Home /News /nation /

'ढेर या गिरफ्तार हुए आतंक से जुड़े 70% युवा', IG विजय कुमार ने बताए कश्मीर में दहशतगर्दों के हाल

'ढेर या गिरफ्तार हुए आतंक से जुड़े 70% युवा', IG विजय कुमार ने बताए कश्मीर में दहशतगर्दों के हाल

कश्मीर में आतंकवाद को लेकर पुलिस अधिकारी ने जानकारी. (सांकेतिक तस्वीर: Shutterstock)

कश्मीर में आतंकवाद को लेकर पुलिस अधिकारी ने जानकारी. (सांकेतिक तस्वीर: Shutterstock)

Terrorism in Jammu and Kashmir: आम नागरिकों की हत्याओं को लेकर कुमार ने कहा कि अक्टूबर में श्रीनगर में कुछ घटनाएं हुई हैं, जब सॉफ्ट टारगेट्स मारे गए. उन्होंने कहा कि हमने एक को छोड़कर इन हत्याओं में शामिल सभी को मारा या गिरफ्तार कर लिया है. कुमार बताते हैं कि आतंकी इन हत्याओं को सही ठहराने के लिए आम नागरिकों को सरकारी बलों का सोर्स बताते हैं. उन्होंने कहा कि इस साल मारे गए 28 सुरक्षाबलों में 20 पुलिसकर्मी थे और यह चिंताजनक है. उन्होंने कहा कि पहले वे आतंकवाद विरोधी कामों में शामिल पुलिसवालों को निशाना बनाते थे, लेकिन अब सभी को निशाना बनाया जा रहा है.

अधिक पढ़ें ...

    श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) में आतंकवाद से जुड़ी स्थितियों में सुधार हुआ है. इस बात का दावा कश्मीर पुलिस में IG विजय कुमार ने किया है. उन्होंने बताया है कि आतंकी घटनाओं में कमी आई है और नागरिकों की हत्याओं को लेकर भी हालात अब बेहतर हुए हैं. हाल ही में एक साक्षात्कार में कुमार ने आतंकवाद, ड्रग्स, साइबर क्राइम (Cyber Crime) से लेकर अफगानिस्तान (Afghanistan) में तालिबान (Taliban) के सत्ता में आने पर चर्चा की.

    इकोनॉमिक्स टाइम्स से बातचीत में कुमार ने कहा कि आतंक, कानून और व्यवस्था, नागरिकों और सुरक्षा बलों की हत्या और आतंकवाद में लोगों के शामिल होने में काफी कमी आई है. उन्होंने बताया कि इस साल आतंकी बने करीब 70 फीसदी युवाओं का गिरफ्तार या ढेर कर दिया गया है. कुमार ने कहा कि क्षेत्र में इस साल राष्ट्रपति, केंद्रीय गृहमंत्री, करीब 327 सांसदों और 75 केंद्रीय मंत्रियों की मेजबानी की गई है. इनके अलावा किसी भी घटना के बगैर कई कार्यक्रम आयोजित हुए. पुलिस अधिकारी ने कहा कि यह दिखाता है कि स्थिति में सुधार हुआ है.

    कुमार सैयद अली गिलानी के अंतिम संस्कार को सबसे बड़ी चुनौती बताते हैं. उनका कहना है कि पाकिस्तान भी इस दिन के लिए तैयारी में जुटा हुआ था और अंतिम संस्कार के रास्ते के लिए भी ब्लूप्रिंट तैयार किया गया था. उन्होंने कहा कि आशंका की थी 100 से ज्यादा लोग मारे जाएंगे और लाखों लोग बाहर आएंगे. लेकिन उन्हें दफनाने का प्रबंध खास था. कानून और व्यवस्था से जुड़ा एक भी मामला सामने नहीं आया. यह जमीन पर बदलती स्थिति का सबसे बड़ा संकेत है. उन्होंने कहा कि अगर 10 हजार लोग भी बाहर आते, तो हमें बल प्रयोग करना पड़ता और स्थिति नियंत्रण के बाहर हो जाती.

    आम नागरिकों की हत्याओं को लेकर कुमार ने कहा कि अक्टूबर में श्रीनगर में कुछ घटनाएं हुई हैं, जब सॉफ्ट टारगेट्स मारे गए. उन्होंने कहा कि हमने एक को छोड़कर इन हत्याओं में शामिल सभी को मारा या गिरफ्तार कर लिया है. कुमार बताते हैं कि आतंकी इन हत्याओं को सही ठहराने के लिए आम नागरिकों को सरकारी बलों का सोर्स बताते हैं. उन्होंने कहा कि इस साल मारे गए 28 सुरक्षाबलों में 20 पुलिसकर्मी थे और यह चिंताजनक है. उन्होंने कहा कि पहले वे आतंकवाद विरोधी कामों में शामिल पुलिसवालों को निशाना बनाते थे, लेकिन अब सभी को निशाना बनाया जा रहा है.

    यह भी पढ़ें: पाकिस्तान के मंत्री बोले- तालिबान हमारे लिए खतरा, हमें जिन्ना का मुल्क वापस चाहिए

    IG कुमार ड्रग्स को काफी बड़ी समस्या बताते हैं. उन्होंने कहा कि हमने इसके लिए जमीनी स्तर पर नियमित पुलिस और सामूहिक बैठकें शुरू की हैं. उन्होंने कहा कि नार्को टैरेरिज्म बड़ी समस्या है. कुमार ने जानकारी दी कि घुसपैठ हो रही है और सीमा की दूसरी तरफ से ड्रग्स और हथियार आ रहे हैं.

    उन्होंने कहा कि आशंका थी कि काबुल पर तालिबान के कब्जे के बाद स्थिति बदलेगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. कुमार ने बताया कि पुलिस पैरेंट्स की मदद ले रही है. वे बताते हैं कि पुलिस और जनता के बीच एक भरोसा तैयार हुआ है, जिसकी मदद से युवाओं के आतंकवाद में शामिल होने में कमी आई है.

    Tags: Cyber Crime, Jammu and kashmir, Terrorism, Vijay Kumar, नशा

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर