Home /News /nation /

Exclusive: कश्मीर के अलगाववादी नेता गिलानी के आखिरी वीडियो से पाकिस्तान शर्मसार, ISI के मंसूबों की खुली पोल

Exclusive: कश्मीर के अलगाववादी नेता गिलानी के आखिरी वीडियो से पाकिस्तान शर्मसार, ISI के मंसूबों की खुली पोल

उत्तराधिकारी को लेकर सैयद अली शाह गिलानी के वीडियो का स्क्रीन ग्रैब. news18

उत्तराधिकारी को लेकर सैयद अली शाह गिलानी के वीडियो का स्क्रीन ग्रैब. news18

SAS Geelani: जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) के दिवंगत अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी (Separatist Leader SAS Geelani) की मौत से कुछ दिन पहले का एक वीडियो पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) के लिए शर्मिंदगी का कारण बन गया है.

अधिक पढ़ें ...

    श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) के दिवंगत अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी (Separatist Leader SAS Geelani) की मौत से कुछ दिन पहले का एक वीडियो पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) के लिए शर्मिंदगी का कारण बन गया है. दरअसल गिलानी की सितंबर में लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया था, लेकिन उन्होंने मौत से कुछ दिन पहले अब्दुल्लाह गिलानी (Abdullah Gilani) को अपना उत्तराधिकारी नियुक्त किया था. वहीं आईएसआई की कोशिश थी कि वरिष्ठ अलगाववादी नेता गिलानी मसरत आलम (Masarat Alam) को अपना उत्तराधिकारी घोषित करें.

    शीर्ष खुफिया सूत्रों ने कहा कि मौत से कुछ दिन पहले का गिलानी का वीडियो तैयार किया गया था और सोमवार को इसे जारी किया गया. इस वीडियो को पाकिस्तान के शीर्ष नेताओं और पत्रकारों ने जारी किया और शेयर भी किया. सूत्रों के पुख्ता जानकारियों के आधार पर कहा कि आईएसआई हेडक्वार्टर गिलानी के इस वीडियो से खुश नहीं है और कहा है कि उसके अधिकारियों ने मामले को ठीक से हैंडल नहीं किया, इस बारे में पाकिस्तानी एजेंसी ने रिपोर्ट भी मंगाई है.

    गिलानी के निधन के बाद आईएसआई की कोशिश मसरत आलम को उनका असल उत्तराधिकारी प्रोजेक्ट करने और राजनीतिक उत्तराधिकारी के तौर पर आगे बढ़ाने की थी, लेकिन गिलानी के वीडियो रिलीज ने आईएसआई के मंसूबों पर पानी फेर दिया है.

    5 सितंबर को सैयद अली शाह गिलानी के उत्तराधिकारी के तौर पर मसरत आलम के नाम की घोषणा की जानी थी, और उससे एक दिन पहले ‘कोवर्ट एक्शन डिवीजन’ ने अब्दुल्ला गिलानी के इस्लामाबाद स्थित पर छापा मारा और उनसे कहा कि वे वीडियो को जारी ना करें. आशंका इस बात की है कि अब्दुल्लाह गिलानी को गिरफ्तार कर लिया गया है.

    गिलानी की मौत के बाद मसरत आलम को ऑल पार्टीज हुर्रियत कॉन्फ्रेंस या तहरीके हुर्रियत का चेयरमैन घोषित किया गया है. श्रीनगर में हुर्रियत की ओर से जारी बयान में कहा गया, ‘हमारे लाइफटाइम चेयरमैन गिलानी और वरिष्ठ नेता मुहम्मद अशरफ सहराई की मौत के बाद ऑल पार्टीज हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के लिए क्षति की भरपाई कर पाना संभव नहीं है. हालांकि हुर्रियत लीडरशिप के सामने खड़ी चुनौतियों और उसकी भूमिका को देखते हुए मसरत आलम को हुर्रियत का नया चेयरमैन चुना गया है.’

    बता दें कि मसरत आलम जम्मू-कश्मीर के पाकिस्तान में विलय का पक्षधर था. हालांकि मौजूदा समय में वह नई दिल्ली स्थित तिहाड़ जेल में बंद है. 1990 के बाद से लगातार दो दशक से वह जेल में है. उसे आखिरी बार 17 अप्रैल 2015 को श्रीनगर में गिलानी के स्वागत में आयोजित रैली में पाकिस्तान समर्थित नारे लगवाने और पाकिस्तान का झंडा फहराने को लेकर गिरफ्तार किया गया था.

    Tags: Abdullah Gilani, Jammu and kashmir, Masarat Alam, Pakistan ISI, Separatist Leader SAS Geelani, अब्दुल्लाह गिलानी, आईएसआई, जम्मू और कश्मीर, पाकिस्तान, मसरत आलम, सैयद अली शाह गिलानी

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर