आजादी के बाद नरेंद्र मोदी देश के ऐसे पहले पीएम बने, जिन्होंने जम्मू-कश्मीर का राजनीतिक भूगोल बदल डाला

देश के गृह मंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में एलान कर दिया कि जम्मू-कश्मीर भी अब देश का केंद्रशासित प्रदेश होगा. इसके साथ ही केंद्र सरकार ने लद्दाख को जम्मू-कश्मीर से अलग कर एक और केंद्र शासित प्रदेश बना दिया है.

Ravishankar Singh | News18Hindi
Updated: August 5, 2019, 2:55 PM IST
आजादी के बाद नरेंद्र मोदी देश के ऐसे पहले पीएम बने, जिन्होंने जम्मू-कश्मीर का राजनीतिक भूगोल बदल डाला
सोमवार को देश के गृह मंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में एलान कर दिया कि जम्मू-कश्मीर भी अब देश का केंद्रशासित प्रदेश होगा.
Ravishankar Singh
Ravishankar Singh | News18Hindi
Updated: August 5, 2019, 2:55 PM IST
मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर को लेकर एतिहासिक फैसला ले लिया है. सोमवार को देश के गृह मंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में एलान कर दिया कि जम्मू-कश्मीर भी अब देश का केंद्रशासित प्रदेश होगा. इसके साथ ही अमित शाह ने कश्मीर का पुनर्गठन प्रस्ताव भी पेश किया है. केंद्र सरकार ने लद्दाख को जम्मू-कश्मीर से अलग कर एक और केंद्र शासित प्रदेश बना दिया है. मोदी सरकार के इस फैसले के बाद जम्मू-कश्मीर की भौगोलिक स्थिति में भी बदलाव होगा, क्योंकि अभी तक लद्दाख को जम्मू-कश्मीर के साथ दर्शाया जाता था, जो कि आज से अलग दर्शाया जाएगा.

5 अगस्त का दिन भारतीय इतिहास का बेहद खास दिन है. नरेंद्र मोदी सरकार ने कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले आर्टिकल 370 को खत्म करने का प्रस्ताव राज्यसभा में पेश कर दिया. गृहमंत्री अमित शाह ने सोमवार को राज्यसभा में जम्मू-कश्मीर को लेकर सरकार का संकल्प पत्र पेश किया. शाह ने कहा कि कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले आर्टिकल 370 में बड़ा बदलाव किया है. अब सिर्फ आर्टिकल 370 का खंड A लागू रहेगा. बाकी खंड तुरंत प्रभाव से खत्म कर दिए गए हैं. गृहमंत्री ने इसके साथ ही आर्टिकल 35A भी हटाए जाने का ऐलान किया.

आर्टिकल 370 को खत्म करने का प्रस्ताव राज्यसभा में पेश कर दिया.
आर्टिकल 370 को खत्म करने का प्रस्ताव राज्यसभा में पेश कर दिया.


बता दें कि राज्यसभा में गृह मंत्री के बयान के बाद विपक्ष का जोरदार हंगामा शुरू हो गया. अमित शाह के कश्मीर पर तीन बड़े ऐलान के बाद विपक्षी दलों की नारेबाजी चलती रही. विपक्षी दलों का आरोप था कि सरकार ने उन्हें इस तरह के किसी बिल की पहले जानकारी नहीं दी थी. इसके पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुआई में उनके घर पर कैबिनेट की मीटिंग हुई.

आजाद भारत में मोदी सरकार से पहले किसी भी सरकार ने इतना बड़ा एतिहासिक कदम लेने का फैसला नहीं किया था. हालांकि, इस फैसले को अमलीजामा पहनाना मोदी सरकार की बड़ी चुनौती होगी. इसके बावजूद इस संसोधन विधेयक का राज्यसभा और लोकसभा में पास होना तय माना जा रहा है. जम्मू-कश्मीर मामले के जानकारों का भी मानना है कि जम्मू-कश्मीर के लोगों के लिए यह फैसला एक मील का पत्थर साबित होगा. जम्मू-कश्मीर भी अब देश के दूसरे राज्यों के साथ कदम से कदम मिला कर तरक्की के रास्ते में बढ़ेंगे.

आजाद भारत में मोदी सरकार से पहले किसी भी सरकार ने इतना बड़ा एतिहासिक कदम लेने का फैसला नहीं किया था.
आजाद भारत में मोदी सरकार से पहले किसी भी सरकार ने इतना बड़ा एतिहासिक कदम लेने का फैसला नहीं किया था.


इससे पहले रविवार को जम्मू-कश्मीर की मौजूदा हालात पर बैठकों का दौर लगातार जारी था. रविवार को अमित शाह की लगातार बैठकों से अंदाजा हो गया था कि सोमवार को संसद में कुछ नया और एतिहासिक होने वाला है. रविवार को बैठकों का यह दौर सीमा के इस पार भी और सीमा के उस पार भी चल रहा था. रविवार को भारत में जहां गृह मंत्री अमित शाह ने कश्मीर की ताजा हालात का जायजा लिया है तो वहीं पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी अपने एनएसए और सेना के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ एक बैठक की. दोनों तरफ मीटिंग का टाइमिंग लगभग एक ही समय था. वहीं बॉर्डर रोड आर्गेनाइजेशन द्वारा बनाए गए एक पुल का उद्घाटन करने पहुंचे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी साफ कह दिया था कि कश्मीर की समस्या तो अब हल होकर रहेगी.
Loading...

कांग्रेस नेता गुलाब नबी आजाद ने इस पर दुख प्रकट किया
कांग्रेस नेता गुलाब नबी आजाद ने इस पर दुख प्रकट किया


इससे पहले विपक्ष लगातार-कश्मीर की स्थिति को लेकर शनिवार को कांग्रेस पार्टी के कई दिग्गज एक साथ मीडिया से मुखातिब हुए. कांग्रेस पार्टी के इन दिग्गजों ने एक साथ जम्मू-कश्मीर की हालात को लेकर चिंता जताई. जम्मू-कश्मीर की मौजूदा हालात पर बुलाए गए इस मीडिया ब्रीफिंग में जम्मू-कश्मीर के पूर्व सदरे रियासत डॉ कर्ण सिंह, राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद, देश के पूर्व गृह और वित्त मंत्री पी चदंबरम, जम्मू-कश्मीर कांग्रेस के प्रभारी अंबिका सोनी और राज्यसभा सांसद आनंद शर्मा ने जम्मू-कश्मीर की स्थिति को लेकर केंद्र सरकार से स्थिति स्पष्ट करने को कहा.

ये भी पढ़ें:

सीमा के दोनों तरफ ताबड़तोड़ बैठकें, मोदी सरकार कश्मीर समस्या सुलझाने के करीब!

जम्मू-कश्मीर: घाटी के हालात देख नाराज़ हुए पूर्व सदरे रियासत कर्ण सिंह, कह दी ये बड़ी बात...

अगर हटा आर्टिकल 35A तो जम्मू-कश्मीर में क्या बदल जाएगा?

किस पाकिस्तानी PM ने चुपके से कर ली थी शादी, उसके बाद वहां ट्रिपल तलाक हुआ बैन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 5, 2019, 2:09 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...