नेताओं की हत्या वाले बयान पर सत्यपाल मलिक की सफाई, कहा- मुझे ऐसा नहीं कहना चाहिए था

सत्यपाल मलिक ने कहा कि मुझे राज्यपाल होने के नाते ऐसी टिप्पणी नहीं करनी चाहिए थी. मैंने जो भी कहा, वह यहां लगातार बढ़ रहे भ्रष्टाचार की वजह से हताशा और गुस्से में कहा था.

News18Hindi
Updated: July 22, 2019, 12:42 PM IST
नेताओं की हत्या वाले बयान पर सत्यपाल मलिक की सफाई, कहा- मुझे ऐसा नहीं कहना चाहिए था
जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: July 22, 2019, 12:42 PM IST
जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने भ्रष्ट राजनेताओं और नौकरशाहों की हत्या करने वाले बयान पर सफाई दी है. सत्यपाल मलिक ने सोमवार को कहा कि मुझे राज्यपाल होने के नाते ऐसी टिप्पणी नहीं करनी चाहिए थी. उन्होंने कहा कि मैंने जो भी कहा, वह यहां लगातार बढ़ रहे भ्रष्टाचार की वजह से हताशा और गुस्से में कहा था. लेकिन मेरी सोच वही है कि यहां बहुत राजनेता और नौकरशाह भ्रष्टाचार में लिप्त हैं.

सत्यपाल मलिक ने कहा था, 'ये लड़के जो बंदूक लिए अपने लोगों को मार रहे हैं, पीएसओ, एसडीओ को मारते हैं. क्यों मार रहे हो इनको? उन्हें मारो जिन्होंने तुम्हारा मुल्क लूटा है, जिन्होंने कश्मीर की सारी दौलत लूटी है. इनमें से भी कोई मारा है अभी? बंदूक से कुछ हासिल नहीं होगा.' उन्होंने कहा, 'श्रीलंका में लिट्टे नामक एक संगठन था और उसे समर्थन भी था लेकिन यह भी समाप्त हो गया.

 



राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने ख्री सुल्तान चो स्पोर्ट्स स्टेडियम कारगिल में कारगिल लद्दाख पर्यटन महोत्सव -2019 के उद्घाटन पर ये विवादित भाषण दिया था. राज्यपाल ने कहा कि कारगिल और लेह के में पर्यटन की व्यापक संभावनाएं हैं और यहां इस तरह के पर्यटन उत्सवों की आवश्यकता थी.

मलिक के इस बयान के बयान विपक्षी दल कड़ी प्रतिक्रिया दे रहे हैं. जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने कहा कि आज के बाद जम्मू-कश्मीर में किसी भी राजनेता या सेवारत नौकरशाह की हत्या होती है तो उसके लिए सत्यपाल मलिक जिम्मेदार होंगे.



मलिक पहले भी दे चुके हैं विवादित बयान

बता दें सत्‍यपाल मलिक का यह पहला विवादित बयान नहीं था. इससे पहले भी वे कई बार सरकार के लिए मुसीबत खड़ा करने वाला बयान दे चुके हैं. इसी साल जनवरी में भी उनका आतंकियों को लेकर एक ऐसा ही बयान सामने आया था. उस दौरान उन्‍होंने कहा था कि जब आतंकी मारा जाता है तो उन्‍हें दुख होता है. उन्‍होंने कहा था, ' पुलिस अपना काम बहुत ही अच्‍छे से कर रही है. लेकिन राज्‍य में अगर एक भी जान जाती है तो उन्‍हें दुख होता है, फिर चाहे वे आतंकी ही क्‍यों न हो.

ये भी पढ़ें-

SBI ग्राहकों को 10 दिन बाद से फ्री में मिलेगी ये सर्विसेज

बाजार में भारी गिरावट, सेंसेक्स 350 अंकों से ज्यादा टूटा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 22, 2019, 12:26 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...