कानपुर एनकाउंटर पर चिदंबरम ने उठाए सवाल, पूछा- सूरज ढलने के बाद अपराधी के गढ़ में क्यों गई पुलिस?

कानपुर एनकाउंटर पर चिदंबरम ने उठाए सवाल,  पूछा- सूरज ढलने के बाद अपराधी के गढ़ में क्यों गई पुलिस?
कानपुर एनकाउंटर पर चिदंबरम ने पूछा कि रात में अपराधी के गढ़ में क्यों गई पुलिस?(फाइल फोटो)

पी चिदंबरम (P Chidambaram) ने ट्वीट किया, 'विश्वास करना मुश्किल हो रहा है कि एक प्रशिक्षित पुलिस बल सूर्यास्त के बाद किसी कुख्यात अपराधी को गिरफ्तार करने उसके ही गढ़ में जाएगी. त्रासदी का पूर्वाभास हो गया था.'

  • Share this:
कानपुर. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के कानपुर एनकाउंटर (Kanpur Encounter) मामले में अब राजनीतिक बयानबाजी तेज गई है. पूर्व वित मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम (P Chidambaram) ने इस घटना को लेकर प्रदेश की बीजेपी सरकार पर निशाना साधा है. चिदंबरम ने खतरनाक अपराधी के घर सूरज ढलने के बाद जाने के फैसले को लेकर भी सवाल खड़े किए हैं. उन्होंने कहा कि यह विश्वास करना मुश्किल है कि एक प्रशिक्षित पुलिस टीम सूर्यास्त के बाद एक कुख्यात अपराधी को गिरफ्तार करने के लिए जाएगी.

चिदंबरम (P Chidambaram) ने ट्वीट किया, 'यूपी हर लिहाज से इतना पिछड़ा है कि यूपी पर राज करने वालों को शर्म से सिर झुका लेना चाहिए. यूपी में कांग्रेस 1985-1989 में 30 साल पहले आखिरी बार सरकार में थी. भाजपा कांग्रेस को दोष नहीं दे सकती है और सोच रही है कि किसे दोषी ठहराया जा सकता है?' चिदंबरम ने अगले ट्वीट में लिखा, 'विश्वास करना मुश्किल हो रहा है कि एक प्रशिक्षित पुलिस बल सूर्यास्त के बाद किसी कुख्यात अपराधी को गिरफ्तार करने उसके ही गढ़ में जाएगी. त्रासदी का पूर्वाभास हो गया था. हादसे में शहीद सभी पुलिसकर्मियों के परिवार वालों के लिए मैं गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं.'







राहुल गांधी ने योगी सरकार पर बोला था हमला

इससे पहले राहुल गांधी (Rahul Gnadhi)  ने इस घटना को लेकर राज्य सरकार को घेरा था. उन्होंने शुक्रवार को ट्वीट किया, ‘उत्तर प्रदेश में गुंडाराज का एक और प्रमाण. जब पुलिस सुरक्षित नहीं, तो जनता कैसे होगी?’ उन्होंने कहा, ‘मेरी शोक संवेदनाएं मारे गए वीर शहीदों के परिवारजनों के साथ है और मैं घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं.’ वहीं, पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी इस मामले को लेकर आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश में अपराधी बेखौफ हो चुके हैं और आम लोग एवं पुलिस सुरक्षित नहीं हैं.

एनकाउंटर में 8 पुलिसकर्मी हुए थे शहीद

गौरतलब है कि गुरुवार की रात में कानपुर के चौबेपुर थान के बिकरू गांव एक व्यक्ति की शिकायत पर कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे को पकड़ने गई कानपुर पुलिस टीम पर बदमाशों ने छत से अकस्मात गोलियां चलाना शुरू कर दिया था. इसमें एक पुलिस क्षेत्राधिकारी, तीन उप-निरीक्षक और चार कांस्टेबल 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज