जम्मू-कश्मीर पुलिस के सस्पेंड DSP देविंदर सिंह को तत्काल प्रभाव से किया गया बर्खास्त

देविंदर सिंह. (फाइल फोटो)

देविंदर सिंह. (फाइल फोटो)

साल 2020 मे देविंदर सिंह (suspended DSP Davinder Singh) को आतंकियों के साथ सांठगांठ के चलते गिरफ्तार किया गया था. इसके बाद से ही वो सस्पेंड चल रहा है. बृहस्पतिवार को उसे बर्खास्त कर दिया गया.

  • Share this:

श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा (Manoj Sinha) ने राज्य पुलिस के सस्पेंड डीएसपी देविंदर सिंह (suspended DSP Davinder Singh) को तत्काल प्रभाव से बर्खास्त कर दिया है. इसके अलावा कुपवाड़ा जिले के दो शिक्षकों की भी बर्खास्तगी का फैसला किया गया है. साल 2020 मे देविंदर सिंह को आतंकियों के साथ सांठगांठ के चलते गिरफ्तार किया गया था. इसके बाद से ही वो सस्पेंड चल रहा हैं.

बीते महीने हाईकोर्ट ने देविंदर सिंह की उस याचिका को खारिज कर दिया था जिसमें उसने खुद से जुड़े मामला जम्मू से श्रीनगर में ट्रांसफर करने की मांग की थी. बीते साल जुलाई महीने में देविंदर सिंह से जुड़े मामले में NIA ने कोर्ट में आरोप पत्र दायर कर दिया था. दरअसल मामला आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन के नावेद बाबू सहित कई आतंकियों से जुड़ा हुआ है. एनआईए द्वारा दायर इस आरोप पत्र में सैयद नावेद मुस्ताक उर्फ नावेद बाबू , इरफान शैफी मीर उर्फ वकील, के साथ निलंबित डीएसपी देविंदर सिंह का भी नाम है.

ऐसे हुआ था गिरफ्तार

देविंदर को जनवरी 2020 में गिरफ्तार किया गया था. कुलगाम ज़िले में सर्च ऑपरेशन के दौरान पुलिस ऑफिसर दविंदर सिंह को दो आतंकी के साथ गिरफ्तार किया था. ऑफिसर और आतंकी को उस वक्त पकड़ा गया, जब ये तीनों एक साथ एक कार में सवार होकर कहीं जा रहे थे. पुलिस के मुताबिक, दविंदर के हिजबुल मुजाहिदीन के दो मोस्टवांटेड आतंकी पीछे की सीट पर बैठे थे.
28 साल पहले भी हुआ था सस्पेंड

साल 1992 में दक्षिण कश्मीर में ट्रक में ड्रग्स की खेप बरामद करने के साथ तस्कर भी पकड़ा गया था. आरोप है कि बाद में पैसे लेकर उसने मामला खत्म कर दिया और ड्रग्स भी बेच डाली. इस मामले की जांच हुई और देविंदर को सस्पेंड कर दिया गया. बाद में उसने माफी मांग ली और उसे फिर से बहाल कर दिया गया.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज