संसद में रोईं जया बच्चन, बोलीं- लड़कियां क्या अब तो लड़के भी सुरक्षित नहीं

लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण (संशोधन) विधेयक 2019 (पॉक्सो) से बच्चों की सुरक्षा पर बोलते हुए जया बच्चन अपनी भावनाओं पर काबू नहीं कर सकीं और रो पड़ीं.

News18Hindi
Updated: July 24, 2019, 6:38 PM IST
संसद में रोईं जया बच्चन, बोलीं- लड़कियां क्या अब तो लड़के भी सुरक्षित नहीं
लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण (संशोधन) विधेयक 2019 (पॉक्सो) से बच्चों की सुरक्षा पर बोलते हुए जया बच्चन अपनी भावनाओं पर काबू नहीं कर सकीं और रो पड़ीं.
News18Hindi
Updated: July 24, 2019, 6:38 PM IST
समाजवादी पार्टी की राज्यसभा सांसद जया बच्चन बुधवार को संसद में भावुक हो गईं. लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण (संशोधन) विधेयक 2019 (पॉक्सो) पर बोलते हुए जया बच्चन अपनी भावनाओं पर काबू नहीं कर सकीं और रो पड़ीं.

2014 में दिल्ली में हुए निर्भया रेप केस को लेकर जया बच्चन अपने आंसू नहीं रोक सकीं. जया बच्चन ने कहा कि निर्भया के अपराधियों को अब तक सज़ा नहीं मिल सकी है. निर्भया की मां अब भी असहाय महसूस करती हैं. उन्होंने कहा कि पहले माता-पिता लड़कियों के लिए डरते थे लेकिन अब सिर्फ लड़कियां ही नहीं लड़के भी सुरक्षित नहीं हैं.

ये हुए हैं संशोधन
राज्यसभा में लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण (संशोधन) विधेयक 2019 (पॉक्सो) पास हो गया है. बता दें इस संशोधन में मंत्रालय ने इसमें तस्वीरों, डिजिटल और कंप्यूटर जनित पोर्नोग्राफिक चीजों को भी इसकी परिभाषा में शामिल कर लिया है.

सरकार के पास रहेगा बच्चों के प्रति यौन अपराध करने वाले सभी अपराधियों का पूरा डेटा
मंत्रालय ने नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो को यह भी सुझाया है कि वह अबसे बच्चों के प्रति यौन अपराध मामलों के डेटा को नए सुधारों के हिसाब से तय करे. महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने कहा है कि राष्ट्रीय अपराध रिकॉड्स ब्यूरो इस तरह से बच्चों के प्रति यौन अपराध करने वालों के बारे में जानकारियां रखे कि ऐसे मामलों में कुल कितने अपराधी हैं और उनके अपराध कितने जघन्य हैं.


Loading...

बता दें इससे पहले मंगलवार को बच्चों के साथ यौन अपराधों की बढ़ती घटना पर काबू के मकसद से सरकार ने राज्यसभा में एक विधेयक पेश किया जिसमें ऐसे अपराध में दोषी को मौत की सजा तक का प्रावधान किया गया है. इस विधेयक में अश्लील प्रायोजनों की खातिर बच्चों के उपयोग (चाइल्ड पोर्नोग्राफी) पर नियंत्रण के लिए भी प्रावधान किया गया है.

मंगलवार को पेश हुआ था बिल
महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने राज्यसभा में लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण (संशोधन) विधेयक, 2019 को चर्चा एवं पारित करने के लिए पेश करते हुए कहा कि इसमें 2012 के मूल कानून में संशोधन का प्रस्ताव किया गया है.

इस विधेयक के बारे में जानकारी देते हुए ईरानी ने कहा कि प्रौद्योगिकी के विकास के साथ ही बच्चों के यौन अपराध का शिकार होने का खतरा भी बढ़ गया है. उन्होंने कहा कि इस विधेयक के जरिये चाइल्ड पोर्नोग्राफी की परिभाषा में संशोधन किया गया है.

ये भी पढ़ें-
लोकसभा में पास हुआ UAPA बिल, शाह ने कांग्रेस पर साधा निशाना

कश्मीर पर किसी की मध्यस्थता का सवाल नहीं उठता: राजनाथ सिंह
First published: July 24, 2019, 6:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...