लाइव टीवी

प्रकाश सिंह बादल के सामने आप विधायक की चुनौती, जरनैल सिंह को उतारा मैदान में

विक्रांत यादव | News18India.com
Updated: December 28, 2016, 10:45 PM IST
प्रकाश सिंह बादल के सामने आप विधायक की चुनौती, जरनैल सिंह को उतारा मैदान में
source: Getty images

राजनीतिक प्रतिद्वंदियों के खिलाफ मजबूत उम्मीदवार उतारने की रणनीति पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने शुरू की थी।

  • Share this:
नई दिल्ली। बड़े राजनीतिक प्रतिद्वंदियों के खिलाफ मजबूत उम्मीदवार खड़े करने की अपनी पार्टी की परंपरा को आगे बढ़ाते हुए आम आदमी पार्टी पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के खिलाफ जरनैल सिंह को चुनावी मैदान में उतार दिया है। 28 दिसम्बर को बादल के गृह इलाके लांबी में रैली के दौरान पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने इसकी घोषणा की। जरनैल सिंह दिल्ली के राजौरी गार्डन इलाके से विधायक हैं और 2014 में पश्चिमी दिल्ली से लोकसभा का चुनाव भी लड़ चुके हैं। उन्हें कुछ समय पहले ही पार्टी की और से पंजाब का सह-प्रभारी और प्रवक्ता बनाया गया था।

आम आदमी पार्टी में आने से पहले जरनैल सिंह पत्रकार थे। 7 अप्रैल, 2009 को  एक प्रेस वार्ता के दौरान तत्कालीन केंद्रीय गृह मंत्री पी.चिदंबरम की और जूता उछालने पर चर्चा में आये थे। वो इस बात से नाराज़ थे कि 84 के सिख दंगों के आरोपित नेताओं को कांग्रेस टिकट दे रही है। हालांकि बाद में उन्होंने ये माना था कि उनका तरीका गलत था, लेकिन भावना नहीं। उन्होंने ये भी कहा था कि वो नहीं चाहते कि कोई और पत्रकार कभी इस तरह का व्यवहार करे। हालांकि उसके बाद जरनैल सिंह ने पत्रकारिता को अलविदा कह दिया था और चिदंबरम ने भी उनके खिलाफ कोई कानूनी कार्यवाही नहीं की थी।

जरनैल सिंह से पहले पार्टी अकाली दल के कदावर नेता और सूबे के उप-मुख्यमंत्री सुखबीर बादल के खिलाफ अपने सांसद और बड़े नेता भगवंत मान को उतारने का एलान कर चुकी है। यही नहीं पंजाब के मंत्री बिक्रम सिंह मजिठिया के खिलाफ पार्टी के बड़े चेहरे  हिम्मत सिंह शेरगिल को उतारने की घोषणा कर चुकी है। जबकि शेरगिल को पहले मोहाली से टिकट की घोषणा की जा चुकी थी।



राजनीतिक प्रतिद्वंदियों के खिलाफ मजबूत उम्मीदवार उतारने की रणनीति पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने शुरू की थी। जब राजनीतिक पार्टी बनाने के बाद दिल्ली के पहले चुनाव में कांग्रेस की सबसे बड़ी नेता और तत्कालीन मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के खिलाफ चुनाव लड़ा था। पहला दांव सही पड़ा था और केजरीवाल को जीत भी हाशिल हुई थी। हालांकि 2014 के चुनाव में पार्टी का ये दांव खाली भी गया, जब अरविन्द केजरीवाल बीजेपी के सबसे बड़े नेता और प्रधानमन्त्री पद के दावेदार नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने वाराणसी पहुंच गए थे और हार का सामना करना पड़ा था। इसी तरह उस चुनाव में पार्टी के एक और बड़े नेता कुमार विश्वास को कांग्रेस के बड़े नेता राहुल गांधी और बीजेपी की कद्दावर नेता स्मृति ईरानी के खिलाफ लड़ने अमेठी भेजा गया था। हालांकि उन्हें भी बड़ी हार का सामना करना पड़ा था।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पॉलिटिक्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 28, 2016, 10:17 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading