जमात उल मुजाहिदीन युवाओं की भर्ती के लिए मदरसों का इस्तेमाल कर रहा है

लोकसभा में गृहमंत्रालय ने माना, कहा पश्चिम बंगाल से नियमित तौर पर साझा की जा रही है खुफिया सूचनाएं

Shailendra Wangu | News18Hindi
Updated: July 2, 2019, 5:54 PM IST
जमात उल मुजाहिदीन युवाओं की भर्ती के लिए मदरसों का इस्तेमाल कर रहा है
आतंकवादी अब मदरसों के जरिए युवकों को आतंक की ओर मोडने की कोशिश कर रहे हैं- गृह मंत्रालाय
Shailendra Wangu | News18Hindi
Updated: July 2, 2019, 5:54 PM IST
पश्चिम बंगाल में बांग्लादेशी तंकी संगठन जमात-उल-मुजाहिदीन सक्रिय हो रहा है. गृह मंत्रालय ने लोक सभा में एक सवाल के लिखित जवाब में कहा कि JUM-बांग्लादेश द्वारा कट्टरता और युवाओं की भर्ती गतिविधियों के लिए बंगाल के बर्धवान और मुर्शिदाबाद स्थित कुछ मदरसों का इस्तेमाल किए जाने के बारे में जानकारी मिली है. गृहराज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने कहा कि इस संबंध में इनपुटों पर कार्रवाई करने की सलाह के साथ पश्चिम बंगाल सरकार और संबंधित एजेंसियों के साथ जानकारी नियमित रूप से साझा की जा रही है.

केंद्र ने कहा कि इसी साल मई में जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश, जमात-उल-मुजाहिदीन भारत और जमात-उल-मुजाहिदीन हिंदुस्तान तथा इसके सभी स्वरूपों को आतंकवादी संगठन के रूप में अधिसूचित किया है. पश्चिम बंगाल में बांग्लादेशी आतंकी संगठन जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश सक्रिय हो रहा है. गृह मंत्रालय ने लोक सभा में एक सवाल के लिखित जवाब में कहा कि JMB-बांग्लादेश द्वारा कट्टरता फैलाने और युवाओं की भर्ती गतिविधियों के लिए बंगाल के बर्धवान और मुर्शिदाबाद स्थित कुछ मदरसों का इस्तेमाल कर रहा है.

गृहराज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने कहा कि इस संबंध में इनपुटों पर कार्रवाई करने की सलाह के साथ पश्चिम बंगाल सरकार और संबंधित एजेंसियों के साथ जानकारी नियमित रूप से साझा की जा रही है. केंद्र ने कहा कि इसी साल मई में जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश, जमात-उल-मुजाहिदीन भारत और जमात-उल-मुजाहिदीन हिंदुस्तान तथा इसके सभी स्वरूपों को आतंकवादी संगठन के रूप में अधिसूचित किया है.

कितना खतरनाक है जमात-उल-मुजाहिदीन?

जुलाई 2016 में बांग्लादेश की राजधानी ढाका के एक कैफे में हुए आतंकवादी हमले के लिए JMB जिम्मेदार माना जाता है. भारतीय सुरक्षा एजेंसियों को 2 अक्टूबर 2014 को पश्चिम बंगाल के वर्धमान और 19 जनवरी 2018 में बिहार के बोधगया में हुए बम धमाकों के तार जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश से जुड़े होने के सबूत मिले हैं.

जानकार सूत्र मानते हैं कि JMB भारत-बांग्लादेश सीमा के 10 किलोमीटर के अंदर स्थाई बेस बनाने की फ़िराक़ में हैं, और वो पश्चिम बंगाल के साथ असम और त्रिपुरा में भी पैर पसारना चाहता है. यह खतरनाक आतंकी संगठन सिर्फ सीमा पर नहीं बल्कि दक्षिण भारत में भी अपना नेटवर्क फैलाना चाहता है.

ये भी पढ़ें : पश्चिम बंगाल: STF ने किया बोधगया ब्लास्ट के आरोपी अब्दुल रहीम को गिरफ्तार
Loading...

आतंक का गढ़ बन रहे मदरसों से पाक सरकार परेशान, 30000 को लेगी कंट्रोल में

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 2, 2019, 5:54 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...