रमानी के खिलाफ एमजे अकबर के मानहानि मामले पर दो साल सुनवाई के बाद कोर्ट ने कहा- हमारे अधिकार क्षेत्र में नहीं केस

एमजे अकबर की फाइल फोटो (फाइल फोटो)
एमजे अकबर की फाइल फोटो (फाइल फोटो)

अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट (एसीएमएम) विशाल पाहुजा ने कहा कि यह मामला किसी सांसद या विधायक के खिलाफ नहीं दर्ज किया गया है और इसे किसी 'सक्षम अदालत’ को स्थानांतरित करने की आवश्यकता है.

  • Share this:
नई दिल्ली. पत्रकार प्रिया रमानी (Priya Ramani) के खिलाफ पूर्व केंद्रीय मंत्री एम जे अकबर (MJ Akbar) की आपराधिक मानहानि शिकायत की करीब दो साल से सुनवाई कर रही अदालत ने मंगलवार को जिला जज से यह मामला दूसरी सक्षम अदालत को सौंपने को कहा. जज ने कहा कि यह अदालत जन प्रतिनिधियों के खिलाफ मामलों की सुनवाई के लिए नामित की गयी है.

अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट (एसीएमएम) विशाल पाहुजा ने इस साल सात फरवरी को मामले में अंतिम सुनवाई शुरू की थी. उन्होंने कहा कि यह मामला किसी सांसद या विधायक के खिलाफ नहीं दर्ज किया गया है और इसे किसी 'सक्षम अदालत’ को स्थानांतरित करने की आवश्यकता है.

2018 में अकबर को देना पड़ा था 
उन्होंने कहा कि उनकी अदालत को 23 फरवरी 2018 को जारी एक परिपत्र के अनुसार सांसदों व विधायकों के खिलाफ दायर मामलों की सुनवाई के लिए नामित किया गया है. यह मामला 'सांसद या विधायक के खिलाफ दायर नहीं किया गया है' इसलिए वह यह मामला दूसरे मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट को सौंपने पर विचार करने के लिए प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश को भेज रहे हैं. अकबर ने मार्च 2018 में रमानी के खिलाफ आपराधिक मानहानि की शिकायत दर्ज करायी थी.





रमानी की वकील ने क्या कहा?
बता दें कि ‘#मी टू अभियान' के तहत पत्रकार प्रिया रमानी ने एमजे अकबर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था. इसके बाद 20 से ज्यादा महिलाओं ने भी ट्विटर पर अकबर पर ऐसे आरोप लगाए थे. अकबर को इसके बाद केंद्रीय मंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था. अकबर ने इस मामले में रमानी के खिलाफ निजी तौर पर आपराधिक मानहानि मामला दर्ज कराया था.

द इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार अदालत के फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए, रमानी के वकील रेबेका जॉन ने कहा 'अगर मामले को एक नई अदालत में ट्रांसफर किया जाएगा, तो हमें फाइनल आर्ग्युमेंट फिर से शुरू करना होगा.  यह निराशाजनक है, मैंने अपने फाइनल आर्ग्युमेंट पर पांच दिन बिताए और मैं फिर से उसी प्रयास को दोहरा नहीं सकती. हम अपने आर्ग्युमेंट्स में दिल और आत्मा निचोड़ देते हैं.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज