जस्टिस जोसेफ आज लेंगे शपथ, सरकार ने कहा- सारे नियमों का ध्यान रखा गया है

जस्टिस केएम जोसेफ (फ़ाइल फोटो)
जस्टिस केएम जोसेफ (फ़ाइल फोटो)

उत्तराखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस केएम जोसेफ को केंद्र ने तमाम विवादों के बाद सुप्रीम कोर्ट में नियुक्ति की मंजूरी तो दे दी, लेकिन उनकी वरिष्ठता घटा दी गई

  • Share this:
सुप्रीम कोर्ट के तीन जज आज शपथ लेंगे. केन्द्र सरकार द्वारा भेजे गए वरिष्ठता के आधार पर जस्टिस इंदिरा बनर्जी, विनीत सरन और केएम जोसेफ शपथ लेंगे. सूत्रों के मुताबिक शपथ के बाद जस्टिस केएम जोसेफ की सीनियोरिटी को लेकर चर्चा की जाएगी. सूत्रों का कहना है कि फिलहाल इस पर कुछ भी नहीं किया जा सकता है.

आपको बता दें कि उत्तराखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस केएम जोसेफ को केंद्र ने तमाम विवादों के बाद सुप्रीम कोर्ट में नियुक्ति की मंजूरी तो दे दी, लेकिन उनकी वरिष्ठता घटा दी गई. सुप्रीम कोर्ट में नियुक्ति के लिए तीन जजों की लिस्ट में जस्टिस जोसेफ का नाम तीसरे नंबर पर है. वरिष्ठता का यही क्रम रहने पर जस्टिस जोसेफ सबसे आखिर में शपथ लेंगे.

वरिष्ठता क्रम को लेकर सुप्रीम कोर्ट के जज बंटे हुए हैं. कॉलेजियम में शामिल सुप्रीम कोर्ट के कई जज जहां केंद्र के इस कदम से नाराज हैं और चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (सीजेआई) दीपक मिश्रा से मुलाकात करने वाले हैं. वहीं, कुछ जजों का कहना है कि वरिष्ठता को लेकर कोई लिखित नियम नहीं है. ऐसे में इसे विवाद का विषय नहीं बनाया जाना चाहिए. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के नए जजों का शपथ ग्रहण मंगलवार को होना है.



सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस केएम जोसेफ के अलावा जस्टिस इंदिरा बनर्जी और जस्टिस विनीत सरन को प्रमोट किया गया है. जस्टिस इंदिरा बनर्जी फरवरी 2002 में हाईकोर्ट की जज नियुक्त हुई थीं. जस्टिस विनीत सरण 14 फरवरी 2002 को अप्वॉइंट हुए थे. सुप्रीम कोर्ट के अघोषित नियम के मुताबिक, शीर्ष अदालत में प्रमोट होने के बाद हाईकोर्ट के सबसे वरिष्ठ जज सबसे पहले शपथ लेते हैं. वरिष्ठता क्रम की बात करें तो जस्टिस केएम जोसेफ को पहले शपथ लेनी चाहिए. चूंकि नियुक्ति में उनका नाम तीसरे नंबर पर है. लिहाजा उन्हें आखिर में शपथ लेनी पड़ेगी.
हालांकि, वरिष्ठता के मामले में सुप्रीम कोर्ट के कई जज आम राय नहीं रखते. कुछ जजों का यह भी कहना है कि ऐसा कोई लिखित नियम नहीं है कि सबसे वरिष्ठ जज को ही सबसे पहले शपथ लेना चाहिए. पुराने उदाहरण भी बदलते रहते हैं.

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने जनवरी में जस्टिस जोसेफ का नाम केंद्र सरकार के पास भेजा था. उस वक्त सरकार ने उनका नाम यह कहकर वापस भेज दिया कि जस्टिस जोसेफ उतने सीनियर नहीं हैं. इसके बाद कॉलेजियम ने जुलाई में मद्रास हाईकोर्ट की चीफ जस्टिस इंदिरा बनर्जी और ओडिशा हाईकोर्ट के जस्टिस विनीत सरण के साथ जस्टिस जोसेफ का नाम दोबारा सरकार को भेजा.

इसके बाद केंद्र ने शुक्रवार को जस्टिस जोसेफ सहित तीनों जजों की सुप्रीम कोर्ट में नियुक्ति को हरी झंडी दी. इसके लिए जारी नोटिफिकेशन में जस्टिस जोसेफ का नाम तीसरे नंबर पर रखा गया. इससे सीजेआई बनने और किसी भी बेंच की अध्यक्षता करने की संभावनाओं पर असर पड़ेगा.

ये भी पढ़ें:

कौन होगा जम्‍मू-कश्‍मीर का नया राज्‍यपाल? राजीव महर्षि और दिनेश्‍वर शर्मा के नाम सबसे आगे

'काजल ठीक है लेकिन आईलाइनर नहीं': कश्मीरी कॉलेज में लड़कियों को यह सिखाया जाता है
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज