लाइव टीवी

कश्‍मीर के नेताओं ने LG से की मुलाकात, हिरासत में लिए गए नेताओं के रिहाई की उठाई मांग

भाषा
Updated: January 7, 2020, 11:07 PM IST
कश्‍मीर के नेताओं ने LG से की मुलाकात, हिरासत में लिए गए नेताओं के रिहाई की उठाई मांग
पूर्व विधायकों ने जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल से मुलाकात की

सैयद अलताफ बुखारी (Altaf Bukhari) समेत नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल ने मंगलवार को जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के उपराज्यपाल (Lieutenant Governor GC Murmu) से मुलाकात की.

  • Share this:
श्रीनगर. सैयद अलताफ बुखारी (Altaf Bukhari) के नेतृत्व में आठ पूर्व विधायकों ने मंगलवार को जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के उपराज्यपाल के कार्यालय (Lieutenant Governor GC Murmu) से संवाद स्थापित कर पूर्ण राज्य का दर्जा बहाल करने समेत कई मांगें रखीं. यह मुख्यधारा के नेताओं का पहला समूह है जिसने उपराज्यपाल कार्यालय से संवाद स्थापित किया है.

15 बिंदुओं का ज्ञापन सौंपा
प्रतिनिधिमंडल ने उपराज्यपाल जी. सी. मुर्मू से मुलाकात की और 15 बिंदुओं वाला ज्ञापन सौंपा जिसमें जमीन और नौकरियों में लोगों के अधिकारों को सुरक्षित करना, हिरासत में लिए गए लोगों को रिहा करना और युवकों पर दर्ज मामले वापस लेना आदि शामिल हैं.

'जम्‍मू कश्‍मीर की समस्‍याओं से अवगत कराया'



बुखारी ने पीटीआई को बताया, 'हमने मुर्मू साहब से मुलाकात की और अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को समाप्त करने के बाद जम्मू-कश्मीर से संबंधित चिंताओं से उन्हें अवगत कराया. हमने निजी तौर पर मुलाकात की.' वह पीडीपी-भाजपा गठबंधन सरकार में वित्त मंत्री थे.



नेताओं ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के लोगों का विश्वास जीतने के लिए केंद्र को कश्मीर के प्रति अपनी दशकों पुरानी नीति पर फिर से विचार करना होगा और लोगों की आशंकाओं का उचित एवं मानवीय तरीके से समाधान करना होगा. उन्होंने कहा कि केवल सुरक्षा उपयों पर निर्भर रहना और लोगों की राजनीतिक आकांक्षाओं को कानून-व्यवस्था के दृष्टिकोण से देखने से केवल पुराने नतीजे ही होंगे.

प्रतिनिधिमंडल में शामिल थे ये नेता
ज्ञापन में कहा गया, 'हम पूर्ण राज्य की बहाली की मांग करते हैं जिसमें विधान परिषद् स्थापित करने और सामाजिक एवं आर्थिक रूप से पिछड़े वर्गों के लिये सीटों के आरक्षण, कला एवं संस्कृति, भाषाओं, साहित्य और खेल की बहाली शामिल है.' प्रतिनिधिमंडल में शामिल अन्य सदस्य गुलाम हसन मीर (अध्यक्ष, डेमोक्रेटिक पार्टी नेशनलिस्ट), मोहम्मद दिलावर मीर (पूर्व मंत्री), जफर इकबाल (पीडीपी के पूर्व विधान परिषद् सदस्य), जावेद हसन बेग, नूर मोहम्मद शेख, चौधरी कमर हुसैन और रजा मंजूर अहमद (सभी पीडीपी के पूर्व विधायक) थे.

भारत में कई देशों के राजदूत जल्द करेंगे जम्मू कश्मीर का दौरा
खाड़ी समेत 15 से 20 देशों के राजदूतों का शिष्टमंडल जल्द जम्मू कश्मीर जाकर वहां सुरक्षा स्थिति की जानकारी ले सकता है. अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी. अधिकारियों ने यह भी कहा कि अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस और रूस जैसे पी5 देशों के कुछ राजदूतों को भी इसमें शामिल करने का प्रयास है लेकिन उनकी पुष्टि का इंतजार है.

15 से 20 राजदूत जाएंगे जम्‍मू कश्‍मीर
अधिकारियों के अनुसार, भारत में पदस्थ करीब 15 से 20 राजदूतों को इस सप्ताह के आखिर में कश्मीर घाटी ले जाया जाएगा जहां उन्हें राज्य में फैले उग्रवाद में पाकिस्तान की संलिप्तता के बारे में सुरक्षा एजेंसियां जानकारी देंगी. उन्होंने कहा कि उसी दिन उन्हें जम्मू ले जाया जाएगा जहां वे उपराज्यपाल जी सी मुर्मू तथा अन्य अधिकारियों से मुलाकात करेंगे और अगले दिन दिल्ली लौट आएंगे.

इन देशों के राजदूत जाएंगे
सूत्रों ने बताया कि कई देशों के राजदूतों ने सरकार से अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को समाप्त करने के बाद घाटी में बनी स्थिति का मुआयना करने के लिए कश्मीर जाने का अनुरोध किया है. जिन राजदूतों को कश्मीर ले जाया जाएगा उनमें यूरोप, अफ्रीका, मध्य एशिया, लातिन अमेरिका और पश्चिम एशिया समेत कई महत्वपूर्ण क्षेत्रों के प्रतिनिधि हो सकते हैं. यह कदम कश्मीर मुद्दे पर भारत के खिलाफ पाकिस्तान के दुष्प्रचारों को धता बताने के देश के कूटनीतिक प्रयासों का हिस्सा होगा.

किसी विदेशी शिष्टमंडल की यह दूसरी कश्मीर यात्रा
गत पांच अगस्त को जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने से जुड़े अनुच्छेद 370 को समाप्त करने और राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटने के बाद किसी विदेशी शिष्टमंडल की यह दूसरी कश्मीर यात्रा होगी. इससे पहले यूरोपीय संघ के 23 सांसदों के शिष्टमंडल को दिल्ली स्थित संस्था इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर नॉन अलाइन्ड स्टडीज द्वारा केंद्रशासित प्रदेश की स्थिति का जायजा लेने के लिए दो दिन के दौरे पर ले जाया गया था. हालांकि सरकार ने शिष्टमंडल के दौरे से दूरी बना ली थी. गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्डी ने संसद में कहा था कि यूरोपीय सांसद निजी दौरे पर गये थे.

ये भी पढ़ें: सुरक्षाकर्मियों ने धक्‍का-मुक्‍की की, नाना की कब्र पर जाने से रोका : इल्तिजा

ये भी पढ़ें: कड़ाके की ठंड में 12 KM पैदल चलकर CRPF जवानों ने भूखे बच्चों तक पहुंचाया खाना
First published: January 7, 2020, 11:03 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading