Home /News /nation /

18 साल पहले कैलाश सत्यार्थी ने जिसे बचाया था, आज वह कर रहा रेप पीड़ितों की मदद

18 साल पहले कैलाश सत्यार्थी ने जिसे बचाया था, आज वह कर रहा रेप पीड़ितों की मदद

नोबेल पुरस्‍कार विजेता कैलाश सत्‍यार्थी.

नोबेल पुरस्‍कार विजेता कैलाश सत्‍यार्थी.

मजदूरी का काम करने वाले पांच साल के अमर लाल को 18 साल पहले नोबेल पुरस्‍कार विजेता कैलाश सत्‍यार्थी की संस्‍था बचपन बचाओ आंदोलन ने बचाया था.

    मजदूरी का काम करने वाले पांच साल के अमर लाल को 18 साल पहले नोबेल पुरस्‍कार विजेता कैलाश सत्‍यार्थी की संस्‍था बचपन बचाओ आंदोलन ने बचाया था. जिस समय अमर लाल को बीबीए ने बचाया था, उस वक्‍त वह टेलीफोन पोल को ठीक करने का काम कर रहा था. अमर लाल ने बाल आश्रम में रहकर पढ़ाई की और अब वकील बनकर रेप पीड़ितों की आवाज बन रहे हैं.

    अमर लाल बताते हैं कि जब भाईसाहब (कैलाश सत्‍यार्थी) ने मुझे देखा तो मैं एक टेलीफोन पोल पर काम कर रहा था. उस वक्‍त मेरी उम्र पांच साल थी. काम के दौरान ही वहां पर बचपन बचाओ आंदोलन से जुड़े लोग पहुंचे और मुझे अपने साथ ले गए. उस दिन ने मेरी जिंदगी ही बदल दी. मैं एक वकील बनकर समाज की भलाई के लिए अपना योगदान देना चाहता हूं. अमर ने बताया कि जिन भी बच्‍चों का जीवन अब तक कैलाश सत्‍यार्थी ने संवारा है वो सभी उन्‍हें प्‍यार से भाईसाहब जी कहकर बुलाते हैं.



    कैलाश सत्यार्थी ने अमर लाल की फोटो सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए लिखा, आज, मेरा बेटा अमर लाल एक 17 साल की रेप सर्वाइवर के लिए अदालत में खड़ा हुआ. इस युवा वकील के माता-पिता के रूप में यह हमारे लिए गर्व का क्षण है, जिसे हमने 5 साल की उम्र में बाल मज़दूरी से बचाया था. अपनी पढ़ाई पूरी करने तक अमर बाल आश्रम में रहा. अभी और आगे जाना है.

    इसे भी पढ़ें :- जन जागरूकता के लिए निकलेगा कैलाश सत्यार्थी फाउंडेशन का मुक्ति कारवां

    अमर ने बताया कि उनके परिवार में वह पहले सदस्‍य है जिन्‍होंने पढ़ाई की है और यहां तक का सफर तय किया है. उन्होंने बताया कि हम बंजारा समुदाय से आते हैं. हमेशा एक जगह से दूसरी जगह पर पलायन करते रहने की वजह से हमें कभी भी स्कूल जाने का मौका नहीं मिल पाता है. अमर ने कहा, मैं रेप पीड़ितों को इंसाफ दिलाने के लिए लड़ना चाहूंगा. एक सर्वे के मुताबिक, भारत में लगभग 380.7 लाख लड़के और 80.8 लाख लड़कियां बाल मजदूरी का शिकार हैं. बाल मजदूरी के खिलाफ एक मिशन के तहत कैलाश सत्यार्थी की संस्‍था बचपन बचाओ आंदोलन ने 87,000 से भी अधिक बच्चों को विभिन्न तरीके के उत्पीड़न और शोषण से मुक्त करवाया है.

    Tags: Kailash Satyarthi, Rape, Social media

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर