NEET, JEE Exam: ममता, पटनायक के अलावा ग्रेटा थनबर्ग ने भी की परीक्षा टालने की मांग

NEET, JEE Exam: ममता, पटनायक के अलावा ग्रेटा थनबर्ग ने भी की परीक्षा टालने की मांग
ग्रेटा ने परीक्षा टालने की मांग की है.

ममता बनर्जी (Mamata Banerjee), दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia), ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक (Naveen Patnaik) और बीजेपी से राज्य सभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने जेईई और नीट की परीक्षा टालने की मांग की है. अब इस मांग में दुनिया की चर्चित पर्यावरण एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग (Greta Thunberg) भी शामिल हो गई हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 25, 2020, 8:32 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. जेईई और नीट (NEET, JEE Main 2020) की परीक्षा टालने की मांग की भारत के बड़े नेताओं ने की है. अब इस मांग में दुनिया की चर्चित पर्यावरण एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग (Greta Thunberg) भी शामिल हो गई हैं. गौरतलब है कि ममता बनर्जी (Mamata Banerjee), दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया, ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक (Naveen Patnaik) और बीजेपी से राज्य सभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने जेईई और नीट की परीक्षा टालने की मांग की है.

ग्रेटा थनबर्ग ने ट्वीट कर कहा है कि यह बहुत दुखद है कि भारत के छात्रों को कोविड महामारी के दौरान एक राष्ट्रीय परीक्षा देने के लिए कहा गया है. महामारी और बाढ़ की वजह से देश में लाखों की संख्या में लोग प्रभावित हैं. मैं नीट और jee परीक्षाएं टालने का समर्थन करती हूं.


नवीन पटनायक ने की परीक्षा टालने की मांग
इससे पहले ओडिशा के मुख्यमंत्री ने भी सोमवार को केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को एक पत्र लिखा. उन्होंने कहा है कि कोरोना वायरस महामारी के दौरान परीक्षा देने के लिए परीक्षा केंद्रों पर जाना राज्य के 50 हज़ार छात्रों के लिए काफी घातक हो सकता है. पटनायक ने पत्र में मंगलवार को कहा, राज्य में बार-बार लगने वाले लॉकडाउन की वजह से स्थानीय आवागमन भी बाधित होता है इससे कैंडीडेट्स को सेंटर तक पहुंचने में दिक्कत का सामना करना पड़ेगा.



भारत में आ चुके हैं कोरोना के 31 लाख से ज्यादा मामले
गौरतलब है कि भारत में कोरोना वायरस के अब तक 31 लाख से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं. हालांकि इनमें 24 लाख से ज्यादा लोग रिकवर होकर घर वापस भी जा चुके हैं. वर्तमान में एक्टिव केस की संख्या 704,348 है. महामारी से अब तक 58,390 ने जान गंवाई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज