Home /News /nation /

jammu and kashmir sun temple martand pilgrims pray video viral

जम्मू-कश्मीरः ASI संरक्षित मार्तंड सूर्य मंदिर में वर्षों बाद हुई पूजा, जुटे 100 से अधिक लोग

जम्मू-कश्मीर स्थित मार्तंण्ड सूर्य मंदिर. फाइल फोटोः ट्विटर से

जम्मू-कश्मीर स्थित मार्तंण्ड सूर्य मंदिर. फाइल फोटोः ट्विटर से

Jammu and Kashmir News: पूजा करने वाले दल के नेता, महाराज रुद्रनाथ अनहद महाकाल ने कहा कि मार्तंड मंदिर में पूजा करने की योजना को लेकर उन्होंने जिला आयुक्त कार्यालय को कई बार मेल किया था, लेकिन कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली.

अनंतनाग. जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग जिले में एएसआई द्वारा संरक्षित मार्तंड सूर्य मंदिर में शुक्रवार सुबह 100 से अधिक तीर्थयात्रियों ने कुछ घंटों तक पूजा-अर्चना की. इस कार्यक्रम के जरिए सूर्य मंदिर में पहली बार शंकराचार्य जयंती मनाई गई है. जिला प्रशासन द्वारा प्रदान किए गए सुरक्षा कर्मियों की मौजूदगी में तीर्थयात्री हिंदू धर्मग्रंथों का पाठ करते हुए प्राचीन मंदिर के खंडहरों के बीच एक पत्थर के मंच पर बैठ गए. कहा जाता है कि 8वीं शताब्दी के इस मंदिर को सिकंदर शाह मिरी के शासन के दौरान 1389 और 1413 के बीच नष्ट कर दिया गया था.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक सूर्य मंदिर में हुई पूजा का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. वायरल हो रहे वीडियो में देखा जा सकता है कि दल के हाथ में भगवा झंडा था, जिस पर ओम लिखा हुआ था, साथ ही तिरंगा भी है. श्रद्धालुओं ने ‘हर हर महादेव’ का नारा लगाते हुए शंख बजाये. वहीं सशस्त्र सुरक्षाकर्मी उनके साथ चल रहे थे, और तीर्थयात्रियों के चारों ओर खड़े देखे जा सकते थे क्योंकि कुछ एक पत्थर के मंच पर बैठे थे और हनुमान चालीसा और गीता के छंदों का पाठ कर रहे थे, जबकि अन्य लोग जमीन पर बैठकर पूजा-अर्चना देख रहे थे.

पूजा करने वाले दल के नेता, महाराज रुद्रनाथ अनहद महाकाल ने कहा कि मार्तंड मंदिर में पूजा करने की योजना को लेकर उन्होंने जिला आयुक्त कार्यालय को कई बार मेल किया था, लेकिन कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली. रुद्रनाथ ने खुद को राजस्थान के करौली स्थित एक धार्मिक निकाय का प्रमुख बताया, जिसे राष्ट्रीय अनहद महायोग पीठ कहा जाता है.

रुद्रनाथ ने कहा कि हमने अपनी योजना के साथ आगे बढ़ने का फैसला किया. केवल इन बातों के बारे में बात करने के बजाय हमें कार्य करना चाहिए. उन्होंने कहा, ‘जब मैंने जिला आयुक्त को फोन किया, तो उन्होंने कहा कि उन्हें हमारे कार्यक्रम की कोई पूर्व सूचना नहीं थी. उन्होंने कहा कि यह सुरक्षित क्षेत्र नहीं है और हमारी सुरक्षा के लिए एक बल भेजा.’ महंत ने कहा कि 6 मई को पूजा की तारीख के रूप में चुना गया था, क्योंकि इस दिन शंकराचार्य जयंती थी.

यह भी पढ़ेंः जम्मू के अरनिया सेक्टर में दिखा पाकिस्तानी ड्रोन, BSF की जवाबी कार्रवाई, वापस लौटा

शारदा पीठ मार्ग को खोलने की मांग
रुद्रनाथ ने कहा कि ‘उनके समूह का मिशन भी ‘भारतीय संस्कृति के ज्ञान’ का प्रसार करके कश्मीर को हिंसा से मुक्त करना है.’ सूर्य मंदिर में पूजा कर रहे लोगों ने पीओके स्थित शारदा पीठ मार्ग को खोलने की मांग करते हुए पीएम मोदी और उपराज्यपाल मनोज सिन्हा से हस्तक्षेप करने की मांग की.

Tags: Jammu and kashmir

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर