Home /News /nation /

jammu and kashmir lg manoj sinha says kashmiri pandit employees will posted in safe districts

जम्मू-कश्मीर के LG मनोज सिन्हा का बड़ा फैसला- सुरक्षित जिलों में होगी कश्मीरी पंडित कर्मचारियों की पोस्टिंग

जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने कहा है कि कश्मीरी पंडित कर्मचारियों की पोस्टिंग सुरक्षित जिलों में की जाएगी. (File Photo)

जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने कहा है कि कश्मीरी पंडित कर्मचारियों की पोस्टिंग सुरक्षित जिलों में की जाएगी. (File Photo)

जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने पीपुल्स एलायंस फॉर गुपकार डिक्लेरेशन (PAGD) और भाजपा प्रतिनिधिमंडल को सूचित किया कि घाटी के तहसील मुख्यालयों पर हाल में हुए आतंकवादी हमलों को देखते हुए कश्मीरी पंडित कर्मचारियों की तैनाती सुरक्षित जिलों में की जाएगी.

अधिक पढ़ें ...

श्रीनगर: कश्मीरी पंडित समुदाय के सरकारी कर्मचारियों को लेकर जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने बड़ा फैसला लिया है. प्रधानमंत्री पैकेज के तहत राज्य के सरकारी महकमों में नियुक्त कश्मीरी पंडितों को सुरक्षित जिले में तैनात किया जाएगा. मनोज सिन्हा ने पीपुल्स एलायंस फॉर गुपकार डिक्लेरेशन (PAGD) और भाजपा प्रतिनिधिमंडल को सूचित किया कि घाटी के तहसील मुख्यालयों पर हाल में हुए आतंकवादी हमलों को देखते हुए कश्मीरी पंडित कर्मचारियों की तैनाती सुरक्षित जिलों में की जाएगी.

आपको बता दें कि गत 12 मई को आतंकवादियों ने बडगाम जिले की चाडूरा तहसील कार्यालय में घुसकर कश्मीरी पंडित कर्मचारी राहुल भट की गोली मारकर हत्या कर दी थी. इस घटना के बाद कश्मीरी पंडितों ने जम्मू-कश्मीर में उग्र विरोध प्रदर्शन किया था और सरकार से मांग की थी कि गवर्नमेंट जॉब करने वाले उनके समुदाय के सदस्यों का ट्रांसफर घाटी से जम्मू में किया जाए. उन्होंने ऐसा नहीं करने पर सामूहिक इस्तीफे की चेतावनी दी थी.

टारगेट किलिंग के विरोध में 350 कर्मचारियों ने दिया था इस्तीफा

जम्मू-कश्मीर की प्रमुख राजनीतिक पार्टियों के साझा मंच ‘गुपकार घोषणापत्र गठबंधन’ या पीपुल्स अलायंस फॉर गुपकार डिक्लेरेशन (PAGD) ने रविवार को कश्मीरी पंडित कर्मचारियों से अपील की कि वे घाटी छोड़कर न जाएं. गठबंधन ने कहा कि कश्मीर उनका घर है और यहां से उनका जाना ‘सभी के लिए पीड़ादायक होगा.’ टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, बडगाम में आतंकवादियों द्वारा राहुल भट की टारगेट किलिंग के विरोध में 350 से अधिक कश्मीरी पंडित कर्मचारियों ने इस्तीफा दे दिया था. इसके बाद उपराज्यपाल मनोज सिन्हा की ओर से उनके ट्रांसफर को लेकर आश्वासन दिया गया है.

सुरक्षा बलों को आतंक के खिलाफ कार्रवाई करने की पूरी आजादी

पीएजीडी नेताओं, फारूक अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती, सीपीआई (एम) के एम वाई तारीगामी, नेकां सांसद हसनैन मसूदी और अवामी नेशनल कॉन्फ्रेंस के वरिष्ठ उपाध्यक्ष मुजफ्फर शाह के साथ बैठक के दौरान, उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने सूचित किया कि सुरक्षा बलों को टारगेट किलिंग के खिलाफ कार्रवाई करने की पूरी आजादी दी गई है और कहा कि आतंकवादियों को सहायता और उकसाने वालों को बख्शा नहीं जाएगा. उन्होंने प्रतिनिधिमंडल को बताया कि सभी पीएम पैकेज कर्मचारियों को सुरक्षित जिला और तहसील मुख्यालयों में स्थानांतरित किया जाएगा और अन्य मुद्दों के समाधान के लिए एलजी सचिवालय में एक विशेष सेल का गठन किया गया है.

जितना मुसलमानों का उतना ही पंडितों का भी है कश्मीर: तारीगामी

मनोज सिन्हा ने जम्मू-कश्मीर के भाजपा अध्यक्ष रविंदर रैना और महासचिव (संगठन) अशोक कौल के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल से भी मुलाकात की. भाजपा प्रतिनिधिमंडल ने एलजी को ज्ञापन सौंपा और पीएम पैकेज कर्मचारियों से संबंधित मांगों पर कार्रवाई की अपील की. भाजपा नेताओं ने सिन्हा से पीएम पैकेज कर्मचारियों की पदोन्नति संबंधी शिकायतों पर गौर करने का अनुरोध किया. पीएजीडी के प्रवक्ता एमवाई तारीगामी ने पत्रकारों से कहा कि घाटी उतना ही कश्मीरी पंडितों का भी है, जितना कश्मीरी मुसलमानों का. उन्होंने कहा, ‘अगर राहुल मारा गया, तो रियाज भी मारा गया. आपको अपना घर छोड़ने की जरूरत नहीं है. यह आपका घर है, यह मेरा घर है. हम इस त्रासदी को एक साथ सहन करेंगे.’

Tags: Extortion and targeted killing, Kashmiri Pandits, LG Manoj Sinha

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर