गुजरात में बुलेट ट्रेन के खिलाफ किसानों के विरोध का नेतृत्व करने वाला शख्स बीजेपी में शामिल

गुजरात में बुलेट ट्रेन के खिलाफ किसानों के विरोध का नेतृत्व करने वाला शख्स बीजेपी में शामिल
जयेश पटेल का पार्टी में स्वागत करते सीआर पाटिल और गणपत वसावा (फोटो- Twitter)

जयेश पटेल (Jayesh Patel) ने कहा कि प्रभावित किसान (Farmers) कभी भी विकास के खिलाफ नहीं थे. उन्होंने यह भी कहा कि मैंने महसूस किया है कि मुद्दों को हल करने के लिए सरकार (Government) के साथ बातचीत एक बेहतर तरीका है.

  • Share this:
अहमदाबाद. आगामी बुलेट ट्रेन परियोजना (upcoming Bullet Train project) के खिलाफ विरोध प्रदर्शनों में सबसे आगे रहने वाले गुजरात (Gujarat) के किसान नेता जयेश पटेल (farmer leader Jayesh Patel) आज भाजपा (BJP) में शामिल हो गए. जयेश पटेल ने कहा कि प्रभावित किसान (affected farmers) कभी भी विकास (Development) के खिलाफ नहीं थे. उन्होंने यह भी कहा कि मैंने महसूस किया है कि मुद्दों को हल करने के लिए सरकार (Government) के साथ बातचीत एक बेहतर तरीका है.

राज्य इकाई के नवनियुक्त प्रमुख सीआर पाटिल (state unit chief CR Paatil) और कैबिनेट मंत्री गणपत वसावा (cabinet minister Ganpat Vasava) ने गांधीनगर (Gandhinagar) में पार्टी मुख्यालय में उनका स्वागत किया गया. सूरत (Surat) के रहने वाले जयेश पटेल, दक्षिण गुजरात में सहकारी क्षेत्र में एक प्रमुख नाम है और दक्षिण गुजरात खेडुत समाज (Dakshin Gujarat Khedut Samaaj) के प्रमुख हैं.

बुलेट ट्रेन के खिलाफ किसानों के कई विरोध प्रदर्शनों का किया था नेतृत्व
सूरत, नवसारी और वलसाड जिलों में उन्होंने किसानों के कई विरोध प्रदर्शनों का नेतृत्व किया था, जिनमें महत्वाकांक्षी बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए अधिग्रहित की जा रही भूमि के बेहतर मुआवजे की मांग की जा रही थी. यह प्रस्तावित बुलेट ट्रेन परियोजना मुंबई को अहमदाबाद से जोड़ने वाली है.
जमीन अधिग्रहण के खिलाफ किसानों ने गुजरात उच्च न्यायालय में याचिका भी दायर की थी. हालांकि, इन याचिकाओं को पिछले साल उच्च न्यायालय ने खारिज कर दिया था.



'आंदोलन के बजाय, सरकार के साथ बातचीत से बेहतर तरीके से हल किये जा सकते मुद्दे'
पटेल ने संवाददाताओं से कहा, "मैंने महसूस किया कि आंदोलन के बजाय, सरकार के साथ बातचीत करके किसानों के मुद्दों को बहुत बेहतर तरीके से हल किया जा सकता है. मुझे विश्वास है कि भाजपा में शामिल होने के मेरे कदम से अंततः किसानों को फायदा होगा."

उन्होंने कहा कि किसान मुख्य रूप से अपनी भूमि के लिए अच्छे मुआवजे की मांग कर रहे थे और वे विकास के खिलाफ कभी नहीं थे.

'बातचीत से हल करेंगे मुद्दे, किसान तैयार'
उन्होंने दावा किया कि सूरत के ओलपाड तालुका में किसानों को मुख्यमंत्री विजय रूपानी और राजस्व मंत्री कौशिक पटेल के साथ बातचीत के बाद अधिक मुआवजा मिला है.

यह भी पढ़ें: PM न करते पहल तो आज हमारे पास नहीं होते राफेल लड़ाकू विमान- रिटायर्ड एयर मार्शल

उन्होंने कहा, "अब हम सरकार के साथ बातचीत के जरिए नवसारी और वलसाड जिले में किसानों के सामने आने वाले मुद्दों को हल करने की कोशिश करेंगे. किसान सहयोग के लिए तैयार हैं."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading