• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • जेएनयू कैंपस में कन्हैया का जोरदार भाषण, सरकार को घेरा, मोदी पर ली चुटकी

जेएनयू कैंपस में कन्हैया का जोरदार भाषण, सरकार को घेरा, मोदी पर ली चुटकी

नारेबाजी और जोरदार तालियों के बीच कन्हैया ने कहा कि मेरे प्रधानमंत्री के साथ कई मतभेद हैं लेकिन मैं उनके सत्यमेव जयते के ट्वीट से समहत हूं क्योंकि यह शब्द हमारे संविधान में है।

  • Share this:
    नई दिल्ली। दिल्ली हाईकोर्ट से जमानत मिलने के बाद जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार तिहाड़ जेल से रिहा हो गए हैं। जेल से पुलिस ने उन्हें गुप चुप तरीके से जेएनयू पहुंचाया। इसके बाद कन्हैया ने छात्रों की जनसभा में सरकार पर निशाना साधा और कहा कि जेएनयू को सोचसमझ कर निशाना बनाया गया। इस दौरान कन्हैया ने पीएम मोदी और केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला। कन्हैया ने कहा कि उन्हें देश से आजादी नहीं बल्कि देश में आजादी चाहिए। कन्हैया ने मन की बात से लेकर हर हर मोदी, चुनावी वादों, जाट आरक्षण, मोदी के ट्वीट जैसे तमाम मुद्दे उठाए और केंद्र को घेरा।

    जेएनयू छात्र संघ के नेता कन्हैया कुमार ने अपनी गिरफ्तारी के तीन सप्ताह के बाद जेल से जेएनयू परिसर लौटने पर गुरुवार देर रात प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ निशाना साधा और कहा कि वे देश के भीतर स्वतंत्रता चाहते हैं ना कि देश से। कथित तौर पर राष्ट्र-विरोधी नारे लगाने के लिए देशद्रोह के आरोप का सामना कर रहे 29 साल के कुमार ने परिसर में छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि उनके प्रधानमंत्री के साथ कई मतभेद थे लेकिन वह उनके ‘सत्यमेव जयते’ वाले ट्वीट से सहमत हैं जो उन्होंने जेएनयू विवाद पर लोकसभा में मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी के उग्र लहजे वाले भाषण पर किया था क्योंकि यह संविधान में है।

    नारेबाजी और जोरदार तालियों के बीच अपने भाषण में कन्हैया ने तंज कसते हुए कहा कि मेरे प्रधानमंत्री के साथ कई मतभेद हैं लेकिन मैं उनके सत्यमेव जयते के ट्वीट से सहमत हूं क्योंकि यह शब्द हमारे संविधान में है। उन्होंने कहा कि हम भारत से आजादी नहीं चाहते हैं। हम भारत के भीतर आजादी चाहते हैं। हाड़ जेल में बंद रहने के दौरान अपने साथ खड़े रहने वालों को धन्यवाद देते हुए कुमार ने कहा कि उन्हें भारत के संविधान और न्यायपालिका में भरोसा है।

    कन्हैया ने कहा कि इस बार सिस्टम को पढ़ा नहीं झेला है। जेएनयू ने सही को सही और गलत को गलत कहा। इससे पहले कन्हैया ने सदन में बैठे लोगों और पुलिस का धन्यवाद भी किया। साथ ही कहा कि हम लोग एबीवीपी को दुश्मन की तरह नहीं विपक्ष की तरह देखते हैं। जेएनयू के साथ खड़े होने के लिए कन्हैया ने सभी को धन्यवाद कहा।

    इससे पहले जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार के तिहाड़ जेल से आने पर जोरदार स्वागत किया गया। कन्हैया को देशद्रोह के मामले में तीन हफ्ते पहले गिरफ्तार किया गया था जिसको लेकर एकजुट होते हुए विपक्ष ने सरकार पर असहमति को कुचलने को लेकर जोरदार हमला किया था। 29 साल के कुमार को गुरुवार शाम रिहा कर दिया गया। साथ ही दिल्ली सरकार की नियुक्त एक मजिस्ट्रेट जांच में उनके जेएनयू परिसर में नौ फरवरी को एक कार्यक्रम के दौरान भारत विरोधी नारे लगाने का कोई साक्ष्य भी नहीं पाया गया।

    रिपोर्ट में कहा गया है कि कुमार के खिलाफ ‘कुछ भी प्रतिकूल नहीं’ है और जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष के खिलाफ आरोपों के समर्थन में कोई गवाह या वीडियो नहीं है। प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय से पीएचडी कर रहे कुमार को शाम छह बज कर 30 मिनट पर रिहा कर दिया गया और छात्रों और शिक्षकों ने उनका जोरदार स्वागत किया।

     

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज