होम /न्यूज /राष्ट्र /

औरंगजेब के भाई बोले: सरकार हमें बताए, कश्‍मीर से आतंकियों का सफाया कर देंगे

औरंगजेब के भाई बोले: सरकार हमें बताए, कश्‍मीर से आतंकियों का सफाया कर देंगे

राष्ट्रीय राइफल्स के जवान औरंगजेब ईद पर जब अपने घर आ रहे थे तो पुलवामा जिले में आतंकियों ने उनको अगवा कर लिया और उनकी हत्या कर दी.

    (मुनीष शर्मा)

    आतंकवादियों द्वारा अगवा किए जाने के बाद मार दिए गए सेना के जवान औरंगजेब के छोटे भाई मोहम्‍मद आसिम बदला लेना चाहते हैं. आसिम ने कहा कि वह अपने भाई की हत्‍या का बदला लेकर रहेंगे. उन्‍होंने न्‍यूज18 इंडिया से कहा, 'मेरे आने से पहले दहशतगर्द कश्मीर छोड़ कर भाग जाएं. मैं अपने भाई का बदला लेकर रहूंगा. अगर मुझे सेना में भर्ती न भी किया गया तो मैं कश्मीर जा कर कुल्हाड़ी से उनको काट डालूंगा.'

    आसिम ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उसे सेना में भर्ती करने की अपील की है. बकौल आसिम, 'मैं पीएम मोदी से कहता हूं मुझे सेना में भर्ती किया जाए. अगर मुझे सेना में भर्ती न किया गया तो मैं कुल्हाड़ी लेकर कश्मीर जाकर उन सब दहशतगदों को काट डालूंगा.' उनका कहना है कि औरंगजेब ने अंतिम बार उनसे ही फोन पर बात की थी. उन्‍होंने कहा, ‘मेरा भाई निजी गाड़ी से पुंछ आ रहा था. वह मुझसे बात कर रहा था. मैंने गाड़ी रूकवाने की आवाज सुनी. मुझे लगा कि कुछ जांच हो रही है. मुझे बिल्कुल अंदाजा नहीं था कि मेरे निहत्थे भाई को आतंकियों ने अगवा कर लिया है.’

    वहीं औरंगजेब के बड़े भाई और सेना में लांस नायक मोहम्‍मद कासिम ने मामले की जांच की मांग की है. उन्‍होंने कहा कि हत्या की जांच होनी चाहिए. 44 राष्‍ट्रीय राइफल्‍स में जितने भी कश्मीरी हैं उनसे और सूमो ड्राइवर से पूछताछ होनी चाहिए. बकौल कासिम, 'हमें औरंगजेब के बदले पचास आतंकियों के सर चाहिए. औरंगजेब की हत्या की सही तरह जांच होनी चाहिए. उसकी हत्या एक बहुत बड़ी साजिश है.'

    कासिम ने आगे कहा कि एक जवान अपने शिविर से घर के लिए निकलता है और आधे घंटे में उसका अपहरण हो जाता है तो इसके पीछे कोई अनजान भी जान सकता है कि किसी अंदर के व्‍यक्ति ने आतंकियों को उसकी खबर दी है. उसकी मुखबरी की है और अगर सही तरह से जांच की जाए तो इस बात का खुलासा हो जाएगा. कासिम अपने भाई को सुरक्षा न दिए जाने की बात उजागर करते हुए कहते हैं कि एक जवान जिसने आतंकियों के सरगनाओं को मार गिराया हो जिसके पीछे आतंकी पड़े हो उसे बिना सुरक्षा के शिविर के बाहर से एक सूमो में बिठा देना सुरक्षा में चूक नहीं तो क्या है. अभी तक उस ड्राइवर को गिरफ्तार तक नहीं किया गया है.

    कासिम गुस्‍से में कहते हैं, 'हमें अपने भाई बल्कि पूरे हिन्दुस्तान के भाई औरंगजेब के बदले पचास आतंकियों के सिर चाहिए. अगर सरकार या फौज ऐसा नहीं कर सकती तो हमें बताए गांव के नौजवानों को साथ लेकर कश्मीर में आतंकियों का सफाया कर देंगे. हम औरंगजेब को निहत्थे व बेरहमी से मारने वालों को कभी नहीं छोड़ेंगे.'

    बता दें कि राष्ट्रीय राइफल्स के जवान औरंगजेब ईद पर जब अपने घर आ रहे थे तो पुलवामा जिले में आतंकियों ने उनको अगवा कर लिया और उनकी हत्या कर दी.

    Tags: Indian army, Jammu kashmir

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर