'कश्मीर को लेकर झूठ फैला रहा है अंतरराष्ट्रीय मीडिया'

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में ऐसी खबरें आई थी कि सुरक्षा बलों की भारी तैनाती के बीच शुक्रवार को घाटी में एक बड़ा विरोध प्रदर्शन हुआ है.

News18Hindi
Updated: August 11, 2019, 8:20 AM IST
'कश्मीर को लेकर झूठ फैला रहा है अंतरराष्ट्रीय मीडिया'
कश्मीर में हालात धीरे-धीरे सामान्य हो रहे हैं
News18Hindi
Updated: August 11, 2019, 8:20 AM IST
आजकल हर तरफ जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) पर लागू रही अनुच्छेद 370 (Article 370) की चर्चा है. केंद्र सरकार द्वारा अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू-कश्मीर को दिए गए विशेष दर्जे को हटाने के बाद कांग्रेस लगातार मोदी सरकार पर सवाल उठा रही है तो बीजेपी भी पलटवार करने से चूक नहीं रही है. वहीं, आईजीपी कश्मीर एसपी पानी ने कश्मीर में पुलिस फायरिंग की मीडिया रिपोर्टों का खंडन किया है. पानी ने कहा कि कुछ अंतरराष्ट्रीय मीडिया रिपोर्टों में गोलीबारी की बातें गलत हैं, ऐसी कोई भी घटना नहीं हुई है. घाटी पिछले एक सप्ताह से काफी हद तक शांत है.

दरअसल, कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में ऐसी खबरें आई थी कि सुरक्षा बलों की भारी तैनाती के बीच शुक्रवार को घाटी में एक बड़ा विरोध प्रदर्शन हुआ है और प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए सुरक्षाबलों ने पैलेट गन का भी प्रयोग किया.

बता दें कि रूस ने जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल-370 हटाए जाने पर भारत का समर्थन किया है. रूस के विदेश मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है भारत का जम्मू-कश्मीर को दो भागों में बांटकर केंद्र शासित प्रदेश बनाने का फैसला संविधान के दायरे में लिया गया है. इसी के साथ जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल-370 हटाने का फैसला भी भारत ने संविधान के दायरे में लिया है.

रूस ने उम्मीद जताई है कि जम्मू-कश्मीर का मुद्दा भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव की स्थिति जरूर पैदा हुई है लेकिन दोनों ही देश इस मामले में संयम बरत रहे हैं. बयान में कहा गया है कि रूस हमेशा से भारत और पाकिस्तान के बीच बेहतर रिश्तों का पक्षधर रहा है. रूस ने उम्मीद जताई है कि दोनों देश किसी भी तरह के विवाद को राजनीतिक और राजनयिक संवाद से सुलझा लेंगे.
Loading...

ये भी पढ़ें-

CNN-NEWS18 Survey: Jammu & Kashmir के 70 फीसदी लोग बंटवारे पर सरकार के साथ

CNN-NEWS18 Survey: जम्‍मू-कश्‍मीर में शांति, महिलाओं ने किया बंटवारे का समर्थन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 11, 2019, 5:37 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...