जम्मू: अंतरराष्ट्रीय सीमा पर घुसपैठ की कोशिश नाकाम, भारी मात्रा में हथियार और मादक पदार्थ बरामद

जम्मू में पाकिस्तान से लगी सीमा पर बीएसएफ के जवानों ने घुसपैठ की कोशिश नाकाम कर दी.
जम्मू में पाकिस्तान से लगी सीमा पर बीएसएफ के जवानों ने घुसपैठ की कोशिश नाकाम कर दी.

जम्मू (Jammu) में पाकिस्तान से लगी सीमा पर बीएसएफ (BSF) के जवानों ने घुसपैठ की कोशिश (Attempt to intrude) नाकाम कर दी. बीएसएफ अधिकारियों के मुताबिक आज सुबह सीमा पर तलाशी अभियान (Search operation) के दौरान मादक पदार्थ के 58 पैकेट और हथियार बरामद किए गए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 20, 2020, 11:57 AM IST
  • Share this:
जम्मू. सीमा सुरक्षा बल (BSF) ने अंतरराष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तान (Pakistan) की ओर से घुसपैठ की कोशिश नाकाम कर मादक पदार्थ के 58 पैकेट (58 packets of narcotics) और दो पिस्तौल बरामद की हैं. बीएसएफ के अधिकारियों ने जानकारी देते हुए बतया कि, संदिग्ध तस्करों ने शनिवार और रविवार की दरम्यानी रात आर एस पुरा सेक्टर के अरनिया इलाके में घुसपैठ की कोशिश की, जिसे नाकाम कर दिया गया. उन्होंने कहा कि, बुधवार और बुल्लेचक सीमा चौकियों के सैनिकों की नजर अंतरराष्ट्रीय सीमा के निकट कुछ पाकिस्तानियों की संदिग्ध गतिविधि पर पड़ी. वे अंधेरे का फायदा उठाकर भारतीय सीमा में घुसपैठ की कोशिश कर रहे थे. अधिकारी ने कहा कि बीएसएफ ने गोलीबारी कर उनके मंसूबों पर पानी फेर दिया.

बीएसएफ अधिकारियों ने बतया कि आज सुबह सघन तलाशी के दौरान नशीले पदार्थ के 58 पैकेट, दो पिस्तौल, चार मैग्जीन और कुछ गोला बारूद बरामद हुआ है. आपको बता दें, पाकिस्तान की ओर से लगातार घुसपैठ की कोशिश हो रही है, जिन्हें बीएसएफ के जवान नाकाम करते आ रहे हैं. अभी कुछ दिन पहले ही जम्मू कश्मीर पुलिस के प्रमुख ने बताया था कि, पाकिस्तान आतंकवादियों को भूमिगत सुरंग के रास्ते घुसपैठ कराने की कोशिश कर रहा है. साथ ही हथियार गिराने के लिए ड्रोनों का इस्तेमाल किया जा रहा है. हालांकि, पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने साफ किया कि नापाक मंसूबों को ध्वस्त करने के लिए 'घुसपैठ रोधी ग्रिड' सक्रिय है और सुरंग को उजाकर करने लिए अभियान चलाया जा रहा है.






उन्होंने बताया कि, हाल में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास गलार गांव में 170 मीटर की सुरंग का पता लगाया गया था. इस सुरंग की गहराई 20-25 फुट थी, और यह पाकिस्तान की तरफ से बनायी गयी थी. बीएसएफ की एक टीम ने 28 अगस्त को इसका पता लगाया था. डीजीपी ने कहा, 'मैंने इस सुरंग का निरीक्षण किया. यह चनयारी में 2013-14 में पता लगाई गई सुरंग की तरह ही थी.

उन्होंने बताया कि, नगरोटा मुठभेड़ के बाद हमें गुप्त सूचना मिली थी कि, सुरंग के जरिए घुसपैठ की गई है. हम इसकी तलाश में थे. आपको बता दें, इसी साल जनवरी में नगरोटा में जैश-ए-मोहम्मद के तीन आतंकी मारे गए थे. डीजीपी ने कहा कि, ऐसी और सुरंगों के होने की भी आशंका को खारिज नहीं किया जा सकता. इसलिए बीएसएफ और पुलिसकर्मी ऐसी और सुरंगों को उजागर करने के लिए अभियान चला रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज