अपना शहर चुनें

States

कड़ाके की ठंड में 12 किमी पैदल चलकर CRPF जवानों ने भूखे बच्चों तक पहुंचाया खाना

सीआरपीएफ के एक दल ने एक परिवार तक खाना पहुंचाने के लिए 12 किमी पैदल का सफर तय किया.
सीआरपीएफ के एक दल ने एक परिवार तक खाना पहुंचाने के लिए 12 किमी पैदल का सफर तय किया.

जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग (Jammu-Srinagar National Highway) पर फंसे एक परिवार तक खाना पहुंचाने के लिए सीआरपीएफ (CRPF) के एक दल ने 12 किलोमीटर का सफर पैदल तय किया.

  • Share this:
श्रीनगर. जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) के रामबन जिले में भूस्खलन की वजह से जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग (Jammu-Srinagar National Highway) पर एक महिला और तीन बच्चों सहित फंसे एक परिवार तक खाना पहुंचाने के लिए सीआरपीएफ (CRPF) के एक दल ने 12 किलोमीटर का सफर पैदल तय किया.

सीआरपीएफ के एक अधिकारी ने बताया कि बल के सहायता डेस्क ‘मददगार’ पर आसिफा नाम की महिला ने सहायता के लिए कॉल की थी. इसके बाद केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (Central Reserve Police Force) ने तेजी से कार्रवाई की. यह महिला अपने तीन बच्चों और परिवार के दो अन्य सदस्यों के साथ श्रीनगर से जम्मू जा रही थीं, लेकिन भारी भूस्खलन के कारण डिगडोले में फंस गई.

12 किमी पैदल तय किया सफर
सीआरपीएफ ने ट्विटर पर कहा, 'भारी भूस्खलन के कारण एनएच-44 पर डिगडोले में घंटों से फंसे आसिफा और बच्चों समेत उनके परिवार को पानी, खाना और अन्य सामान उपलब्ध कराने के लिए 157 वीं बटालियन के निरीक्षक रघुवीर के नेतृत्व में सीआरपीएफ के जवानों की एक टीम ने 12 किलोमीटर का सफर पैदल तय किया. आसिफा ने सहायता के लिए सीआरपीएफ के मददगार से संपर्क किया था.'





संपर्क करने पर सीआरपीएफ के एक अधिकारी ने बताया कि पार्टी नव वर्ष के दिन रात करीब साढ़े आठ बजे शिविर छोड़ा मुसीबत में फंसे मुसाफिरों तक पहुंची.

राजमार्ग पर खोला गया यातायात
रामबन जिले में भूस्खलन के कारण चार दिनों से बंद रहे 270 किमी लंबे जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग को रविवार को एकतरफ से यातायात के लिए खोल दिया गया है. यातायात विभाग के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी.

अधिकारी ने बताया भूस्खलन के बाद डिगडोल और चंदरकोट में राजमार्ग पर जमा हुए मलबे और पत्थरों को हटाने के बाद श्रीनगर से जम्मू की ओर वाहनों को जाने की अनुमति दे दी गई. उन्होंने कहा कि फंसे हुए ट्रकों समेत सभी वाहनों को शनिवार शाम गंतव्य की ओर जाने की इजाजत दे दी गई.

फंसे हुए थे हजारों यात्री 
रामबन जिले के डिगडोल और चंदरकोट में भूस्खलन के बाद बुधवार को राजमार्ग बंद कर दिया गया था जिससे मार्ग पर हजारों यात्री फंसे हुए थे. जम्मू और श्रीनगर में सर्दियों में इस राजमार्ग पर सड़कों की हालत और चार लेन परियोजना के चल रहे काम को ध्यान में रखते हुए यातायात श्रीनगर और जम्मू से वैकल्पिक कर दिया जाता है.

मौसम विभाग ने बताया कि ऊंचाई वाले क्षेत्रों में ताजी बर्फबारी के कारण रात के तापमान में गिरावट दर्ज की गई.

ये भी पढ़ें-
केन्या में अमेरिकी सैन्य प्रतिष्ठान पर हमला, अल शबाब ने ली जिम्मेदारी

दिल्ली पुलिस की आंतरिक रिपोर्ट में खुलासा, जामिया हिंसा के दौरान चलाई थी गोली
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज