होम /न्यूज /राष्ट्र /IIT-JEE पेपर लीक केस: दिल्ली एयरपोर्ट पर पकड़ा गया रूसी हैकर, CBI कर रही पूछताछ

IIT-JEE पेपर लीक केस: दिल्ली एयरपोर्ट पर पकड़ा गया रूसी हैकर, CBI कर रही पूछताछ

आईआईटी जेईई मेन के पेपर लीक मामले में CBI फिलहाल इस रूसी नागरिक से पूछताछ कर रही है.

आईआईटी जेईई मेन के पेपर लीक मामले में CBI फिलहाल इस रूसी नागरिक से पूछताछ कर रही है.

सीबीआई से जुड़े सूत्रों ने यह जानकारी देते हुए बताया, 'एक रूसी नागरिक से पूछताछ की जा रही है. जेईई मेन्स 2021 पेपर लीक ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली. आईआईटी जेईई (IIT-JEE) की मुख्य परीक्षा के दौरान सॉफ्टवेयर की कथित ‘हैकिंग’ करके पेपर लीक कराने के मामले में आरोपी रूसी नागरिक भारत से भागने की कोशिश कर रहा था. हालांकि उसे एयरपोर्ट पर पकड़ लिया गया. CBI फिलहाल उससे पूछताछ कर रही है.

सीबीआई से जुड़े सूत्रों ने यह जानकारी देते हुए बताया, ‘एक रूसी नागरिक से पूछताछ की जा रही है. जेईई मेन्स 2021 पेपर लीक मामले में उसके खिलाफ लुकाउट सर्कुलर जारी किया गया था, जिसके आधार पर कजाकिस्तान से दिल्ली के एयरपोर्ट पहुंचने पर आव्रजन विभाग ने उसे हिरासत में ले लिया. इस पेपर लीक के लिए सॉफ्टवेयर से छेड़छाड़ करने वाला मुख्य हैकर था.’

सीबीआई के मुताबिक, आईआईटी जेईई पेपर लीक केस की जांच के दौरान पता चला कि कुछ विदेशी नागरिक जेईई (मेन्स) समेत कई ऑनलाइन परीक्षाओं में गड़बड़ी फैलाने में शामिल थे. इस दौरान इस रूसी नागरिक की भूमिका का खुलासा हुआ, जिसने कथित तौर पर iLeon सॉफ्टवेयर (जिस प्लेटफॉर्म पर जेईई मेन-2021 परीक्षा आयोजित की गई थी) के साथ छेड़छाड़ की थी और उसने परीक्षा के दौरान संदिग्ध उम्मीदवारों के कंप्यूटर सिस्टम को हैक करने में दूसरे आरोपियों की मदद की थी. इसलिए इस रूसी नागरिक के खिलाफ लुक आउट सर्कुलर जारी किया गया था.

दरअसल एक निजी शिक्षण संस्थान में चल रही जेईई (मेन्स) परीक्षा 2021 में अनियमितताओं के आरोप में उस कंपनी, उसके निदेशकों और तीन कर्मचारियों, तीन दलालों सहित कई अन्य के खिलाफ 1 सितंबर 2021 को केस दर्ज किया गया था. इन पर आरोप था कि वे जेईई (मेन्स) की ऑनलाइन परीक्षा में गड़बड़ी कर रहे थे. ये लोग देश के शीर्ष इंजीनियरिंग संस्थानों (NITs) में एडमिशन दिलाने के लिए परीक्षाओं से मोटी रकम ली थी और हरियाणा के सोनीपत स्थित एक परीक्षा केंद्र पर रिमोट एक्सेस के जरिये उनके प्रश्न पत्र हल कर रहे थे.

जांच के दौरान यह भी पता चला कि ये आरोपी देश के विभिन्न हिस्सों में इच्छुक छात्रों की दसवीं और बारहवीं की मार्कशीट, यूजर आईडी, पासवर्ड और पोस्ट डेटेड चेक बतौर सिक्युरिटी जमा कर लेते थे और एक बार दाखिला हो जाने पर उनसे करीब 12-15 लाख रुपये वसूलते थे.

Tags: CBI, IIT

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें