लाइव टीवी

जम्मू-कश्मीर में 5.5 तीव्रता के भूकंप के चार झटके, 10 किमी गहराई में केंद्र

भाषा
Updated: December 31, 2019, 4:07 AM IST
जम्मू-कश्मीर में 5.5 तीव्रता के भूकंप के चार झटके, 10 किमी गहराई में केंद्र
जम्मू-कश्मीर में 4.7 से 5.5 तक की तीव्रता वाले भूकंप के चार झटके महसूस किये गये.

राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र (national seismology) के अनुसार भूकंप का 4.7 तीव्रता का पहला झटका रात 10:42 बजे महसूस किया गया. जिसके छह मिनट बाद 5.5 तीव्रता वाला दूसरा झटका महसूस किया गया.

  • Share this:
नई दिल्ली. जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) में सोमवार रात को दो घंटे से भी कम समय में 4.7 से 5.5 तक की तीव्रता वाले भूकंप (earthquake) के चार झटके महसूस किये गये. इस घटना की जानकारी राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र (national seismology)  ने दी है. भूकंप का 4.7 तीव्रता का पहला झटका रात 10:42 बजे महसूस किया गया. जिसके छह मिनट बाद 5.5 तीव्रता वाला दूसरा झटका महसूस किया गया. वहीं सामने आई जानकारी के अनुसार भूकंप के दोनों झटकों का केंद्र धरातल से 10 किमी गहराई में स्थित था.

इसके बाद, रात 10:58 बजे 4.6 तीव्रता का तीसरा झटका महसूस किया गया और फिर रात 11:20 बजे भूकंप का चौथा झटका महसूस किया गया जिसकी तीव्रता 5.4 थी. तीसरा और चौथा झटका क्रमश: 36 और 63 किमी गहराई में आया. इस दौरान किसी के हताहत होने या किसी प्रकार की क्षति की कोई सूचना नहीं मिली है.

इसके अलावा अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में रात 10:29 बजे भूकंप का झटका महसूस किया गया जिसकी तीव्रता पांच दर्ज की गई. गौरतलब है कि पछले महीने भी जम्मू-कश्मीर में भूकंप के झटके महसूस किए गए थे. जिसकी तीव्रता रिक्टर स्केल में 3.7 नापी गई थी. भूकंप के झटकों ने घरों की दीवारों को हिला दिया था.

भूकंप के कारण जमीन हिलती देख स्‍थानीय लोग अपने घरों से बाहर निकल आए . वहीं स्‍थानीय प्रशासन ने अभी कुछ देर लोगों को घर से बाहर रहने की हिदायत दी. 4.7 से 5.5 तीव्रता के भूकंप के चलते घरों की खिड़कियां और दरवाजे हिलने लगे. अभी तक की जानकारी के मुताबिक कई घरों की दीवारों में दरारें पड़ गई हैं.

ये भी पढ़ें: 

नौसेना ने फेसबुक और स्मार्टफोन के इस्तेमाल पर लगाया प्रतिबंध

पूरा नगालैंड और छह महीने के लिए अफस्पा के तहत अशांत क्षेत्र घोषित

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 31, 2019, 4:07 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर