• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • विश्व धरोहर में शामिल हुआ हजार खंभों वाला ये शिव मंदिर; यहां मौजूद हैं श्रीहरि और सूर्य देवता

विश्व धरोहर में शामिल हुआ हजार खंभों वाला ये शिव मंदिर; यहां मौजूद हैं श्रीहरि और सूर्य देवता

रुद्रेश्वर मंदिर वारंगल की हनमकोंडा पहाड़ी पर स्थित है.

रुद्रेश्वर मंदिर वारंगल की हनमकोंडा पहाड़ी पर स्थित है.

इस मंदिर के निर्माण के दौरान बेहतर नक्काशी और उन्नत तकनीक का इस्तेमाल किया गया था. इस मंदिर का प्रभावशाली प्रवेशद्वार, हजार विशाल खम्भे और छतों के शिलालेख आकर्षण केंद्र हैं.

  • Share this:
    हैदराबाद. तेलंगाना में स्थित काकतीय रुद्रेश्वर (रामप्पा मंदिर) (Kakatiya Rudreshwara (Ramappa) Temple) मंदिर विश्व धरोहर में शामिल किया गया है. रविवार को यूनेस्को ने ऐलान किया कि भारत के तेलंगाना में स्थित काकतीय रुद्रेश्वर (रामप्पा) मंदिर को विश्व धरोहर स्थल के रूप में शामिल किया जा रहा है.

    वारंगल स्थित यह शिव मंदिर इकलौता ऐसा मंदिर है, जिसका नाम इसके शिल्पकार रामप्पा के नाम पर रखा गया. काकतीय वंश के महाराज ने इस मंदिर का निर्माण 12वीं सदी में करवाया था. खास बात यह है कि इस दौर में बने ज्यादातर मंदिर खंडहर में तब्दील हो चुके हैं, लेकिन कई प्राकृतिक आपदाओं के बाद भी इस मंदिर को कोई खास नुकसान नहीं पहुंचा है. यह शोध का विषय भी रहा है.

    मंदिर के इतिहास की बात की जाए तो इसका निर्माण काकतिय नरेश राजा रूद्र देव ने 1163 में करवाया था. इस मंदिर के निर्माण के दौरान बेहतर नक्काशी और उन्नत तकनीक का इस्तेमाल किया गया था. इस मंदिर का प्रभावशाली प्रवेशद्वार, हजार विशाल खम्भे और छतों के शिलालेख आकर्षण केंद्र हैं. हज़ार स्तंभो वाला मंदिर यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल है और दक्षिण भारत के सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक है.

    शिव, श्रीहरि और सूर्य देवता को समर्पित है ये मंदिर
    वारंगल का रुद्रेश्वर का एक मात्र ऐसा मंदिर है जो एक तारे के आकार का बना है. इस मंदिर की खासियत यह है कि यहां एक ही छत के नीचे तीन देवताओं की मूर्तियां स्थापित है. जिसमे शिव और विष्णु के साथ सूर्य देवता शामिल है. इसलिए इसे 'त्रिकुटल्यम' भी कहते हैं.

    आम तौर पर महादेव और श्री हरि के साथ ब्रह्मा की ही पूजा होती है. लेकिन यह ऐसा इकलौता मंदिर हैं जहां ब्रह्मा की जगह सूर्य देवता विराजमान हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज