अपना शहर चुनें

States

LIVE: PM मोदी ने PMJAY-SEHAT योजना की लॉन्च, कहा- आज का दिन जम्मू कश्मीर के लिए बहुत ऐतिहासिक

PMJAY-SEHAT: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi)  आयुष्मान भारत योजना के तहत जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के लिए प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, सेहत (Pradhan Mantri Jan Arogya Yojana SEHAT) की शुरुआत की. यहां पढ़ें PMJAY-SEHAT लॉन्च के लाइव अपडेट्स
PMJAY-SEHAT: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) आयुष्मान भारत योजना के तहत जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के लिए प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, सेहत (Pradhan Mantri Jan Arogya Yojana SEHAT) की शुरुआत की. यहां पढ़ें PMJAY-SEHAT लॉन्च के लाइव अपडेट्स

PMJAY-SEHAT: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) आयुष्मान भारत योजना के तहत जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के लिए प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, सेहत (Pradhan Mantri Jan Arogya Yojana SEHAT) की शुरुआत की. यहां पढ़ें PMJAY-SEHAT लॉन्च के लाइव अपडेट्स

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 26, 2020, 6:19 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) शनिवार को आयुष्मान भारत योजना के तहत जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के लिए प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, सेहत (Pradhan Mantri Jan Arogya Yojana SEHAT) की शुरुआत की. इस योजना को पीएम-जय के नाम से भी जाना जाता है. यह योजना राज्य में रहने वाले 21 लाख लोगों को स्वास्थ्य लाभ पहुंचाएगी. गौरतलब है कि इस सुविधा का लाभ सामाजिक आर्थिक और जाति जनगणना के आधार पर तय किए गए पात्र लोगों को मिलेगा.

अधिकारी ने कहा 'सरकार लाभार्थी परिवारों की जानकारी जुटा रही है, जो शायद sec2011 डेटाबेस से गायब हैं.' उन्होंने बताया 'इससे यह तय हो सकेगा कि सभी लाभार्थियों को जल्द से जल्द योजना में शामिल किया जाए, ताकि वे मुफ्त हेल्थ केयर सेवाओं का लाभ उठा सकें.' इस योजना को लागू करने के लिए लाभार्थियों की पहचान के उपयोग में आने वाले नेशनल हेल्थ अथॉरिटी इंफर्मेशन टेक्नोलॉजी जैसे प्लेटफॉर्म में बदलाव किए गए हैं.


यहां पढ़ें PMJAY-SEHAT लॉन्च के लाइव अपडेट्स


पीएम ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में इन चुनावों ने ये भी दिखाया कि हमारे देश में लोकतंत्र कितना मजबूत है. लेकिन एक पक्ष और भी है, जिसकी तरफ मैं देश का ध्यान आकर्षित कराना चाहता हूं. पुडुचेरी में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद पंचायत और म्यूनिसिपल इलेक्शन नहीं हो रहे.आप हैरान होंगे, सुप्रीम कोर्ट ने 2018 में ये आदेश दिया था. लेकिन वहां जो सरकार है, इस मामले को लगातार टाल रही है. साथियों,  पुडुचेरी में दशकों के इंतजार के बाद साल 2006 में स्थानीय चुनाव हुए थे. इन चुनावों में जो चुने गए उनका कार्यकाल साल 2011 में ही खत्म हो चुका है.



मोदी ने कहा कि इन चुनावों में जम्मू-कश्मीर के लोगों ने लोकतंत्र की जड़ों को और मजबूत किया है. जम्मू-कश्मीर के प्रशासन और सुरक्षाबलों ने जिस प्रकार से चुनाव का संचालन किया और सभी दलों की तरफ से ये चुनाव बहुत ही परदर्शी हुए. ये जब मैं सुनता हूं तो मुझे बहुत गर्व होता है.

मोदी ने कहा कि जम्मू कश्मीर के हर वोटर के चेहरे पर मुझे विकास के लिए, डेवलपमेंट के लिए एक उम्मीद नजर आई, उमंग नजर आई. जम्मू कश्मीर के हर वोटर की आंखों में मैंने अतीत को पीछे छोड़ते हुए, बेहतर भविष्य का विश्वास देखा.

मोदी ने कहा कि मैं जम्मू-कश्मीर के लोगों को लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए भी बधाई देता हूं, DDC के चुनाव ने एक नया अध्याय लिखा है, मैं चुनावों के हर चरण में देख रहा था कि कैसे इतनी सर्दी के बावजूद, कोरोना के बावजूद, नौजवान, बुजुर्ग, महिलाएं बूथ पर पहुंच रहे थे.जम्मू कश्मीर के हर वोटर के चेहरे पर मुझे विकास के लिए, डेवलपमेंट के लिए एक उम्मीद नजर आई, उमंग नजर आई. जम्मू कश्मीर के हर वोटर की आंखों में मैंने अतीत को पीछे छोड़ते हुए, बेहतर भविष्य का विश्वास देखा

पीएम ने कहा कि आज का दिन जम्मू कश्मीर के लिए बहुत ऐतिहासिक है. आज से जम्मू कश्मीर के सभी लोगों को आयुष्मान योजना का लाभ मिलने जा रहा है. सेहत स्कीम- अपने आप में ये एक बहुत बड़ा कदम है. और जम्मू-कश्मीर को अपने लोगों के विकास के लिए ये कदम उठाता देख, मुझे भी बहुत खुशी हो रही है

प्रधानमंत्री की ओर से उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने PMJAY-SEHAT योजना के लाभार्थियों को E कार्ड वितरित किया.

प्रधानमंत्री ने PMJAY-SEHAT योजना जम्मू-कश्मीर में लॉन्च किया गया.

हम COVID19 टीकाकरण के लिए तैयार हैं. जब टीका उपलब्ध होगा हम लोगों को टीका लगाने में सक्षम होंगे: जम्मू और कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा

जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने कहा कि हाल ही में, डीडीसी चुनावों के साथ जम्मू और कश्मीर में त्रिस्तरीय लोकतंत्र की स्थापना की गई थी. मैं जम्मू-कश्मीर के लोगों को चुनाव में भाग लेने के लिए धन्यवाद देता हूं. निर्वाचित डीडीसी सदस्य 28 दिसंबर को शपथ लेंगे.

जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा जम्मू में कहा कि मैं बताना चाहूंगा कि जम्मू-कश्मीर के 10 लाख से अधिक किसानों को पीएम-किसान सम्मान निधि योजना के तहत वित्तीय सहायता मिली है.

प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया, ‘प्रधानमंत्री 26 दिसंबर को दोपहर 12 बजे वीडियो कांफ्रेस के माध्यम से केंद्रशासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में आयुष्मान भारत पीएम-जय सेहत की शुरुआत करेंगे. इस योजना में जम्मू एवं कश्मीर के सभी निवासियों को शामिल किया जाएगा.’ इस अवसर पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) और जम्मू-कश्मीर के उप-राज्यपाल मनोज सिन्हा भी उपस्थित रहेंगे.

बयान में कहा गया कि यह योजना जम्मू-कश्मीर केंद्रशासित प्रदेश में रहने वाले सभी लोगों को मुफ्त बीमा कवर प्रदान करती है. इसके अंतर्गत जम्मू-कश्मीर के सभी निवासियों को फ्लोटर बेसिस पर पांच लाख रुपये प्रति परिवार हेल्थ कवर उपलब्ध कराया जाएगा. बयान के मुताबिक, ‘पीएम-जय के परिचालन विस्तार से 15 लाख (लगभग) अतिरिक्त परिवारों को लाभ होगा. यह योजना बीमा मोड पर पीएम-जय के साथ मिलकर संचालित होगी. इस योजना का लाभ पूरे देश में कहीं भी उठाया जा सकता है. पीएम-जेएवाई योजना के तहत सूचीबद्ध अस्पताल इस योजना के तहत भी सेवाएं प्रदान करेंगे.’

यह भी पढ़ें: J&K के लोगों को मिलेगा 5 लाख तक का हेल्थ कवर, PM मोदी लॉन्च करेंगे PMJAY-SEHAT योजना

राज्य के सूचना और जनसंपर्क विभाग ने इस पीएम मोदी के कार्यक्रम और योजना की जानकारी दी थी. विभाग के मुताबिक, SEHAT योजना का मतलब है- सोशल एंडेवर फॉर हेल्थ एंड टेलीमेडिसिन (Social Endeavour for Health and Telemedicine). यह केंद्र शासित प्रदेशों के लिए एक हेल्थ इंश्योरेंस योजना है. विभाग ने इसे राज्य के लिए ऐतिहासिक क्षण बताया है.

विभाग ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर लिखा, 'जम्मू-कश्मीर के लिए ऐतिहासिक क्षण है. माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी SEHAT लॉन्च करने जा रहे हैं. 26 दिसंबर 2020 को पूरे जम्मू-कश्मीर के लिए सोशल एंडेवर फॉर हेल्थ एंड टेलीमेडिसिन हेल्थ इंश्योरेंस योजना.' जम्मू-कश्मीर के लेफ्टिनेंट गवर्नर मनोज सिन्हा ने कहा था कि केंद्र शासित प्रदेश में रहने वाले सभी लोगों को 5 लाख तक का फ्री हेल्थ कवर मिलेगा.

इस योजना के तहत जम्मू-कश्मीर के लोगों को स्वास्थ्य सेवाएं देने के लिए कम से कम 219 अस्पताल और 34 निजी अस्पतालों को सूची में शामिल किया गया है. इस योजना में ऑन्कोलॉजी, कार्डियोलॉजी, नेफ्रोलॉजी जैसे इलाज प्रक्रियाएं शामिल होंगी. योजना की पोर्टेबिलिटी के चलते लाभार्थी देश भर में 24 हजार 148 अस्पतालों में हेल्थ केयर ले सकेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज