जम्‍मू-कश्‍मीर में अगले महीने होंगे BDC चुनाव! सूबे में सामान्‍य हालात के दावों का होगा पहला परीक्षण

बीडीसी चुनाव जम्‍मू-कश्‍मीर में पंचायती राज व्‍यवस्‍था को पूरी तरह से लागू करने का अगला चरण है.

बीडीसी चुनाव जम्‍मू-कश्‍मीर में पंचायती राज व्‍यवस्‍था को पूरी तरह से लागू करने का अगला चरण है.

एक या दो दिन में राज्‍य की 316 ब्‍लॉक डेवलपमेंट काउंसिल (BDC) के लिए चुनाव कार्यक्रम की कर दी जाएगी घोषणा. निश्चित तौर पर इन चुनावों को केंद्र सरकार के जम्‍मू-कश्‍मीर (Jammu-Kashmir) में हालात सामान्‍य होने के दावों के पहले परीक्षण के तौर पर देखा जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 11, 2019, 12:02 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. जम्‍मू-कश्‍मीर (Jammu-Kashmir) की 316 ब्‍लॉक डेवलपमेंट काउंसिल (BDC) के लिए चुनाव कराने की तैयारियां जोरों पर हैं. उम्‍मीद की जा रही है कि सूबे में बीडीसी का चुनाव अक्‍टूबर में हो सकता है. ये चुनाव 31 अक्‍टूबर को जम्‍मू-कश्‍मीर के औपचारिक तौर पर केंद्रशासित राज्‍य घोषित होने से पहले करा लिए जाएंगे. बताया जा रहा है कि सूबे में बीडीसी चुनाव कार्यक्रम की घोषणा एक या दो दिन में की जा सकती है. इन चुनावों को केंद्र सरकार (Central Government) के जम्‍मू-कश्‍मीर में हालात सामान्‍य होने के दावों के पहले परीक्षण के तौर पर देखा जाएगा. साथ ही बीडीसी चुनावों के नतीजों से जम्‍मू-कश्‍मीर से अनुच्‍छेद-370 (Article-370) हटाने के मोदी सरकार (Modi Government) के फैसले को लेकर लोगों का रुख भी स्‍पष्‍ट हो जाएगा.



लोकसभा चुनाव के कारण स्‍थगित कर दिए गए थे राज्‍य के बीडीसी चुनाव

नेशनल कांफ्रेंस (NC) और पीपुल्‍स डेमोक्रेटिक पार्टी (PDP) जैसे जम्‍मू-कश्‍मीर के राजनीतिक दलों के बड़े नेता व कार्यकर्ता हिरासत में हैं. ऐसे में देखने वाली बात होगी कि ये पार्टियां चुनावों में किस अंदाज में शामिल होंगी. द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक, एक वरिष्‍ठ अधिकारी ने बताया कि बीडीसी चुनावों को लेकर तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. मतदाता सूची भी दुरुस्‍त कर ली गई हैं. उम्‍मीद की जा रही थी कि राज्‍य में पंचायत चुनाव (Panchayat Elections) के बाद बीडीसी चुनाव होंगे, लेकिन लोकसभा चुनाव, 2019 (Lok Sabha Elections 2019) के कारण इन्‍हें स्‍थगित कर दिया गया.



पिछले साल पंचायत व निकाय चुनाव में क्षेत्रीय पार्टियों ने किया था विरोध
बीडीसी चुनाव जम्‍मू-कश्‍मीर में पंचायती राज व्‍यवस्‍था को पूरी तरह से लागू करने का अगला चरण है. दिसंबर, 2018 में पंचायत चुनाव के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने राज्‍य की 316 बीडीसी के लिए चुनाव कराने की घोषणा कर दी थी. पिछले साल नवंबर-दिसंबर में जम्मू-कश्मीर में लोकतंत्र की बुनियाद पक्की करने के लिए पंचायत और निकाय चुनाव कराए गए थे. इनमें 35,096 पंच और 4,490 सरपंच चुने गए थे. बता दें कि इन चुनावों के दौरान क्षेत्रीय पार्टियों ने जबरदस्‍त विरोध प्रदर्शन करते हुए बहिष्‍कार की घोषणा कर दी थी.





गृह मंत्री अमित शाह ने जुलाई में सूबे के सरपंचों से की थी मुलाकात

जम्‍मू-कश्‍मीर में बीडीसी चुनाव को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और उपराष्‍ट्रप‍ति एम. वेंकैया नायडू की हाल में मुलाकात हुई थी. अमित शाह ने जुलाई में कश्‍मीर दौरे पर सरपंचों से मुलाकात की थी. इस दौरान उन्‍होंने कहा कि चुने गए पंचायत प्रमुख केंद्र सरकार के मिशन को आगे लेकर जाएंगे. शाह ने इस दौरान राज्‍य के लिए 3,700 करोड़ रुपये का पैकेज देने का वादा भी किया था. सरकार ने क्‍लास-1 अधिकारियों के लिए 'गांवों की ओर चलो' (Back to the Villages) कार्यक्रम भी लॉन्‍च किया था ताकि वे पंचों के साथ मिलकर ग्रामीण क्षेत्रों में बड़े विकास कार्यक्रमों को पूरा कर सकें.



ये भी पढ़ें: 



उर्मिला के इस्तीफे के बाद बढ़ी मुंबई कांग्रेस में कलह, मिलिंद-संजय में ‌खिंची तलवारें

इन कारणों से उर्मिला मातोंडकर ने छोड़ी कांग्रेस, पार्टी से हैं खासी नाराज़
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज