जैश का संदिग्ध आंतकी गिरफ्तार, कोर्ट ने 9 दिन की हिरासत में भेजा

भट्ट को नयी दिल्ली में एनआईए की विशेष अदालत में पेश किया गया जहां से उसे एजेंसी की नौ दिन की हिरासत में भेज दिया गया.

News18Hindi
Updated: July 29, 2019, 10:45 PM IST
जैश का संदिग्ध आंतकी गिरफ्तार, कोर्ट ने 9 दिन की हिरासत में भेजा
भट्ट को नयी दिल्ली में एनआईए की विशेष अदालत में पेश किया गया जहां से उसे एजेंसी की नौ दिन की हिरासत में भेज दिया गया.
News18Hindi
Updated: July 29, 2019, 10:45 PM IST
राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने सोमवार को जैश के एक संदिग्ध आतंकी मुजफ्फर अहमद भट्ट को गिरफ्तार किया है. भट्ट ने भारत में कई आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम दिया है. एनआईए ने कहा कि पुलवामा जिले के त्राल निवासी और जम्मू के कोट भलवाल में केंद्रीय कारागार में बंद मुजफ्फर भट्ट उर्फ मुजफ्फर अहमद भट्ट (25) को गिरफ्तार किया गया है. केंद्रीय कारागार में वह जनसुरक्षा कानून (पीएसए) के तहत बंद था.

भट्ट को नयी दिल्ली में एनआईए की विशेष अदालत में पेश किया गया जहां से उसे एजेंसी की नौ दिन की हिरासत में भेज दिया गया. एजेंसी ने कहा कि जांच से पता चला है कि वह व्हाट्सएप पर कई आतंकी घटनाओं के मुख्‍य अभियुक्‍त मुदस्सिर अहमद (अब मृत) के साथ संपर्क में था.

यह मामला मार्च में दर्ज किया गया था और इसमें अब तक तीन अन्य लोगों सज्जाद अहमद खान, बिलाल मीर और तनवीर अहमद गनी को गिरफ्तार किया जा चुका है.

NIA ने मोहम्मद आरिफ गुलाम को किया था गिरफ्तार

अभी कुछ दिन पहले ही एनआईए ने टेरर फंडिंग मामले में मोहम्मद आरिफ गुलाम को गिरफ्तार किया था. मोहम्मद आरिफ गुलाम धरमपुरिया गुजरात के वलसाड का रहने वाला है. एनआईए ने फलाह-ए-इसानियत (FIF) टेरर फंडिंग मामले में इसके खिलाफ लुक आउट सर्कुलर जारी किया हुआ था.

मोहम्मद आरिफ गिरफ्तारी के डर से यूएई में छिपा हुआ था. सूत्रों के मुताबिक यूएई से डिपोर्ट करने के बाद एएनआई ने दिल्ली एयरपोर्ट पर उसे गिरफ्तार कर लिया.

एनआईए ने किया था ये बड़ा खुलासा
Loading...

बता दें कि एनआईए ने पिछले साल एफआईएफ के दिल्ली मॉडल का पर्दाफाश किया था. एनआईए ने आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए हवाला के जरिए आतंकवादी हफीज सईद के एफआईएफ फाउंडेशन से फंडिंग का खुलासा किया था.

ये भी पढ़ें: गोरखपुर: फर्जी दस्तावेजों पर सैकड़ों पासपोर्ट बनाने का खेल

यह भारत में अशांति फैलाने के उद्देश्य से एफआईएफ द्वारा भेजे जा रहे टेरेर फंडिंग मामले में पांचवी गिरफ्तारी है. बता दें कि एफआईएफ की स्थापना 1990 में 26/11 मुंबई हमले के मास्टरमाइंड और जमात-उद-दावा प्रमुख हाफिज मोहम्मद सईद ने की थी. हाफिज सईद को हाल ही में संयुक्त राष्ट्र ने वैश्विक आतंकवादी करार दिया है.

ये भी पढ़ें: श्रीलंका: ईस्टर बम धमाकों की जांच कर सकती है NIA
First published: July 29, 2019, 10:45 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...