जॉर्डन: शाही परिवार का विवाद अदालत पहुंचा, सोमवार को सुनवाई

जॉर्डन शाही परिवार का मामला अब कोर्ट तक पहुंच गया है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

Jordan Royal family: शाही परिवार के वरिष्ठ सदस्य और जॉर्डन के मौजूदा शाह के सौतेले भाई राजकुमार हमजा के साथ मिलकर विदेशी मदद से किंग अब्दुल्ला के खिलाफ जनता में असंतोष पैदा करने की साजिश रचने का आरोप है.

  • Share this:
    अम्मान (जॉर्डन). जॉर्डन में सदी का सबसे अहम मुकदमा अगले सप्ताह राज्य सुरक्षा अदालत में शुरू होगा जब किंग अब्दुल्ला द्वितीय के रिश्तेदार और शाही दरबार के पूर्व प्रमुख आरोपी की तरह कठघरे में राजद्रोह और उकसावे के आरोपों का सामना करने पहुंचेंगे. इन पर शाही परिवार के वरिष्ठ सदस्य और जॉर्डन के मौजूदा शाह के सौतेले भाई राजकुमार हमजा के साथ मिलकर विदेशी मदद से किंग अब्दुल्ला के खिलाफ जनता में असंतोष पैदा करने की साजिश रचने का आरोप है. महल का यह ‘नाटक’ अप्रैल महीने की शुरुआत में तब सार्वजनिक हुआ था जब हमजा को नजरबंद किया गया.

    बचाव पक्ष के वकील अला खासावनेह ने कहा, ‘‘जहां तक मेरी जानकारी है जॉर्डन के इतिहास में इतना बड़ा मुकदमा नहीं चला है.’’ उन्होंने कहा कि सुनवाई सोमवार को शुरू होगी. इस पूरे घटनाक्रम के केंद्र में 41 वर्षीय हमजा हैं लेकिन वह मुकदमे का सामना नहीं कर रहे हैं. गौरतलब है कि वर्ष 2004 में किंग अब्दुल्ला ने अपने बड़े बेटे के लिए हमजा से वलीअहद (युवराज) का दर्जा छिन लिया था. यहां की आधिकारिक संवाद एजेंसी के मुताबिक हमजा ने राजा बनने की महत्वाकांक्षा में यह साजिश रची जबकि हमजा ने आरोपों से इनकार किया है और भ्रष्टाचार उजागर करने पर निशाना बनाए जाने का दावा किया है.

    जानकारी के मुताबिक सोमवार को शाही परिवार के सदस्य शरीफ हसन बिन जैद और पूर्व शाही सलाहकार बसीम अवादाल्ला राजद्रोह और उकसावे के आरोपों का सामना करेंगे. अदालत में राजा के दूर के भाई बिन जैद का पक्ष रखने वाले खासावनेह ने कहा कि उनका मुवक्किल ‘स्तब्ध हैं और दोषमुक्त साबित होने की योजना बना रहे हैं. उनपर राजद्रोह और उकसावे के आरोपों के साथ मादक पदार्थ रखने की धारा भी लगाई गई है.

    ये भी पढ़ें: अपनी Corona वैक्सीन के दाम छिपा रहा चीन, नेपाल ने की कीमत उजागर तो गुस्साया ड्रैगन

    ये भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर पर सर्वदलीय बैठक से पहले बौखलाया पाकिस्तान, भारत को दी चेतावनी

    वकील ने कहा कि उनकी योजना हमजा को अदालत में बुलाने की है- माना जा रहा है कि इससे सुनवाई और सनसनीखेज हो जाएगी. उन्होंने कहा कि उनके मुवक्किल की योजना मुकदमा लड़ने की है. इसके साथ ही किसी समझौते से भी उन्होंने इनकार कर दिया. राज्य सुरक्षा अदालत के पूर्व अध्यक्ष और अवादाल्लाह का पक्ष रख रहे मोहम्मद अल अफीफ ने कहा कि उनके मुवक्किल और बिन जैद के कठघरे में सीमित रहने और कैदियों के लिए निर्धारित नीली वर्दी में आने की उम्मीद है. अगर वे दोषी ठहराए जाते हैं तो 20 साल तक की सजा हो सकती है.

    (Disclaimer: यह खबर सीधे सिंडीकेट फीड से पब्लिश हुई है. इसे News18Hindi टीम ने संपादित नहीं किया है.)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.