अमेठी में बनेंगी AK-47 की लेटेस्ट राइफल्स, जल्द लगेगी फैक्ट्री

मिखाइल कलाश्निकोव के नाम से ही इस स्वचालित रायफल का नाम रखा गया है, और ये दुनिया का सबसे ज्यादा प्रचलित और व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला हथियार है

News18Hindi
Updated: February 15, 2019, 3:53 PM IST
News18Hindi
Updated: February 15, 2019, 3:53 PM IST
केंद्र सरकार ने कलाश्निकोव राइफल बनाने की हरी झंडी दे दी है. रूस की एक कंपनी और ऑर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड मिलकर 7.47 लाख कलाश्निकोव राइफलें बनाएगी. इसके लिए उत्तर प्रदेश के अमेठी के पास प्लांट तैयार किया जाएगा. ये राइफलें सोवियत जनरल मिखाइल कलाश्निकोव की ओर से आविष्कार की गई प्रतिष्ठित AK-47 का एक लेटेस्ट वर्जन है.

इस प्रोजेक्ट पर कितना खर्चा आएगा और काम कब से शुरू होगा इसकी जानकारी सरकार के तरफ से बाद में जारी की जाएगी. पिछले साल अक्टूबर से ही इस राइफल को लेकर भारत और रूस के बीच बातचीत चल रही थी. दिसंबर में ही सरकार ने इस बात के संकेत दे दिए थे कि 'मेक इन इंडिया' के तहत इन राइफल्स का निर्माण भारत में ही किया जाएगा. ये हथियार मुख्य तौर पर सेना और पुलिस कर्मियों को दिए जाएंगे.

मिखाइल कलाश्निकोव के नाम से ही इस स्वचालित रायफल का नाम रखा गया है, और ये दुनिया का सबसे ज्यादा प्रचलित और व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला हथियार है. तुलनात्मक रूप से इसका निर्माण भी अन्य बंदूकों के मुकाबले सस्ता है, इसके साथ ही ये विश्‍वसनीय है और इसकी मरम्मत भी आसान है.



AK-47 नाम के पीछे का रहस्य

ये मिखाइल का ऑटोमैटिक हथियार है, इसलिए इसका नाम दिया गया आवटोमैट कलाशनिकोवा, जिसे बाद में ऑटोमैटिक कलाश्निकोव कहा जाने लगा. शुरुआती मॉडल में कई दिक्कतें थीं, लेकिन साल 1947 में मिखाइल ने आवटोमैट कलाशनिकोवा मॉडल को पूरा कर लिया. बोलने में मुश्किल होने की वजह से इसे संक्षिप्त कर AK-47 कहा जाने लगा. AK के सिर्फ AK-47 मॉडल ही नहीं है अब तो इसके कई मॉडल बाजार में उपलब्ध है, जिसमें AK-74, AK-103 आदि शामिल हैं.

क्यों खास है ये?

AK-47 वो हथियार है, जिससे पानी के अंदर से हमला करने पर भी गोली सीधे जाती है. गोलियों की गति इतनी तेज होती है, कि पानी का घर्षण भी उसे कम नहीं कर पाता है. यह बेहद सिम्पल राइफल है और बहुत आसानी से इसका निर्माण किया जा सकता है, इसलिए दुनिया में ये एक मात्र ऐसी राइफल है, जिसकी सबसे ज्यादा कॉपी की गई है. इस राइफल में पहले की सभी राइफल तकनीकों का मिश्रण है.
Loading...

ये भी पढ़ें:

'गले पड़ने, आंखों की गुस्‍ताखियां' से मुलायम के आशीर्वाद तक, PM के भाषण की 10 बड़ी बातें

राफेल: CAG रिपोर्ट के बाद PM का राहुल पर तंज, आंखों की गुस्ताखियों का खेल पता चला

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...