Assembly Banner 2021

जल्लीकट्टू महोत्सवः क्या है तमिल परंपरा और कैसे होती है सांडों की ट्रेनिंग

जल्लीकट्टू में भाग लेने वाले सांडों की एक विशेष प्रजाति होती है.

जल्लीकट्टू में भाग लेने वाले सांडों की एक विशेष प्रजाति होती है.

Jallikattu: जल्लीकट्टू विशुद्ध ग्रामीण खेल है, जो तमिलनाडु की प्राचीन परंपरा से जुड़ा है. कुछ लोग इसका इतिहास ढाई हजार वर्ष पुराना बताते हैं. खेल की शुरुआत ई.पू. 400-100 के बीच मानते हैं, जिसे तमिल शास्त्रीय काल कहा जाता

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 5, 2021, 7:01 PM IST
  • Share this:
चेन्नई. तमिलनाडु (Tamilnadu) में पोंगल पर्व यानि मकर संक्रांति (Makar Sankranthi) के अवसर पर होने वाले प्रसिद्ध जल्लीकट्टू (Jallikattu) खेल के लिए सांडों (Bulls) को ट्रेनिंग देने का काम जारी है. आयोजन से दस दिन पूर्व से ही सांडों और खिलाड़ियों के रजिस्ट्रेशन और मेडिकल टेस्ट का काम भी शुरू हो गया है.

कहां का जल्लीकट्टू है प्रसिद्ध
तमिलनाडु का मदुरई (Madurai) इलाका जल्लीकट्टू का सबसे बड़ा केंद्र है. उसमें भी तीन स्थान सबसे प्रसिद्ध हैं. नंबर एक पर है अलंकानालुर (Alankanallur) का जल्लीकट्टू, जिसे देखने विदेशी पर्यटक भी आते हैं. वहां 17 जनवरी को इवेंट होगी. वैसे शुरुआत तो अवनियापुरम् (Avaniyapuram) से पोंगल (Pongal Festival) के दिन यानि 15 जनवरी को हो जाएगी. 16 जनवरी को पालामेडू (Palamedu) में जल्लीकट्टू खेला जाएगा. दूसरे इलाकों में यह खेल अलग-अलग दिनों में खेला जाता है और लगभग एक सप्ताह तक चलता है.

ये भी पढ़ें- देश में कब, कहां होंगी 10वीं 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं, हर राज्य की डिटेल
कैसे खेलते हैं जल्लीकट्टू


जल्लीकट्टू दरअसल सांडों को काबू में करने का खेल है. विशेष तरीके से प्रशिक्षित सांडों को एक बंद स्थान से छोड़ा जाता है, बाहर खेलने वालों की फौज मुस्तैद खड़ी रहती है. बेरिकेटिंग से बाहर बड़ी संख्या में दर्शक इसका आनंद उठाने के लिए जमे रहते हैं. जैसे ही सांड छोड़ा जाता है, वह भागते हुए बाहर निकलता है, लोग उसे पकड़ने के लिए टूट पड़ते हैं. असली काम सांड के कूबड़ को पकड़कर उसे रोकना और फिर सींग में कपड़े से बंधे सिक्के को निकालना होता है. लेकिन बिगड़ैल और गुस्सैल सांड को काबू में करना आसान नहीं होता. अधिकांश को असफलता हाथ लगती है और कई लोग इस कोशिश में चोटिल भी हो जाते हैं. इस कवायद में कइयों की जान भी चली जाती है. लेकिन परंपरा और रोमांच से जुड़े इस खेल के प्रति खिलाड़ियों और दर्शकों का जुनून गजब का होता है. जो विजयी होते हैं उनको ईनाम मिलता है. अब तो बेटिंग भी होने लगी है.

जल्लीकट्टू की प्राचीन परंपरा
जल्लीकट्टू विशुद्ध ग्रामीण खेल है, जो तमिलनाडु की प्राचीन परंपरा से जुड़ा है. कुछ लोग इसका इतिहास ढाई हजार वर्ष पुराना बताते हैं. खेल की शुरुआत ई.पू. 400-100 के बीच मानते हैं, जिसे तमिल शास्त्रीय काल कहा जाता है. तमिल संस्कृति के जानकार बताते हैं कि यह खेल अय्यर लोगों में प्रचलित था, जो तमिलनाडु के मुल्लै नामक भूभाग में रहते थे, जो अभी का मदुरई इलाका है. सांड के सींग में जो कपड़े से सिक्का बांधा जाता है, वहीं इसके मूल में है. बताते हैं कि ‘जल्ली’ शब्द दरअसल तमिल के ‘सल्ली’ से बना है, जिसका अर्थ ‘सिक्का’ है और कट्टू का अर्थ ‘बांधा हुआ’ होता है. कई स्थानों पर शादी के स्वयंवर के तौर पर सांड पकड़ने की परपंरा का उल्लेख मिलता है. कभी शौर्य और वीरता का पर्याय रहा यह उत्सव अब महज खेल और मनोरंजन के रुप में परिवर्तित हो चुका है. लेकिन तमिल लोगों में इसका क्रेज जबर्दस्त है.

सांडों को दिया जाता है प्रशिक्षण
जल्लीकट्टू में भाग लेने वाले सांडों की एक विशेष प्रजाति होती है. इसको पालने वाले साल भर इसे खूब खिला-पिलाकर मजबूत बनाते हैं. पर्व नजदीक आने पर इनको विशेष ट्रेनिंग दी जाती है. मदुरई के गांवों में सांडों को सुबह-शाम रियाज कराने का काम होता है. इसके तहत रोज बड़े जलाशय में तैराकी करायी जाती है. एक और विशेष ट्रेनिंग होती है जिसे तमिल में मान कुत्थाल ( Mann kuthal) कहते हैं. इसमें सांड अपनी सींग से जमीन खोदते हैं. यह ट्रेनिंग बहुत विशिष्ट और श्रमसाध्य होती है. प्रशिक्षण पाए सांड का फिर मेडिकल टेस्ट होता है और तब जाकर जल्लीकट्टू के लिए उनका रजिस्ट्रेशन होता है. इसमें भाग लेने वाले खिलाड़ियों को भी रजिस्ट्रेशन और मेडिकल टेस्ट से गुजरना पड़ता है. कोविड के चलते इस बार नियम थोड़ा और सख्त है.

ये भी पढ़ें- ममता बनर्जी को लगा एक और झटका, खेल मंत्री लक्ष्मी रतन शुक्ला ने दिया इस्तीफा

विवाद और प्रतिबंध
पिछले कुछ वर्षों में जल्लीकट्टू को लेकर विवाद भी हुआ और मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा. पशुप्रेमियों की एक संस्था की अपील पर सुप्रीम कोर्ट ने 2014 में इस खेल पर रोक लगा दी. कहा गया कि जानवरों पर अत्याचार होता है, सैकड़ों लोग घायल होते हैं और कई लोग जान गंवा बैठते हैं. लेकिन परंपरा और आस्था का हवाला देकर पूरा तमिलनाडु फैसले के खिलाफ आंदोलित हो गया. आम तमिलियन से लेकर फिल्म और राजनीति से जुड़े लोग भी जल्लीकट्टू को जारी रखने के पक्ष में गोलबंद हो गये. सीएम ने प्रधानमंत्री से मिलकर हस्तक्षेप करने की गुहार लगाई. सुपरस्टार रजनीकांत से लेकर कमल हासन तक आम लोगों की भावना के साथ खड़े रहे. आखिरकार एक अध्यादेश के जरिये खेल की परंपरा को जारी रखने की अनुमति दे दी गई.

बुलफाइटिंग नहीं है जल्लीकट्टू
अधिकांश लोग जो इस खेल की पद्धति और परंपरा से अनभिज्ञ हैं वो इस खेल की तुलना स्पेन की बुलफाइटिंग (Bullfighting) से करते हैं. लेकिन हकीकत में यह खेल स्पेन के खेल से काफी भिन्न है. इसमें बैलों (सांड) को मारा नहीं जाता और ना बैल को काबू करने वाले युवक किसी तरह के अस्त्र-शस्त्र का इस्तेमाल करते हैं. हां बैलों को गुस्सैल बनाने के लिए शराब पिलाने का आरोप भी लगता रहा है. वैसे प्राचीन काल से ही तमिल समाज शिवभक्त रहा है, सांड को शिव की सवारी नंदी के तौर पर पूजा जाता है. एक मान्यता यह भी है कि सांड को काबू में करने से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज