सत्यपाल मलिक बोले- आपसी बंधनों को और मजबूत करेगा ईद का त्योहार

सत्यपाल मलिक बोले- आपसी बंधनों को और मजबूत करेगा ईद का त्योहार
जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के राज्यपाल सत्यपाल मलिक (Satyapal Malik) नेलोगों को ईद-उल जुहा (Eid-Ul-Adha) की मुबारकबाद देते हुए उनकी भलाई और समृद्धि की कामना की है.

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के राज्यपाल सत्यपाल मलिक (Satyapal Malik) नेलोगों को ईद-उल जुहा (Eid-Ul-Adha) की मुबारकबाद देते हुए उनकी भलाई और समृद्धि की कामना की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 11, 2019, 5:55 PM IST
  • Share this:
जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के राज्यपाल सत्यपाल मलिक (Satyapal Malik) ने रविवार को लोगों को ईद-उल जुहा (Eid-Ul-Adha) की मुबारकबाद देते हुए उनकी भलाई और समृद्धि की कामना की. राज्यपाल (Governor) ने अपने संदेश में कहा कि उन्हें उम्मीद है कि यह त्योहार सांप्रदायिक सौहार्द, भाईचारे और मेल-जोल को और अधिक मजबूत करेगा. साथ ही जम्मू-कश्मीर के उस गौरवशाली बहुलवादी सदाचार को पुनर्जीवित करेगा जिसके लिये वह सदियों से जाना जाता है. राज्यपाल ने अपने बधाई संदेश में जम्मू-कश्मीर में शांति, प्रगति और समृद्धि की कामना की.

राज्य में खुलीं दुकानें
केंद्र सरकार ने सोमवार को बकरीद (Bakrid) से पहले जम्मू एवं कश्मीर में सुरक्षा नियंत्रण में ढील के साथ राज्य प्रशासन ने भी राज्य कर्मचारियों के साथ आम जनता के लिए सहायता की घोषणा की है. राज्य प्रशासन ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि राज्य में ईद (Eid) की तैयारियां सामान्य रूप से चल रही हैं और बेकरी/पोल्ट्री/मटन की दुकानें रविवार को खुली हैं और इनके बाहर लंबी कतारें दिख रही हैं.

जारी हुआ हेल्पलाइन नंबर
श्रीनगर (Srinagar) स्थित सीआरपीएफ (CRPF) हेल्पलाइन ने रविवार को लोगों के लिए नया हेल्पलाइन नंबर (Helpline Number) जारी किया. यह नंबर खासकर कश्मीर (Kashmir) के उन लोगों के लिए है, जिन्हें अपने परिवार के लिए मदद चाहिए या जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 (Article 370) के प्रावधानों को खत्म किए जाने के बाद जो मुश्किल में हैं.



गृह मंत्री बोले खत्म होगा आतंकवाद
वहीं केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने रविवार को उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू (Venkaiah Naidu) की किताब के विमोचन के मौके पर कहा कि संविधान के अनुच्छेद 370 (Article 370) के तहत जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) को मिल रहे विशेष दर्जे को हटाने से क्षेत्र में आतंकवाद (Terrorism) का खात्मा होगा और वह विकास के मार्ग पर अग्रसर होगा.

जम्मू-कश्मीर के सर्वे में सामने आई ये बात
गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर और लद्दाख (Jammu-Kashmir and Ladakh ) के अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश बनाए जाने के बाद CNN-News18 ने सर्वे किया है. इस सर्वे में सामने आया है कि अधिकतर लोग इस फैसले से खुश हैं. वे सभी फैसले का स्वागत कर रहे हैं. वहीं जम्मू और कश्मीर (Jammu And Kashmir) के युवाओं का मानना है कि अब उन्हें रोजगार के और उचित अवसर मिलेंगे. लद्दाख ( Ladakh ) डिवीजन में लोगों ने इस फैसले का स्वागत किया है.

(इनपुट भाषा से)

ये भी पढ़ें-
कश्मीर में CRPF ने हेल्पलाइन के लिए नया नंबर जारी किया

लाल किले पर हो सकता है आतंकी हमला, अलर्ट

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज