कश्मीर: कड़ी सुरक्षा के बीच खुले स्कूल, बच्चों से दिखे गुलज़ार

News18Hindi
Updated: August 19, 2019, 10:25 AM IST
कश्मीर: कड़ी सुरक्षा के बीच खुले स्कूल, बच्चों से दिखे गुलज़ार
जम्मू-कश्मीर में करीब 14 दिन बाद स्कूलों में लौटी रौनक

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में करीब 14 दिन बाद स्कूल खुलने शुरू हो गए हैं. राजौरी में आज स्कूल खुलने पर बड़ी संख्या में बच्चे वहां पहुंचे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 19, 2019, 10:25 AM IST
  • Share this:
जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में आर्टिकल 370 (Article 370) हटाए जाने के बाद राज्य में लगाई गईं पाबंदियां अब धीरे-धीरे खत्म की जा रही हैं. मोबाइल इंटरनेट, स्कूल और अन्य पाबंदियों पर अब छूट दी जा रही है. करीब 14 दिन बाद आज से वहां स्कूल-कॉलेज भी खुलने शुरू हो गए हैं. राजौरी में आज स्कूल खुलने पर बड़ी संख्या में बच्चे वहां पहुंचे. इसके साथ श्रीनगर के 190 प्राइमरी स्कूलों (Primary Schools) को खोला जाएगा. हालांकि सीनियर क्लासेज के स्कूलों को अभी खोलने का आदेश नहीं दिया गया है. वहीं, किसी भी अव्यवस्था से निपटने के लिए सुरक्षाबल 24 घंटे मौर्चे पर तैनात कर दिए गए हैं.

जम्मू कश्मीर के प्रधान सचिव रोहित कंसल ने रविवार को कहा कि अभी केवल श्रीनगर के 190 प्राइमरी स्कूलों को ही दोबारा खोला जा रहा है. श्रीनगर के जिन क्षेत्रों में स्कूल खोले जाएंगे उनमें लासजान, सांगरी, पंथचौक, राजबाग, जवाहर नगर, नौगाम, गगरीबाल, धारा, थीड, बाटमालू और शाल्टेंग शामिल हैं. कंसल ने कहा कि आर्टिकल 370 (Article 370) हटाए जाने मद्देनजर जितने भी दिन स्कूल बंद रहे हैं, उनके बदले इस महीने बाद में पूरक कक्षाएं लगाई जाएंगी. राज्य में हालात सामान्य होते ही अन्य जिलों के स्कूलों को भी खोल दिया जाएगा.


बच्चों की सुरक्षा के पूरे इंतजाम
Loading...

रोहित कंसल ने बताया कि श्रीनगर के उपायुक्त शाहिद इकबाल चौधरी ने शनिवार को शिक्षा विभाग के अधिकारियों और स्कूलों के प्रमुखों के साथ बैठक की थी. इस बैठक में जिले के स्कूलों को खोलने पर चर्चा की गई. स्कूलों की सुरक्षा जिला प्रशासन की मुख्य चिंता है और सुरक्षा पुख्ता करने के लिए सभी जरूरी इंतजाम किए गए हैं.

घाटी में हालात कंट्रोल में
कंसल ने बताया कि कश्मीर घाटी में पांबदियों में ढील दी जा रही है. स्थानीय अधिकारी हालातों का जायजा ले रहे हैं. वहीं, इस संबंध में श्रीनगर के डीसी ने कहा कि अब काफी हद तक स्थिति कंट्रोल में है. प्रशासन लगातार इस कोशिश में जुटा हुआ है कि जम्मू कश्मीर में लोगों की जिंदगी जल्द से जल्द पटरी पर लौट आए.

घाटी में रविवार को 10 और टेलीफोन एक्सचेंजों को बहाल किया गया
घाटी में रविवार को 10 और टेलीफोन एक्सचेंजों को बहाल किया गया


लैंडलाइन फोन सेवाएं भी की गईं बहाल
राज्य में सामान्य जनजीवन सुचारू बनाने के उद्देश्य से रविवार को लैंडलाइन फोन सेवाएं भी बहाल कर दी गई. उन्होंने बताया कि 35 पुलिस थाना क्षेत्रों में प्रतिबंधों में ढील दी गई, जबकि 27 टेलीफोन एक्सचेंजों के 50,000 से ज्यादा लैंडलाइन फोन चालू कर दिए गए हैं. जल्द ही कुछ और पाबंदियां हटाई जाएंगी.

मोबाइल इंटरनेट सेवाएं फिर बंद
आर्टिकल 370 (Article 370) हटाए जाने के बाद जम्मू में फैलाई जा रही अफवाहों को देखते हुए रविवार को एक बार फिर पांच जिलों में शुरू की गई 2जी मोबाइल इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी गई. शनिवार सुबह ही टेलीफोन और इंटरनेट सेवा को बहाल किया गया था. अधिकारियों ने बताया कि अफवाहों को फैलने से रोकने और शांति बनाए रखने के लिए यह फैसला लिया गया.

ये भी पढ़ें-

PM मोदी-शाह पर प्रियंका गांधी का हमला, पूछा- क्या देश में लोकतंत्र बचा है?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 19, 2019, 9:50 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...