होम /न्यूज /राष्ट्र /

जम्मू-कश्मीर LIVE: 'पाकिस्तान कनेक्शन' पर विवाद के बाद राम माधव ने वापस लिया बयान

जम्मू-कश्मीर LIVE: 'पाकिस्तान कनेक्शन' पर विवाद के बाद राम माधव ने वापस लिया बयान

बता दें कि पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती द्वारा सरकार बनाने का दावा पेश किए जाने के कुछ ही देर बाद, जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने बुधवार की रात राज्य विधानसभा भंग कर दी.

  • News18Hindi
  • | November 22, 2018, 15:06 IST
    LAST UPDATED 4 YEARS AGO

    हाइलाइट्स

    14:34 (IST)
    'कुछ देर पहले आइजवाल पहुंचा और यह देखा. अब जब आपने किसी बाहरी दबाव से इनकार कर दिया है तो मैं अपने शब्द वापस लेता हूं. लेकिन पीडीपी-एनसी का सरकार बनाने का प्रयास असफल रहा, इसलिए आपको अगला चुनाव भी एकसाथ लड़ना चाहिए. जो भी मेरा कमेंट किया था वह राजनीतिक था, पर्सनल नहीं था.' : राम माधव

    13:55 (IST)
    सूत्रों के अनुसार, 2019 लोकसभा चुनावों के साथ ही जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव करवाए जा सकते हैं. 

    12:33 (IST)
    मुझे पिछले 15 दिनों से 'हॉर्स ट्रेडिंग' की शिकायतें मिल रही हैं और विधायकों को धमकियां मिल रही हैं. महबूबा जी ने खुद भी इसकी शिकायत की थी. अन्य पार्टियां कह रही हैं कि पैसे बांटे जा रहे हैं. मैं ऐसा नहीं होने दे सकता: सत्यपाल मलिक

    12:29 (IST)
    क्या सरकारें सोशल मीडिया से बनती हैं? न ही मैं ट्वीट करता हूं और न देखता हूं. मैंने फैसले के लिए कल का दिन इसलिए चुना क्योंकि कल ईद थी. इलेक्शन कमीशन यह फैसला करेगा कि चुनाव कब करवाए जाएं: जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक

    12:26 (IST)
    यह दुखद है कि सीनियर बीजेपी नेता ने ऐसा बयान दिया. मैं राम माधव और उनके सहयोगियों को चेतावनी देता हूं कि इसे साबित करें और सबूत दें. आप मेरे साथियों का अपमान कर रहे हैं: उमर अब्दुल्ला

    12:16 (IST)
    बीजेपी नेता राम माधव के बयान पर जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कड़ी आपत्ति जताई है. उन्होंने कहा, "मैं राम माधव जी को चुनौती देता हूं कि आरोप साबित करें. आपके पास रॉ, एनआईए और आईबी है. सीबीआई भी आपके कंट्रोल में है. तो अगर आपमें हिम्मत है तो जनता के सामने सबूत रखें. वरना माफी मांगें. खराब राजनीति न करें.

    12:14 (IST)
    उमर अब्दुल्ला और जम्मू-कश्मीर के गवर्नर सत्यपाल मलिक अलग-अलग प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित कर रहे हैं. 

    11:15 (IST)
    बीजेपी के नेशनल सेक्रेटरी राम माधव ने जम्मू-कश्मीर में विधानसभा भंग की घटना पर टिप्पणी की है. उन्होंने कहा, "पीडीपी और नेशनल कॉन्फ्रेंस ने पिछले महीने निकाय चुनावों का बहिष्कार किया क्योंकि उन्हें सीमा पार से आदेश मिले थे. शायद इस बार भी उन्हें बॉर्डर पार से गठबंधन में सरकार बनाने का निर्देश मिला है."

    10:23 (IST)
    पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने सत्यपाल मलिक के फैसले का मज़ाक उड़ाया. उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल को गुजरात मॉडल पसंद आया है. 

    बीजेपी नेता राम माधव के बयान पर जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कड़ी आपत्ति जताई है. उन्होंने कहा, "मैं राम माधव जी को चुनौती देता हूं कि आरोप साबित करें. आपके पास रॉ, एनआईए और आईबी है. सीबीआई भी आपके कंट्रोल में है. तो अगर आपमें हिम्मत है तो जनता के सामने सबूत रखें. वरना माफी मांगें. खराब राजनीति न करें.' हालांकि, राम माधव ने ट्वीट करके अपना बयान वापस ले लिया है.

    बता दें कि बीजेपी नेता राम माधव ने आरोप लगाया था कि पीडीपी और नेशनल कॉन्फ्रेंस को सीमा पार से सरकार बनाने के निर्देश मिले हैं. सूत्रों के मुताबिक, 2019 लोकसभा चुनावों के साथ ही जम्मू-कश्मीर में भी विधानसभा चुनाव करवाए जा सकते हैं.

    वहीं, जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने सीएनएन न्यूज 18 को बताया कि 'काम करने के अयोग्य' गठबंधन को सरकार बनाने का अधिकार नहीं दिया जा सकता. उन्होंने कहा, 'यह मेरी जिम्मेदारी थी कि राज्य को ऐसी परेशानियों से बचाऊं. मैंने जल्दबाजी में फैसला नहीं लिया है, इसके लिए काफी सोच-विचार किया गया है.'

    बता दें कि पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती द्वारा सरकार बनाने का दावा पेश किए जाने के कुछ ही देर बाद, जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने बुधवार की रात राज्य विधानसभा भंग कर दी और साथ ही कहा कि जम्मू कश्मीर के संविधान के प्रासंगिक प्रावधानों के तहत यह कार्रवाई की गयी है. एक आधिकारिक बयान में यह जानकारी दी गयी है.

    जम्मू-कश्मीर की राजनीति से जुड़े अपडेट्स के लिए पढ़ते रहें News18 Hindi...

    विज्ञापन