सुरक्षाबलों और माता-पिता ने की अपील, फिर भी नाबालिग आतंकी ने नहीं किया सरेंडर; एनकाउंटर में ढेर

रविवार को 5 आतंकियों को सुरक्षा बलों ने ढेर कर दिया है. (फाइल फोटो)

रविवार को 5 आतंकियों को सुरक्षा बलों ने ढेर कर दिया है. (फाइल फोटो)

Jammu Kashmir Minor terrorist: रविवार को जब शोपियां के हादीपोरा गांव में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ हुई तो नाबालिग भी इस गिरोह में शामिल था. मुठभेड़ के दौरान नाबालिग आतंकी को समझाने और सरेंडर करवाने की सुरक्षाबलों द्वारा काफी कोशिश की गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 11, 2021, 5:40 PM IST
  • Share this:
mu kasश्रीनगर. जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) में रविवार को तीन अलग-अलग जगहों पर सुरक्षाबलों ने 5 आतंकवादियों को ढेर कर दिया है. सुरक्षाबलों (Security Force) द्वारा चलाए गए इस ऑपरेशन में मारे गए आतंकियों में एक 14 साल का नाबालिग भी शामिल है. बताया जा रहा है कि नाबालिग लगभग (Minor Terrorist) एक सप्ताह से घर से लापता था और इस दौरान वो किसी आतंकी संगठन में शामिल हो गया.

रविवार को जब शोपियां के हादीपोरा गांव में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ हुई तो नाबालिग भी इस गिरोह में शामिल था. मुठभेड़ के दौरान नाबालिग आतंकी को समझाने और सरेंडर करवाने की सुरक्षाबलों द्वारा काफी कोशिश की गई. नाबालिग सरेंडर कर दे इसके लिए मौके पर उसके माता-पिता को भी बुलाया गया. हालांकि उसने किसी की बात नहीं मानी और मारा गया.

पुलिस और सुरक्षाबलों ने सरेंडर करने के लिए दिए कई मौके

ऑपरेशन में मारे गए नाबालिग आतंकी के मारे जाने पर जम्मू कश्मीर पुलिस के आईजी विजय कुमार ने कहा कि हमने उसे सरेंडर करने का मौका दिया था, लेकिन उसके आतंकी आकाओं ने उसे ऐसा करने से रोका. आईजी विजय कुमार ने बताया, 'हम उसके पैरेंट्स को एनकाउंटर साइट पर लाए थे और उससे सरेंडर की अपील की थी. वह सरेंडर करना भी चाहता था, लेकिन उसके आकाओं ने उसे ऐसा करने से रोका.'
आखिरी बार माता-पिता से कहे ये शब्द

आईजी विजय कुमार के मुताबिक शनिवार रात को इन्हें हादीपोरा गांव में आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी. जिसके बाद सीआरपीएफ और स्थानीय पुलिस ने इलाके की घेराबंदी की और आतंकियों को मार गिराया. उन्होंने कहा कि सुरक्षाबलों की ओर से घेर लिए जाने के बाद नाबालिग ने अपने माता-पिता को कॉल किया था.





उसने उन्हें बताया था कि एक आतंकी मारा गया है और मेरी जान बचा लीजिए. हमने उसकी जान बचाने का प्रयास भी किया, लेकिन दूसरे आतंकी आसिफ ने उसे बाहर निकलने और सरेंडर करने से रोक लिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज