लाइव टीवी

कश्मीर: आतंकियों ने बंगाल के 6 मजदूरों को गोलियों से भूना, पीड़ित परिवारों से मिले अधीर रंजन

News18Hindi
Updated: October 30, 2019, 2:15 PM IST

फिलहाल मिली जानकारी के मुताबिक मारे गए सभी मजदूर (Laborers) प. बंगाल (West Bengal) के मुर्शिदाबाद (Murshidabad) के रहने वाले थे और मजदूरी करके अपने परिवार का पालन-पोषण कर रहे थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 30, 2019, 2:15 PM IST
  • Share this:
कुलगाम. जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के कुलगाम में मंगलवार रात आतंकियों ने 6 मजदूरों की गोली मारकर हत्या कर दी. इनमें से 5 मजदूरों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि एक मजदूर ने अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ा. ये सभी मजदूर पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले के रहने वाले थे और यहां काफी समय से काम कर रहे थे. आर्टिकल 370 को कमजोर किए जाने के बाद ये अब तक का बड़ा हमला है.

बंगाल की सीएम ममता बनर्जी और राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने 6 मजदूरों की हत्या की कड़े शब्दों में निंदा की है. ममता बनर्जी ने बुधवार को पीड़ित परिवारों के लिए आर्थिक मदद का ऐलान किया. बंगाल सरकार की ओर से पीड़ित परिवारों को 5-5 लाख रुपये की सहायता दी जाएगी. वहीं, एडीजी साउथ बंगाल कुलगाम से इस मामले की जांच की ब्योरा देंगे.

उधर, लोकसभा में कांग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी भी पीड़ित परिवारों से मिलने मुर्शिदाबाद पहुंचे. उन्होंने पीड़ित परिवारों को मदद का आश्वासन दिया.


Loading...

न्यूज़ एजेंसी PTI के मुताबिक, मारे गए मजदूरों की शिनाख्त हो गई है. इनके नाम कमालुद्दीन, मुरसालिम, रोफिक, नोमुद्दीन और रफीकुल है. वहीं, घायल मजदूर का नाम जोहिरुद्दीन बताया जा रहा है. लोकसभा में कांग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी (Adhir Ranjan Chowdhury) आज मुर्शिदाबाद जाकर पीड़ित परिवारों से मुलाकात करने वाले हैं.

जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) से विशेष राज्य (Special Status) का दर्जा वापस लिए जाने के बाद आतंकी लगातार यहां बाहरी लोगों को निशाना बना रहे हैं. पिछले 15 दिनों में आतंकियों द्वारा मारे गए लोगों की कुल संख्या बढ़कर 11 हो गई है.



प. बंगाल के मुर्शिदाबाद के थे सभी मजदूर
फिलहाल मिली जानकारी से सामने आया है कि ये सभी मजदूर प. बंगाल (West Bengal) के मुर्शिदाबाद (Murshidabad) के थे और जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में मजदूरी करके अपने परिवार का पालन-पोषण करते थे.



घायल मजदूर जहीरुद्दीन भी पश्चिम बंगाल से आने वाले एक दिहाड़ी मजदूर हैं, वे अपने कटरासू गांव के घर में थे, जब उन पर हमला हुआ. उन्हें तुरंत ही अस्पताल (Hospital) में भर्ती कराया गया. बताया जा रहा है कि वे खतरे से बाहर हैं.

ममता बनर्जी ने जताया दुख
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस घटना पर ट्वीट करते हुए दुख जताया है. उन्होंने कहा है कि परिवारवालों की मदद की जाएगी.


सोमवार को की थी ट्रक ड्राइवर की हत्या
इससे पहले आतंकियों ने एक ट्रक ड्राइवर (Truck Driver) की हत्या की थी. सोमवार को अनंतनाग के बिजबेहरा में आतंकियों ने इस घटना को अंजाम दिया था. मारे गए ट्रक ड्राइवर ऊधमपुर के निवासी थे.

यह हमला यूरोपियन यूनियन (European Union) के सांसदों के प्रतिनिधिमंडल की कश्मीर यात्रा के दिन ही हुआ है. बता दें कि यूरोपियन यूनियन के सांसद कश्मीर की यात्रा पर आए हैं और यहां पर वे मंगलवार को स्थानीय लोगों से मिले और 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा और अनुच्छेद 370 खत्म करने पर उनके अनुभवों के बारे में पूछा.

लगातार निशाना बन रहे हैं मजदूर और ट्रक ड्राइवर
केंद्र सरकार के अनुच्छेद 370 को खत्म करने के फैसले के बाद से आतंकी लगातार ट्रक ड्राइवरों और मजदूरों को निशाना बनाते आ रहे हैं. इनमें खासकर ऐसे मजदूर और ड्राइवर शामिल हैं जो कश्मीर के बाहर से यहां पर काम की तलाश में आते हैं.

सोमवार को, उधमपुर जिले के एक ट्रक ड्राइवर को अनंतनाग में मार दिया गया था. जम्मू-कश्मीर पुलिस ने बताया, पांच अगस्त के बाद से यह मारे गए चौथे ट्रक ड्राइवर थे.

24 अक्टूबर को, आतंकियों ने शोपियां जिले में दो गैर-कश्मीरी ट्रक ड्राइवरों को मार दिया था. 14 अक्टूबर को दो आतंकियों ने जिनमें एक संदिग्ध पाकिस्तानी नागरिक भी है, मिलकर राजस्थान के रजिस्ट्रेशन नंबर वाले एक ट्रक ड्राइवर को मार दिया था. उन्होंने शोपियां जिले के एक सेब बगीचे के मालिक पर भी हमला किया था. इस ड्राइवर की पहचान शरीफ खान के तौर पर की गई थी.

दो दिन बाद, पंजाब के एक सेब व्यापारी चरनजीत सिंह को आतंकियों ने शोपियां जिले में किए एक हमले में मार दिया था और संजीव को घायल कर दिया था.

उसी दिन आतंकियों ने छत्तीसगढ़ के एक ईंट भट्ठा मजदूर को पुलवामा जिले में गोली मार दी थी.

यह भी पढ़ें: बगदादी का अंडरवियर चुरा ले गए थे जासूस, इस तरह मैच हुआ DNA

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 29, 2019, 9:30 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...