पिनराई विजयन आज लेंगे सीएम पद की शपथ, वैक्सीन के लिए अपना सारा पैसा दान करने वाले बीड़ी निर्माता को भी न्योता

Kerala: केरल में पिनराई विजयन की अगुवाई वाली एलडीएफ सरकार जब फिर से चुनकर आई तो जनार्दन को शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया. पेशे से बीड़ी वर्कर जनार्दन के पास इस दान के बाद खाते में सिर्फ 850 रुपये ही बचे थे.

Kerala: केरल में पिनराई विजयन की अगुवाई वाली एलडीएफ सरकार जब फिर से चुनकर आई तो जनार्दन को शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया. पेशे से बीड़ी वर्कर जनार्दन के पास इस दान के बाद खाते में सिर्फ 850 रुपये ही बचे थे.

Kerala: केरल में पिनराई विजयन की अगुवाई वाली एलडीएफ सरकार जब फिर से चुनकर आई तो जनार्दन को शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया. पेशे से बीड़ी वर्कर जनार्दन के पास इस दान के बाद खाते में सिर्फ 850 रुपये ही बचे थे.

  • Share this:

तिरुवनंतपुरम. केरल (Kerala) में नई सरकार के शपथ ग्रहण की तैयारियां जोरो पर हैं. गुरुवार को सेंट्रल स्टेडियम में होने वाले कार्यक्रम में 500 लोगों को आमंत्रित किया गया है. विजयन (Pinrayi Vijayan) सरकार के शपथ ग्रहण में आमंत्रित 500 लोगों में सबसे ज्यादा खास शख्सियत जनार्दन हैं. जनार्दन को इस शपथ ग्रहण में आमंत्रित करने के लिए नेताओं और अफसरों को मनाना पड़ा. दरअसल, जनार्दन ने बीती अप्रैल में सीएम राहत कोष में 2 लाख रुपये का दान किया था, ताकि राज्य में वैक्सीन्स का इंतजाम हो सके.

पेशे से बीड़ी वर्कर जनार्दन के 2 लाख रुपये दान करने के बाद उनके खाते में सिर्फ 850 रुपये ही बचे. जब पिनराई विजयन की अगुवाई वाली एलडीएफ सरकार फिर से चुनकर आई तो जनार्दन को शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया. राजस्व विभाग के अधिकारियों ने 18 मई को कन्नूर से लगभग पांच किलोमीटर दूर अवेरा में उनके घर गए और समारोह में शामिल होने के लिए उन्हें एक पास दिया. पहले तो जनार्दन ने कोविड के कारण प्रतिबंधों को देखते हुए आदर से निमंत्रण को अस्वीकार कर दिया.

शपथ ग्रहण में जानें को क्यों तैयार हुए जनार्दन?

हालांकि बाद में वह सरकार के शपथ ग्रहण समारोह में जाने को तैयार हुए. जनार्दन ने कहा कि 'मैं आमंत्रण पाकर वास्तव में खुश और आश्चर्यचकित था. मुझे विश्वास नहीं हो रहा है कि मेरे पास एक वीआईपी पास है. पहले मैंने सोचा कि मैं समारोह में ना जाऊं क्योंकि कोविड के चलते सफर करना थोड़ा मुश्किल होगा. बाद में CPM के जिला समिति के नेताओं ने मुझसे संपर्क किया और कहा कि वह मेरे लिए सब व्यवस्थित कर देंगे. जिस पर मैं तैयार हो गया.'


जनार्दन ने कहा- 'मुख्यमंत्री ने मुझसे कहा था कि अगर मुझे कोई दिक्कत हो तो मैं ना आऊं. उन्होंने मुझसे कहा कि जब वह कन्नूर आएंगे तो मुझसे मिलेंगे. लेकिन मैंने सोचा कि यह उचित नहीं है. CM का निमंत्रण स्वीकार करना ठीक नहीं होगा. ऐसे में मैंने अपना फैसला बदला. केरल सरकार ने जब यह फैसला किया कि वह सभी का वैक्सीनेशन मुफ्त करेगी तो इसके बाद सीपीएम समर्थक जनार्दन ने 2 लाख रुपये दान किए थे. उन्होंने कहा कि वह फ्री वैक्सीनेशन के ऐलान से काफी गर्व महसूस कर रहे थे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज