भारत में जॉनसन एंड जॉनसन ने सिंगल डोज वाली वैक्‍सीन के क्‍लीनिकल ट्रायल की मांगी मंजूरी

कंपनी ने किया आवेदन. (Pic- AP)

कंपनी ने किया आवेदन. (Pic- AP)

जॉनसन एंड जॉनसन (Johnson and Johnson) की इस जैनसन कोरोना वैक्‍सीन की सिर्फ एक ही डोज लगाई जाती है. दवा निर्माता कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन ने इसके साथ ही डीसीजीआई से इसके आयात लाइसेंस की भी मांग की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 20, 2021, 5:00 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. भारत में दिनोंदिन कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) के नए मामले बड़ी संख्‍या में सामने आ रहे हैं. इसे देखते हुए केंद्र सरकार 1 मई से तीसरे चरण का टीकाकरण अभियान (Corona Vaccination) शुरू करने जा रही है. इसके तहत 18 साल से अधिक उम्र के सभी लोग कोरोना वैक्‍सीन  (Corona Vaccine) लगवा सकेंगे. इस बीच जॉनसन एंड जॉनसन (Johnson and Johnson) ने भी अपनी सिंगल डोज वाली वैक्‍सीन जैनसन (Janssen) के भारत में क्‍लीनिकल ट्रायल की इच्‍छा जताई है. कंपनी ने ड्रग्‍स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) को इस बाबत पत्र लिखकर अनुमति मांगी है.

जॉनसन एंड जॉनसन की इस जैनसन कोरोना वैक्‍सीन की सिर्फ एक ही डोज लगाई जाती है. दवा निर्माता कंपनी जॉनसन एंड जॉनसन ने इसके साथ ही डीसीजीआई से इसके आयात लाइसेंस की भी मांग की है.

सामने आई जानकारी के अनुसार कंपनी ने अपने आवेदन पर निर्णय के लिए केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) की कोविड-19 संबंधी विशेषज्ञ समिति की बैठक शीघ्र बुलाने का आग्रह भी किया है.


जॉनसन एंड जॉनसन ने यह आवेदन ऐसे वक्त में किया है, जब केंद्र सरकार ने उन सभी विदेशी टीकों को आपात इस्तेमाल की मंजूरी देने का निर्णय किया है जिनको विश्व स्वास्थ्य संगठन से अथवा अमेरिका, यूरोप, ब्रिटेन या जापान में नियामकों से इसी प्रकार की मंजूरी मिल चुकी है.



कहा जा रहा है कि कंपनी ने 12 अप्रैल को सुगम ऑनलाइन पोर्टल के जरिए ग्लोबल क्लिनिकल ट्रायल डिवीजन में आवेदन किया था. कुछ जटिलताओं के चलते जॉनसन एंड जॉनसन ने सोमवार को दोबारा आवेदन किया है. जॉनसन एंड जॉनसन के टीके को दो से आठ डिग्री सेल्सियस तक के तापमान में तीन माह तक के लिए सुरक्षित रखा सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज