• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • जम्‍मू कश्‍मीर में निशाने पर 10 आतंकी, कुल 225 हैं सक्रिय, पुलिस ने जारी की हिट लिस्‍ट

जम्‍मू कश्‍मीर में निशाने पर 10 आतंकी, कुल 225 हैं सक्रिय, पुलिस ने जारी की हिट लिस्‍ट

सुरक्षाबलों के निशाने पर हैं 10 आतंकी. (File pic)

सुरक्षाबलों के निशाने पर हैं 10 आतंकी. (File pic)

Jammu Kashmir: पुलिस की नई हिट लिस्‍ट में आतंकी सलीम पररे, अब्‍बास शेख, युसूफ कांतरू, रियाज शितेरगुंड, फारूक नली, जुबैर वानी और अशरफ मौलवी पुराने आतंकी हैं.

  • Share this:

    श्रीनगर. जम्‍मू कश्‍मीर (Jammu Kashmir) के पुलवामा (Pulwama) में 2019 में सीआरपीएफ (CRPF) के काफिले पर हुए हमले में शामिल जैश-ए-मोहम्मद के दो शीर्ष आतंकवादियों को शनिवार को दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले में ही सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में मार गिराया है. इसके साथ ही जम्‍मू कश्‍मीर पुलिस ने 10 आतंकियों (Terrorist) की हिट लिस्‍ट जारी की है. इसमें तीन नाम नए हैं. पुलिस घाटी में सुरक्षाबलों के साथ मिलकर आतंकियों पर शिकंजा कस रही है. आईजी विजय कुमार ने सोमवार को ट्विटर पर आतंकियों की यह सूची जारी की है.

    पुलिस की नई हिट लिस्‍ट में आतंकी सलीम पररे, अब्‍बास शेख, युसूफ कांतरू, रियाज शितेरगुंड, फारूक नली, जुबैर वानी और अशरफ मौलवी पुराने आतंकी हैं. जबकि नए आतंकियों में साकिब मंजूर, उमर मुश्‍ताक खांडे और वकील शाह का नाम है. आईजी विजय कुमार के मुताबिक अब ये सभी आतंकी हिट लिस्‍ट में शामिल हैं. इन्‍हें जल्‍द ही खोजकर मार गिराया जाएगा.

    बताया गया है कि घाटी में अब तक इस साल 89 आतंकियों को मार गिराया गया है. इनमें से 7 विदेशी आतंकी थे. अब मौजूदा समय कश्‍मीर घाटी में करीब 200 से 225 आतंकी सक्रिय हैं. यह संख्‍या पिछले सालों के मुकाबले कम हुई है. 2019 में घाटी में करीब 400 आतंकी सक्रिय थे. 2020 में यह संख्‍या 300 रह गई थी.

    वहीं आतंकवादी शाकिर अल्ताफ भट के हाल में मारे जाने और उसके बाद जांच में सामने आए तथ्यों ने जम्मू कश्मीर में सुरक्षा प्रतिष्ठानों के लिए खतरे की घंटी बजा दी है. जांच में पता चला कि भट 2018 में वैध पासपोर्ट के जरिए पढाई के लिए पाकिस्तान गया था और वहां से आतंकवादी बनकर लौटा.

    अधिकारियों ने कहा कि सुरक्षा एजेंसियों ने 2015 और 2019 के बीच जारी किए गए पासपोर्ट का अध्ययन किया और पाया कि जो 40 नौजवान पढ़ाई के लिए बांग्लादेश या पाकिस्तान गए थे, उनमें से 28 ने प्रशिक्षित आतंकवादियों के रूप में देश में वापस घुसपैठ की थी. इसके अलावा 100 से अधिक कश्मीरी युवाओं ने कम अवधि के लिए वैध वीजा पर पाकिस्तान की यात्रा की और या तो वापस नहीं आए या पिछले तीन वर्षों में अपनी वापसी के बाद गायब हो गए. सुरक्षा एजेंसियों को आशंका है कि ये सीमा पार से सक्रिय आतंकी समूहों के स्लीपर सेल हो सकते हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज