Home /News /nation /

जम्मू-कश्मीर से आतंक का सफाया जारी, इस साल ढेर किए गए 134 दहशतगर्द, 135 गिरफ्तार

जम्मू-कश्मीर से आतंक का सफाया जारी, इस साल ढेर किए गए 134 दहशतगर्द, 135 गिरफ्तार

भारतीय सेना पाकिस्तान की हर एक नापाक साजिश को लाइन ऑफ कंट्रोल पर नाकाम कर रही है. (सांकेतिक तस्वीर: Shutterstock)

भारतीय सेना पाकिस्तान की हर एक नापाक साजिश को लाइन ऑफ कंट्रोल पर नाकाम कर रही है. (सांकेतिक तस्वीर: Shutterstock)

Jammu and Kashmir Terrorism: जम्मू-कश्मीर में जारी ऑपरेशन ऑल आउट (Operation All Out) का इस साल भी व्यापक असर देखने को मिला है. सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक, इस साल अब तक न केवल जम्मू-कश्मीर में आतंकी संगठनों में शामिल होने वाले युवाओं की संख्या में गिरावट आई है. पिछले सालों के मुक़ाबले इस साल सुरक्षाबलों ने रिकॉर्ड संख्या में आतंकियों का सफाया भी किया है. वहीं कश्मीर में आतंकियों ने इस साल कई टारगेटिंग किलिंग की हैं, जिनमें पुलिस, आम नागरिक और राजनीतिक दलों से जुड़े हुए लोग हैं.

अधिक पढ़ें ...

श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों (Security Forces in Jammu and Kashmir) को आतंकियों के खिलाफ चलाए गए ऑपरेशन ऑल आउट में बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. कश्मीर में जवानों ने कई टॉप आतंकी कमांडर्स को ढेर किया है, जिसमें A+++ कैटेगिरी के पांच आतंकी भी शामिल हैं. साथ ही आतंकियों के मददगारों का एक बड़ा नेटवर्क भी ध्वस्त किया है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) में आतंकियों के लॉन्चिंग पैड में लगभग 200-250 आतंकी हैं और घुसपैठ करने की कोशिश मे लगे हैं.

इस साल जम्मू-कश्मीर में 134 आतंकियों को सुरक्षाबलों ने ढेर किया है. केंद्र शासित प्रदेश में 214 आतंकी एक्टिव हैं, जिनकी धरपकड़ जारी है. अब तक सुरक्षा बलों ने 135 आतंकी और आतंकियों के OGW को गिरफ्तार किया है. वहीं, इस साल अभी तक 79 आतंक तंजीमों में युवाओं की भर्ती हुई है. जबकि, पिछले साल 166 युवा आतंक की राह पर चले गए थे. ऑपरेशन के दौरान दो आतंकियों ने सुरक्षाबलों के सामने सरेंडर किया और दर्जन बर से ज्यादा नौजवान मुख्यधारा में शामिल हो चुके हैं. जम्मू-कश्मीर में साल 2021 से अभी तक पत्थरबाजी में हुई भारी गिरावट हुई है.

जम्मू-कश्मीर में जारी ऑपरेशन ऑल आउट का इस साल भी व्यापक असर देखने को मिला है. सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक, इस साल अब तक न केवल जम्मू-कश्मीर में आतंकी संगठनों में शामिल होने वाले युवाओं की संख्या में गिरावट आई है. पिछले सालों के मुक़ाबले इस साल सुरक्षाबलों ने रिकॉर्ड संख्या में आतंकियों का सफाया भी किया है. वहीं कश्मीर में आतंकियों ने इस साल कई टारगेटिंग किलिंग की हैं, जिनमें पुलिस, आम नागरिक और राजनीतिक दलों से जुड़े हुए लोग हैं.

यह भी पढ़ें: विद्रोही गुट की छवि बदलने में जुटा तालिबान, अमेरिकी वाहन और रूसी हेलीकॉप्टर से निकाली परेड

​बर्फबारी बढ़ने से पहले आतंकी लगातार घुसपैठ की कोशिश कर रहे हैं. भारतीय सेना पाकिस्तान की हर एक नापाक साजिश को लाइन ऑफ कंट्रोल पर नाकाम कर रही है. इस साल एलओसी पर घुसपैठ के 5 प्रयास किए गए, जिन्हें विफल करते हुए 6 के करीब आतंकियों को भी मारा गया. ये सभी आतंकी लश्कर और जैश संगठन के थे, जिन्हें पाक सेना की मदद से पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी घुसपैठ करवाने की कोशिश में थी.

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने महानिदेशक दिलबाग सिंह ने न्यूज 18 को बताया है कि सीमा पार से जम्मू-कश्मीर खलल डालने और खूनखराबा करने के लिए नई नई साजिशें रची जा रही हैं. सीमा पार से घुसपैठ की कोशिशें हुईं, लेकिन हमने उन्हें विफल किया है. कश्मीर मे टारगेट किलिंग में शामिल कई आतंकियों को हमने मार गिराया है.

Tags: Jammu and kashmir, Pakistan, Terrorism, Terrorists

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर