Assembly Banner 2021

जम्मू-कश्मीर: हिमस्खलन में दबने से सेना के 1 पोर्टर की मौत, 3 सुरक्षित बचाए गए

जम्मू-कश्मीर में हुए हिमस्खलन में दबने से एक पोर्टर की मौत हो गई (सांकेतिक फोटो)

जम्मू-कश्मीर में हुए हिमस्खलन में दबने से एक पोर्टर की मौत हो गई (सांकेतिक फोटो)

पुलिस के अधिकारियों (Police Officers) ने बताया कि शाहपुर सेक्टर से पहले एक जगह पर बर्फ की चट्टान गिरने से ये चारों पोर्टर (Porter) उसके नीचे दब गए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 8, 2020, 5:30 AM IST
  • Share this:
जम्मू. जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के पुंछ जिले (Poonch District) में नियंत्रण रेखा (LoC) के पास मंगलवार की शाम हुए हिमस्खलन (Avalanche) में सेना के एक पोर्टर (Porter) की मौत हो गई और तीन अन्य को सुरक्षित निकाल लिया गया.

पुलिस के अधिकारियों (Police Officers) ने बताया कि शाहपुर सेक्टर से पहले एक जगह पर बर्फ की चट्टान गिरने से ये चारों पोर्टर (Porter) उसके नीचे दब गए. स‍ेना (Army) के बचाव दल ने फौरन कार्रवाई की और बर्फ से पोर्टरों को बाहर निकाले में कामयाब रहे.

अधिकारियों ने बताया कि इनमें से एक ने अस्पताल (Hospital) में दम तोड़ दिया.



पिछले महीने बर्फीले तूफान के दौरान लापता हो गए थे 4 जवान
इससे पहले पिछले महीने जम्मू-कश्मीर में आए बर्फीले तूफान के दौरान हिमस्खलन की दो घटनाएं बांदीपोरा (Bandipora) के गुरेज सेक्टर और कुपवाड़ा जिले के करनाह सेक्टर में हुई थीं. यह दोनों इलाके उत्तरी कश्मीर (North Kashmir) के अंतर्गत आते हैं. 18 हजार फीट से अधिक की ऊंचाई पर हुए हिमस्खलन (Avalanche) में 4 जवान लापता हो गए थे.

4 जवान सियाचिन के हिमस्खलन में हो गए थे शहीद
वहीं 30 नवंबर को दक्षिणी सियाचिन ग्लेशियर (Southern Siachen Glacier) में लगभग 18,000 फीट की ऊंचाई पर स्थित सेना का गश्ती दल शनिवार को हिमस्खलन (avalanche) की चपेट में आ गया था. इसमें सेना (Indian Army) के दो जवान शहीद हो गए थे.

यह सियाचिन में मात्र 15 दिनों में हुआ दूसरा हिमस्खलन था. उससे कुछ दिन पहले ही दुनिया के सबसे ऊंचे युद्धक्षेत्र सियाचिन ग्लेशियर (Siachen Glacier) में हुए एक हिमस्खलन (Avalanche) की चपेट में आने से सेना के 4 जवान शहीद हो गए थे. बर्फ में दबने से 2 नागरिकों की भी मौत हो गई. सेना के अधिकारियों (Army Officers) ने बताया कि जिस इलाके में यह दुर्घटना हुई, वह जगह 19,000 फीट या उससे ज्यादा ऊंचाई पर है. (भाषा के इनपुट सहित)

यह भी पढ़ें: सुरक्षाकर्मियों ने धक्‍का-मुक्‍की की, नाना की कब्र पर जाने से रोका : इल्तिजा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज