पुलिस से मांगी गई कश्मीर की मस्जिदों की पूरी लिस्ट, बवाल होने पर सरकार ने बताया 'अफवाह'

पुलिस विभाग ने अपने सभी एसपी लेवल के अधिकारियों को मस्जिदों के बारे में कुछ जानकारियां जुटाने के लिए एक नोटिस भेजा है. लेकिन सरकार ने आर्टिकल 35A हटाने की तैयारी की बात को अफवाह बताया है.

News18Hindi
Updated: July 29, 2019, 5:38 PM IST
पुलिस से मांगी गई कश्मीर की मस्जिदों की पूरी लिस्ट, बवाल होने पर सरकार ने बताया 'अफवाह'
जम्मू-कश्मीर पुलिस से उनके क्षेत्र की मस्जिदों के बारे में जानकारी मांगी गई है (फाइल फोटो0
News18Hindi
Updated: July 29, 2019, 5:38 PM IST
जम्मू-कश्मीर पुलिस ने सोमवार को कश्मीर घाटी में स्थित मस्जिदों के बारे में छोटी से छोटी जानकारी मांगी है. जिला स्तरीय पुलिस हेडक्वार्टर, श्रीनगर में राजधानी में स्थित सभी एसपी लेवल के अधिकारियों को स्थानीय मस्जिदों के बारे में जानकारियां जुटाने को कहा गया है.

इस आदेश में कहा गया है, अपने क्षेत्र में आने वाली मस्जिदों और उसके मैनेजमेंट के बारे में जानकारियां जुटाइए. जिन चीजों की जानकारी मांगी गई है, उसमें मस्जिदों के ना, वैचारिक झुकाव, स्थानीय ईमाम का नाम और मैनेजमेंट के हेड का नाम पूछा गया है. ऐसी प्रक्रिया को पूरी घाटी में दोहराने के लिए किया गया है.

पुलिस ने इस तरह की जानकारियां जुटाने की प्रक्रिया को बताया रुटीन प्रॉसेस
यह नया ऑर्डर, पहले के केंद्रीय गृह मंत्री के जम्मू-कश्मीर में 10,000 सुरक्षाबलों की बढ़ोत्तरी के फैसले के बाद आया है. साथ ही स्थानीय पुलिस के अफसरों को भी हमेशा सावधान रहने के लिए कहा गया है और साथ ही जम्मू-कश्मीर में आगे चलकर कानून व्यवस्था बिगड़ने के आसार देखते हुए सावधान रहने के लिए किया गया है. दरअसल इस आदेश की तस्वीरें सोशल मीडिया पर आते ही यह अफवाह उड़ गई थी कि सरकार आर्टिकल 35A को हटाने के लिए ऐसा कर रही है हालांकि जम्मू-कश्मीर पुलिस ने इस तरह की जानकारी जुटाने को रुटीन प्रॉसेस बताया है.

सरकार ने भी आर्टिकल 35A हटाने के प्लान को बताया 'अफवाह'
जबकि विजय कुमार, जो कि राज्यपाल सत्यपाल मलिक के सलाहकार हैं, उन्होंने आर्टिकल 35A हटाने की बात पर ANI से कहा है, "अगर कोई सोशल मीडिया पर हलचल या अफवाह फैलाने की कोशिश करता है तो मैं इसका जवाब नहीं दूंगा. इस अफवाह का सोर्स क्या है? मेरे लिए हर चीज पर जवाब देना संभव नहीं है."

श्रीनगर में बढ़ी है भारतीय सुरक्षाबलों की संख्या
Loading...

श्रीनगर में हाल ही में CRPF की टुकड़ियां लेकर दो विशेष विमान पहुंचे हैं. कुछ काफिले जम्मू और श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग से भी घाटी जा रहे हैं. वहीं वर्तमान में घाटी में अमरनाथ यात्रा चल रही है और अन्य सुरक्षा कारणों से CRPF की 450 कंपनियों में शामिल 40 हजार सैनिक पहले से ही तैनात हैं. इस संख्या में काउंटर इसर्जेंसी (विद्रोह), राष्ट्रीय रायफल्स की ताकत शामिल नहीं है, जो आतंकवाद रोधी अभियानों को अंजाम देती है. और कठिन परिस्थितियों में राज्य पुलिस और CRPF की सहायता करती है.

केंद्रीय गृह मंत्री ने एक आदेश में यह भी कहा था कि सेना काउंटर इंसर्जेंट ग्रिड को मजबूत करने और घाटी में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए तैनात होगी. वहीं जम्मू-कश्मीर पुलिस ने कहा कि जवानों को उत्तरी कश्मीर में तैनात किया जाएगा, जहां सुरक्षा अभी भी चुनौती बनी हुई है.

यह भी पढे़ं: कश्मीर में बिगड़ सकते हैं हालात, इकट्ठा कर लें 4 महीने का राशन: RPF अधिकारी की चिट्ठी वायरल
First published: July 29, 2019, 5:30 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...