• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • पुलिस ट्रेनिंग के दौरान जवानों को चीनी सामान और ऐप का बहिष्कार करने की दी सलाह

पुलिस ट्रेनिंग के दौरान जवानों को चीनी सामान और ऐप का बहिष्कार करने की दी सलाह

पुलिस ट्रेनिंग के दौरान जवानों ने चीनी सामान और ऐप का किया बहिष्कार (सांकेतिक तस्वीर)

पुलिस ट्रेनिंग के दौरान जवानों ने चीनी सामान और ऐप का किया बहिष्कार (सांकेतिक तस्वीर)

तेलंगाना (Telangana) के करीमनगर में एक पुलिस ट्रेनिंग यूनिवर्सिटी ने अपने प्रशिक्षुओं को चीनी उत्पादों और चीन द्वारा विकसित मोबाइल ऐप का इस्तेमाल न करने का सुझाव दिया है.

  • Share this:
    हैदराबाद. लद्दाख सीमा (Ladakh Border) पर 20 भारतीय जवानों के शहीद हो जाने के बाद देश में चीन विरोधी राष्ट्रवाद चरम पर है और चीनी उत्पादों (Chinese Product) के बहिष्कार की मुहिम चल पड़ी है. देश में चीनी सामान और विभिन्न ऐप पर प्रतिबंध लगाए जाने की मांग हो रही है. इस बीच तेलंगाना के करीमनगर में एक पुलिस ट्रेनिंग अकादमी ने अपने प्रशिक्षुओं को चीनी उत्पादों और चीन द्वारा विकसित मोबाइल ऐप का इस्तेमाल न करने का सुझाव दिया है. यह अकादमी सीधे भर्ती हुए कांस्टेबलों और हेड कांस्टेबलों तथा पदोन्नति के बाद सहायक उपनिरीक्षक बने पुलिसकर्मियों को प्रशिक्षण देता है.

    महाविद्यालय के प्रभारी प्राचार्य जी चंद्रमोहन ने कहा कि चीनी वस्तुओं और ऐप को दूर रखने का कोई आधिकारिक आदेश तो नहीं है, लेकिन प्रशिक्षु हाल ही में चीन के सैनिकों के साथ झड़प में कर्नल सतीश बाबू समेत कई भारतीय सैनिकों के शहीद होने के बाद इन वस्तुओं का बहिष्कार कर रहे हैं. इस महाविद्यालय के प्रवेश द्वार पर एक बैनर भी लगा दिया गया है जिस पर लिखा है, ‘‘इस महाविद्यालय में चीनी एप और उत्पाद निषिद्ध हैं.’’

    प्राचार्य ने कहा, ‘चीनी उत्पादों और एप पर पाबंदी का कोई आधिकारिक आदेश नहीं है लेकिन हम अपने कैडेटों को चीनी सामान से दूर रहने के लिए संवेदनशील बना रहे हैं जिससे घरेलू उत्पादों की बिक्री बढ़ेगी. हम महसूस करते हैं कि चीनी सामान को खरीदने से चीन की अर्थव्यवस्था मजबूत होगी. हमने देखा है कि हाल ही में गलवान घाटी में उन्होंने हमारे सैनिकों के साथ क्या किया.’

    जवानों ने अपने फोन से हटाए चीनी ऐप
    उन्होंने कहा कि इसके अलावा महाविद्यालय अपने कैडेटों को पशुओं पर क्रूरता के खिलाफ और प्लास्टिक मुक्त पर्यावरण के महत्व को लेकर भी संवेदनशील बना रहा है. चंद्रमोहन ने कहा कि इस प्रशिक्षण महाविद्यालय में फिलहाल 880 प्रशिक्षु हैं और करीब 150 कर्मी हैं तथा उनमें से ज्यादातर ने अपने फोन से चीनी एप हटा दिए हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज