चार्जशीट दाखिल होने के बाद कन्हैया ने कहा- 'पुलिस और मोदी जी को धन्यवाद'

दिल्ली पुलिस ने जेएनयू परिसर में नौ फरवरी 2016 को आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान कथित तौर पर भारत विरोधी नारे लगाने के लिए पूर्व छात्रों उमर खालिद तथा अनिर्बान भट्टाचार्य के खिलाफ भी आरोपपत्र दाखिल किया है

भाषा
Updated: January 14, 2019, 10:23 PM IST
चार्जशीट दाखिल होने के बाद कन्हैया ने कहा- 'पुलिस और मोदी जी को धन्यवाद'
कन्हैया कुमार (फ़ाइल)
भाषा
Updated: January 14, 2019, 10:23 PM IST
जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ (जेएनयूएसयू) के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार तथा अन्य के खिलाफ देशद्रोह के मामले में सोमवार को आरोपपत्र दाखिल किए जाने के बाद कुमार ने इसे राजनीति से प्रेरित कदम बताया. उन्होंने लोकसभा चुनाव से पहले इसे दाखिल किए जाने को लेकर भी सवाल उठाया.

कुमार ने कहा, ‘‘आरोपपत्र राजनीति से प्रेरित है. हालांकि, हम चाहते हैं कि आरोप तय किए जाएं और इस मामले में तुरंत सुनवाई हो ताकि सच्चाई सामने आ सके. हम उन वीडियो को भी देखना चाहते हैं जो पुलिस द्वारा सबूत के तौर पर रखे गए हैं.’’

उन्होंने कहा कि ये अपनी चौतरफा विफलताओं को छिपाने के लिए मोदी सरकार का ध्यान हटाने वाला कदम है. कुमार ने कहा, ‘‘मुझे अदालत से कोई समन या सूचना नहीं मिली है. लेकिन अगर ये सच है, तो हम पुलिस और (प्रधानमंत्री) मोदी को धन्यवाद देते हैं कि आखिरकार तीन साल बाद, जब उनके और उनकी सरकार के जाने का समय आ गया है तो आरोपपत्र दाखिल किया गया है.’’



उन्होंने कहा, "यह स्पष्ट है कि इसके पीछे एक राजनीतिक उद्देश्य है. उद्देश्य यह है कि मोदी सरकार सभी मोर्चों पर विफल रही है, यह एक भी वादा पूरा करने में नाकाम रही है. इसलिए ध्यान हटाने के लिए वह अपने सभी पत्ते खोल रही है."

कुमार ने आरोप लगाया कि सरकार इस मुद्दे को अब एक राजनीतिक औजार के रूप में इस्तेमाल कर रही है.

उन्होंने सवाल किया, ‘‘अगर सरकार वास्तव में इस मामले को लेकर गंभीर थी और यह कह रही थी कि हम देशविरोधी गतिविधियों में लिप्त थे तो आरोपपत्र दायर करने में तीन साल क्यों लग गए, वह भी चुनाव से ठीक पहले?"

दिल्ली पुलिस ने जेएनयू परिसर में नौ फरवरी 2016 को आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान कथित तौर पर भारत विरोधी नारे लगाने के लिए पूर्व छात्रों उमर खालिद तथा अनिर्बान भट्टाचार्य के खिलाफ भी आरोपपत्र दाखिल किया है. ये कार्यक्रम संसद हमला मामले के मास्टरमाइंड अफजल गुरू की फांसी की बरसी पर आयोजित किया गया था.
Loading...

खालिद और भट्टाचार्य ने एक संयुक्त बयान में कहा, ‘‘ 2019 के आम चुनाव से महज तीन महीना पहले हमारे खिलाफ आरोपपत्र दाखिल करने और नौ फरवरी 2016 के बाद तीन साल की गहरी नींद से जगने के लिए हम दिल्ली पुलिस, गृह मंत्रालय और सरकार को धन्यवाद देते हैं.’’

इस मामले के अन्य आरोपियों में आकिब हुसैन, मुजीब हुसैन, मुनीब हुसैन, उमर गुल, रईया रसूल, बशीर भट, बशरत को भी आरोपी बनाया गया है.

ये भी पढ़ें:

JNU मामलाः 1200 पन्नों की चार्जशीट में कन्हैया-उमर समेत 10 पर देशद्रोह का आरोप

मोदी सरकार की इस स्‍कीम से बढ़ रहा है बैंकों का NPA, RBI ने केंद्र को फिर चेताया

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...