अपना शहर चुनें

States

बृहस्पति और शनि का दुर्लभ मिलन, आकाश में 21 दिसंबर को दिखेगा नजारा

पश्चिम की ओर क्षितिज के बिल्कुल नीचे दो ग्रहों को एक दूसरे से मिलते हुए देखा जा सकता है. Photo- Pixabay
पश्चिम की ओर क्षितिज के बिल्कुल नीचे दो ग्रहों को एक दूसरे से मिलते हुए देखा जा सकता है. Photo- Pixabay

Jupiter and Saturn great conjunction: इस खगोलीय घटना में दोनों ग्रहों को देखने पर लगेगा कि वे बहुत पास हैं, लेकिन अंतरिक्ष में एक दूसरे से करोड़ों किलोमीटर दूर होंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 6, 2020, 5:58 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. करीब चार सौ साल बाद बृहस्पति (Jupiter) और शनि (Saturn) के बहुत करीब आने और एक चमकदार तारे की तरह दिखने का दुर्लभ नजारा आगामी 21 दिसंबर को आसमान में देखा जा सकेगा. एम पी बिड़ला तारामंडल के निदेशक देबी प्रसाद दुआरी ने एक बयान में कहा कि दोनों ग्रहों को 1623 के बाद से कभी इतने करीब नहीं देखा गया. उन्होंने कहा, ‘‘जब दो खगोलीय पिंड पृथ्वी से एक दूसरे के बहुत करीब नजर आते हैं तो इस घटनाक्रम को ‘कंजक्शन’ कहते हैं. और शनि तथा बृहस्पति के इस तरह के मिलन को 'डबल प्लेनेट' या ‘ग्रेट कंजक्शन’ कहते हैं.’’

इसके बाद ये दोनों ग्रह 15 मार्च, 2080 को पुन: इतने करीब होंगे. दुआरी ने बताया कि 21 दिसंबर को दोनों ग्रहों के बीच की दूरी करीब 73.5 करोड़ किलोमीटर होगी. हर दिन ये दोनों एक दूसरे के थोड़े करीब आते जाएंगे. भारत में अधिकतर शहरों में सूर्यास्त के पश्चात इस घटनाक्रम का दीदार किया जा सकता है. ऑस्ट्रेलिया की मोनाश यूनिवर्सिटी में खगोलविद् माइकल ब्राउन ने कहा कि इस खगोलीय घटना को खुली आंखों से देखा जा सकता है. उन्होंने कहा कि दोनों ग्रहों को देखने पर लगेगा कि वे कितने पास हैं, लेकिन अंतरिक्ष में एक दूसरे से करोड़ों किलोमीटर दूर होंगे.

बता दें कि बृहस्पति को सूर्य का एक चक्कर लगाने में 12 वर्ष लगते हैं, जबकि शनि को सूर्य की एक परिक्रमा पूरी करने में 30 साल का वक्त लगता है. खगोलीय लेखक एमिली लकड़वाला ने वॉशिंगटन पोस्ट से कहा कि इस घटना को ऐसे समझा जा सकता है कि एक रनिंग ट्रैक पर दो ग्रह चक्कर लगा रहे हैं और एक की स्पीड तेज है, जबकि दूसरा धीमी गति से दौड़ रहा है. इस खगोलीय घटनाक्रम में बृहस्पति, शनि को पीछे छोड़ने जा रहा है.



एमिली ने कहा कि चूंकि हर ग्रह अपनी कक्षा में एक निश्चित कोण पर मौजूद है, इसलिए दिसंबर के आखिर में होने जा रहा, ये दुर्लभ मिलन बरसों में एकाध बार देखने को मिलता है. गर्मियों के बाद से ही बृहस्पति और शनि लगातार एक दूसरे के करीब आ रहे हैं और सूर्य के अस्त होने के बाद पश्चिमी आकाश में दो ग्रहों के दुर्लभ मिलन को देखा जा सकता है.

21 दिसंबर के आसपास पश्चिम की ओर क्षितिज के बिल्कुल नीचे दो ग्रहों को एक दूसरे से मिलते हुए देखा जा सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज