जम्मू-कश्मीर: RR स्वैन बने नए CID प्रमुख, स्थानीय लड़कों को आतंकी बनने से रोकने में रही भूमिका

जम्मू-कश्मीर: RR स्वैन बने नए CID प्रमुख, स्थानीय लड़कों को आतंकी बनने से रोकने में रही भूमिका
स्वैन 2010 में CID से जुड़े थे (सांकेतिक फोटो)

अधिकारियों ने बताया कि स्वैन 1991 बैच के आईपीएस अधिकारी (IPS Officers) हैं. वह साल 2005 तक जम्मू कश्मीर (Jammu-Kashmir) में रहे तथा बाद में केंद्रीय प्रतिनियुक्ति में चले गए थे.

  • Share this:
जम्मू. जम्मू-कश्मीर प्रशासन (Jammu -Kashmir Administration) ने सोमवार को शीर्ष पुलिस अधिकारियों (Top Police Officers) के तबादले किए. अधिकारियों ने बताया कि रश्मि रंजन स्वैन को सीआईडी (CID) का नया प्रमुख बनाया गया है. उन्होंने बी. श्रीनिवास की जगह ली है. अधिकारियों ने यहां इसकी जानकारी दी.

उन्होंने बताया कि स्वैन 1991 बैच के आईपीएस अधिकारी (IPS Officers) हैं. वह साल 2005 तक जम्मू कश्मीर (Jammu-Kashmir) में रहे तथा बाद में केंद्रीय प्रतिनियुक्ति में चले गए थे.

अग्निशमन और आपातकालीन सेवाओं के प्रमुख भी होंगे स्वैन
अधिकारियों ने बताया कि श्रीनिवास 1990 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं, जिन्हें 2018 में केंद्रीय प्रतिनियुक्ति से वापस लाया गया था ताकि खुफिया तंत्र को बहाल करने में राज्य पुलिस की मदद कर सकें. उन्हें होमगार्ड एवं आपदा बल के कमांडेंट जनरल के तौर पर पदस्थापित किया गया है.
अधिकारियों ने बताया कि वह अग्निशमन एवं आपातकालीन सेवाओं के भी प्रमुख होंगे.



अधिकारियों ने बताया कि सीआईडी के अतिरिक्त महानिदेशक के तौर पर उनके दूसरे कार्यकाल के दौरान राज्य में खुफिया आधारित कई अभियानों को अंजाम दिया गया जिसमें पूर्ववर्ती राज्य और वर्तमान में केंद्रशासित प्रदेश में कई आतंकवादी मारे गए.

2010 में पत्थरबाजी चरम पर होने के दौरान CID में आये थे स्वैन
अधिकारियों ने बताया कि श्रीनिवास शुरुआत में 2010 में सीआईडी विभाग में आए थे, तब पथराव चरम पर था. बहरहाल, मुफ्ती मोहम्मद सईद के 2015 में मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्हें हटा दिया गया.

उन्होंने बताया कि वह एसएसबी में केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर चले गए थे. इसके बाद जम्मू कश्मीर में एक बार फिर से तब उनकी सेवा की मांग की गई, जब वहां कानून व्यवस्था का तंत्र पूरी तरह चरमरा रहा था.

उन्होंने बताया कि आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक उनके पदभार ग्रहण करने के बाद सितम्बर 2018 के बाद 85 स्थानीय आतंकवादी और 28 विदेशी आतंकवादी मार गिराए गए. साल 2019 में 123 स्थानीय और 31 विदेशी आतंकवादी मारे गए.

स्थानीय लड़कों को आतंकवादी समूहों में शामिल न होने देने का सफल अभियान चलाया
अधिकारियों ने बताया कि साल 2020 में अभी तक 81 स्थानीय आतंकवादी और चार विदेशी आतंकवादी मारे जा चुके हैं.

उन्होंने बताया कि सीआईडी के अतिरिक्त महानिदेशक रहते हुए उन्होंने स्थानीय लड़कों को आतंकवादी समूहों में शामिल नहीं होने का सफलतापूर्वक अभियान चलाया.

उन्होंने बताया कि जम्मू-कश्मीर सीआईडी ने ही सबसे पहले केंद्र को निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के मुख्यालय में काफी संख्या में कार्यकर्ताओं की मौजूदगी की सूचना दी थी, जिसके बाद कार्रवाई हुई थी.

अधिकारियों ने बताया कि प्रशासन ने पुलिस हाउसिंग कॉरपोरेशन का प्रभार 1993 बैच के आईपीएस अधिकारी दीपक कुमार को दिया है. वह जम्मू कश्मीर में अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक रेलवे के तौर पर काम कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर में आतंकियों की शामत, 17 दिनों में 27 से ज्यादा आतंकियों का सफाया
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading