला किया था. इसलिए इसके न्यासी में कांग्रेस के अध्यक्ष का नाम है.

उन्होंने कहा कि आजादी से पहले और आजादी के बाद कांग्रेस के कई नेताओं ने बलिदान दिये, इसलिए पार्टी के नेता का नाम ट्रस्टियों में होना चाहिए. औजला ने आरोप लगाया, ‘‘यह विधेयक केवल स्मारक से कांग्रेस का नाम हटाने की साजिश के साथ लाया गया है.’’ कांग्रेस सांसद ने भाजपा के मातृ संगठन का भी नाम लिया और कहा कि इस संगठन के किसी नेता ने आजादी की लड़ाई में भाग नहीं लिया और शहादत नहीं दी.

इस पर भाजपा के कुछ सदस्यों ने विरोध दर्ज कराया और दोनों पक्षों में नोकझोंक भी देखी गयी. औजला ने विधेयक को वापस लेने की मांग की. इससे पहले विधेयक पेश करते हुए संस्कृति मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने कहा कि यह विधेयक स्मारक से राजनीतिकरण समाप्त कर उसका राष्ट्रीयकरण करने का है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 2, 2019, 4:37 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...