जितेन्द्र सिंह बोले, 370 ने जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद की मदद की, जिससे 42,000 लोगों की जान गई

News18Hindi
Updated: September 8, 2019, 6:51 AM IST
जितेन्द्र सिंह बोले, 370 ने जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद की मदद की, जिससे 42,000 लोगों की जान गई
कोच्चि में आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर बोलते केंद्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह. (फाइल फोटो)

केंद्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह (Union Minister Jitendra Singh) ने शनिवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 (Article 370) ने आतंकवाद की मदद की. आतंकवाद के कारण राज्य में बीते तीन दशक में लगभग 42 हजार लोगों की जान चली गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 8, 2019, 6:51 AM IST
  • Share this:
केंद्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह (Union Minister Jitendra Singh) ने शनिवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 (Article 370) ने आतंकवाद की मदद की. आतंकवाद के कारण राज्य में बीते तीन दशक में लगभग 42 हजार लोगों की जान चली गई. उन्होंने यह भी कहा कि इसके विपरीत अनुच्छेद 370 के प्रावधान हटाये जाने के बाद 4 हफ्तों में एक भी गोली नहीं चली और न ही आंसू गैस का एक भी गोला छोड़ा गया. परमवीर चक्र विजेताओं समेत युद्ध नायकों के सम्मान में कोच्चि में आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर अपने संबोधन में केन्द्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह ने यह बात कही. प्रधानमंत्री कार्यालय में केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि राष्ट्र अपने सशस्त्र बलों का ऋणी है और सुरक्षाकर्मियों के दुर्व्यवहार करने वालों के लिए कोई माफी नहीं हो सकती.

अनुच्छेद 370 विशेष दर्जा नहीं, विशेष भेदभाव था
इससे पहले राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान की ओर से किए जा रहे हस्तक्षेप पर टिप्पणी की थी. उन्होंने कहा था कि पाकिस्तान की ओर से समस्या पैदा करने की कोशिश की जा रही है. कश्मीर में 230 पाकिस्तानी आतंकियों की निशानदेही हुई है, जिसमें से कुछ भाग गए तो कुछ को गिरफ्तार किया गया है. उन्होंने कहा कि 'आधुनिक समाज के कई कानून थे जो जम्मू-कश्मीर के लोगों को नहीं मिल रहे थे, उन्हें शिक्षा के अधिकार से वंचित कर दिया गया था, संपत्ति के अधिकार से वंचित कर दिया गया था, इस तरह के 106 कानून 5 अगस्त से पहले अनुच्छेद 370 से संरक्षण पा रहे थे. यह विशेष दर्जा नहीं था, यह विशेष भेदभाव था.'

जम्मू-कश्मीर में सिर्फ 10 थाना क्षेत्रों ही पाबंदी है

डोभाल ने कहा कि राज्य के 199 पुलिस थानों में सिर्फ 10 थाना क्षेत्रों ही पाबंदी है. बाकी इलाकों में कोई रोक-टोक नहीं है. राज्य में 100 फीसदी लैंड लाइन कनेक्शन चल रहे हैं. उन्होंने कहा कि कश्मीर की बहुसंख्यक जनता आर्टिकल 370 हटने से खुश है. कश्मीर की जनता उज्जवल भविष्य, आर्थिक प्रगति और रोजगार को लेकर आशान्वित हैं. सिर्फ कुछ शरारती तत्व इसका विरोध कर रहे हैं. डोभाल ने कहा कि, 'सेना की ओर से अत्याचार किए जाने का कोई सवाल ही नहीं उठता. राज्य (J & K) पुलिस और कुछ केंद्रीय बल सार्वजनिक व्यवस्था संभाल रहे हैं. आतंकियों से लड़ने के लिए भारतीय सेना है.'

आतंकियों से करते रहेंगे रक्षा
एनएसए डोभाल ने कहा कि हम पाकिस्तानी आतंकवादियों से कश्मीरियों के जीवन की रक्षा के लिए दृढ़ संकल्पित हैं, भले ही हमें प्रतिबंध लगाना पड़े,. आतंक एकमात्र चीज है जो पाकिस्तान कर रहा है. डोभाल ने कहा कि सीमा के पास 20 किलोमीटर की दूरी पर पाकिस्तानी संचार टॉवर हैं, वे संदेश भेजने की कोशिश कर रहे हैं, हमने बातचीत सुनी है, वे यहां अपने आदमियों को बता रहे थे कि सेब के कितने ट्रक चल रहे हैं, क्या आप उन्हें रोक नहीं पाएंगे? क्या हम आपको चूड़ियाँ भेजें?'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 8, 2019, 6:51 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...