26 जनवरी को किसानों का 'हल्ला बोल' लाल किले से इंडिया गेट तक निकालेंगे परेड

प्रदर्शनकारी किसानों ने साफ किया है कि जब तक सरकार कानूनों को वापस नहीं लेती, तब तक प्रदर्शन जारी रहेगा.

राकेश टिकैत ने कहा, ''ये पता चला है कि वे (सरकार) राष्ट्रपति भवन से इंडिया गेट तक यात्रा (परेड) निकालेंगे. उन्होंने अपनी यात्रा छोटी कर दी है. हम लाल किले से निकालेंगे इंडिया गेट तक, दोनों का मेल मिलाप वहीं होगा."

  • Share this:
    नई दिल्ली. कृषि कानूनों (Farm Law 2020) के खिलाफ दिल्ली बॉर्डर पर प्रदर्शन (Farmer Protest) कर रहे किसान 26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड पर अड़े हुए हैं. गुरुवार को किसान नेताओं ने ऐलान किया है कि वह 26 जनवरी को लाल किले से इंडिया गेट (Procession from Red Fort to India Gate) तक मार्च करेंगे. इस बारे में बोलते हुए भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत (BKU Spokesperson Rakesh Tikait) ने कहा कि यह ऐतिहासिक लम्हा होगा जब एक तरफ किसान होंगे और दूसरी तरफ देश के जवान.

    न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक राकेश टिकैत ने कहा, ''ये पता चला है कि वे (सरकार) राष्ट्रपति भवन से इंडिया गेट तक यात्रा (परेड) निकालेंगे. उन्होंने अपनी यात्रा छोटी कर दी है. हम लाल किले से निकालेंगे इंडिया गेट तक, दोनों का मेल मिलाप वहीं होगा. किसान देश का सिर ऊंचा करेंगे. यह दुनिया की सबसे ऐतिहासिक परेड होगी. यहां एक तरफ से किसान चलेगा, एक तरफ से जवान चलेगा.''



    15 जनवरी को होगी 9वें दौर की वार्ता
    जानकारी के लिए बता दें कि 26 जनवरी से पहले 15 जनवरी यानि की शुक्रवार को सरकार और किसानों के बीच नौवें दौर की वार्ता होने वाली है. केंद्र सरकार के साथ होने वाली बैठक से पहले किसान नेताओं की तरफ से कहा गया है कि वे सरकार के साथ कल वार्ता करने जा रहे हैं.

    ये भी पढ़ेंः- कोविशील्ड या कोवैक्सीन से हुआ किसी को नुकसान तो कंपनियां देंगी हर्जाना

    क्रांतिकारी किसान यूनियन के चीफ दर्शन पाल ने कहा- आगे क्या करना है इस पर फैसला ये देखकर करेंगे कि सरकार का कैसा व्यवहार रहता है. एक कमेटी (कृषि कानूनों की समीक्षा को लेकर) के सदस्य पहले ही इस्तीफा दे चुके हैं, जो अच्छी बात है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.